• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 1

जीवनभर की बचत पर नोटबंदी से लगी चपत

Life along saving slap by Notbandi - Jodhpur News in Hindi

जोधपुर। जिले के देणोक गांव के बरसिगों का बास निवासी कालूराम प्रजापत को पता ही नहीं चला की उसकी अंटी में पड़े वर्ष 1991-92 में आरबीआई के जारी पांच सौ रुपए के नोट कब के बंद हो गए। जब कालूराम अपनी जीवनभर की बचत की पूंजी लेकर कस्बे में संचालित मरुधरा ग्रामीण बैंक में गया तो, वहां लोगों के लिए चर्चा का विषय बन गया। पांच सौ रुपए के सात नोट देखने में काफी साल पुराने तथा आरबीआई के तत्कालीन गर्वनर एस. वेंकटरमन (1990-1992) के समय जारी हुए थे। इन नोटों के चलन पर पहले से रोक लगी थी। इसलिए बैंक कर्मचारियों ने इन नोट लेने से इनकार कर दिया। बैंककर्मियों ने कालूराम को आरबीआई की किसी शाखा में जमा कराने का जवाब देकर रवाना किया। थका-हारा बैंक से बाहर निकला कालूराम इस बात को समझ ही नहीं पाया कि क्यों उसकी गाढ़ी कमाई से बचाया हुआ बचत का पैसा अब उसके काम का ही नहीं रहा।



यह भी पढ़े :गंगा में मिले फाड़कर फेंके हुए हजार रुपये के नोट

यह भी पढ़े :बाबुओं के घर से करोड़ों निकले, एक ही विकल्प था, काले धन को कागज कर दूं: PM मोदी

यह भी पढ़े

Web Title-Life along saving slap by Notbandi
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: life, along, saving, slap, note ban, jodhpur, , hindi news, news in hindi, breaking news in hindi, jodhpur news in hindi
Khaskhabar Rajasthan Facebook Page:
स्थानीय ख़बरें

राजस्थान से

प्रमुख खबरे

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2022 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved