• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 1

राजस्थान की ऐतिहासिक विरासत के संरक्षण और सुरक्षा के लिए एक पहल, यहां पढ़ें

An initiative for the preservation and protection of the historical heritage of Rajasthan, - Jaipur News in Hindi

जयपुर। 'डिजिटल मैपिंग ऑफ मॉन्यूमेंट्स ऑफ राजस्थान' कार्यक्रम के दौरान गुरूवार को जवाहर कला केंद्र (जेकेके) के फेसबुक पेज पर 'मैप आवर राजस्थान प्रतियोगिता' का आगाज हुआ। यह प्रतियोगिता कला एवं संस्कृति विभाग, राजस्थान सरकार, जेकेके और डिज़ाइन कॉहार्ट द्वारा इंडिया लॉस्ट एंड फाउंड (आईएलएफ) के सहयोग से आयोजित की जा रही है। इसका उद्देश्य क्राउड-क्रिएटिव कैम्पेन के माध्यम से राजस्थान के हेरिटैज मेप का निर्माण करना है। यह राजस्थान के प्रसिद्ध और कम ज्ञात विरासत स्थलों को रीडिस्कवर एवं शेयर करने और एंगेज रखने में मदद करेगा। प्रतियोगिता के लिए साइन अप करने की अंतिम तिथि 14 नवंबर 2020 है। यह प प्रतियोगिता 15 नवंबर 2020 से 15 जनवरी 2021 तक आयोजित की जाएगी।

राजस्थान सरकार के कला एवं संस्कृति मंत्री डॉ. बी डी कल्ला ने कहा कि स्मारक केवल किलों और महलों तक सीमित नहीं है, आम लोगों ने भी अनेक स्मारक बनाए हैं। आज भी इन्हें बावड़ियों, मंदिरों, कुओं, मठों आदि के रूप में देखा जा सकता है। राजस्थान के दूर दराज स्थानों में, ऐसे कई स्मारक हैं जिनके बारे में आम लोगों और सरकार को कम जानकारी है। इन स्मारकों के विकास और संरक्षण के लिए डिजिटल मैपिंग की पहल अच्छी होगी, इससे पर्यटन क्षमता में वृद्धि होगी और क्षेत्र का आर्थिक रूप से विकास होगा।

कला एवं संस्कृति विभाग, राजस्थान सरकार की शासन सचिव और जेकेके महानिदेशक मुग्धा सिन्हा ने कहा कि इस पहल का उद्देश्य कोरोनो वायरस के इस कठिन समय में लोगों को एकजुट करना और कला एवं पुरातत्व में टेक्नोलॉजी का प्रभावी ढंग से उपयोग करना है। यह हमारे स्मारकों के संरक्षण एवं डिजिटलीकरण में मदद करेगा, विशेष रूप से ऐसे स्मारक जो अल्पज्ञात हैं। कोई भी विभिन्न स्मारकों पर जाकर और किसी भी डिजिटल डिवाइस से फोटो ले सकता है। प्रतियोगिता में अनुभवहीन, गृहणियां, छात्र अथवा प्रोफेशनल्स भाग ले सकते हैं।

प्रख्यात फोटोग्राफर, आईएलएफ के अमित पसरीचा ने कहा, "मैप आवर राजस्थान' प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए आईएलएफ के फेसबुक पेज (@IndiaLostFound) और इंस्टाग्राम पेज (@indialostandfound) को लाईक और फोलो करें। उसके बाद इंस्टाग्राम पेज पर बायो में दिए लिंक या फेसबुक पेज पर पिन पोस्ट पर क्लिक करें। इससे एक फॉर्म खुलेगा जिसमें आवश्यक डीटेल्स भरनी होगी और राजस्थान के उस जिले का चयन करना होगा जिसकी डिजिटल मैपिंग करनी है। पंजीकरण करने पर प्रत्येक प्रतिभागी को प्रतियोगिता के नियमों और दिशा-निर्देशों का एक डॉकेट प्राप्त होगा। इस प्रतियोगिता में विभिन्न श्रेणियों में विजेताओं और उपविजेताओं के लिए पुरस्कार होंगे। ये श्रेणियां हैं - द क्विकसिल्वर (फास्टेस्ट डेटाबेस कम्पलीशन), द शार्पशूटर (कॉम्प्रिहेंसिव डेटाबेस), द शटरबग (सर्वश्रेष्ठ चित्र), द हिडन जेम (दुर्लभतम खोज), द सेवियर (मोस्ट थ्रेटनड साइट), द मल्टीप्लायर (डबल द नंबर ऑफ एंट्रीज) और द रेंजर (पूर्ण रूप से उप-शहरी या ग्रामीण खोज)। प्रतियोगिता के अंत में चयनित प्रविष्टियों की प्रदर्शनी भी आयोजित की जाएगी।"

इस पहल के लिए विभिन्न आर्किटेक्ट्स, इतिहासकारों, फ़ोटोग्राफ़रों, कहानीकारों सहित अन्य लोगों ने वीडियो संदेश के माध्यम से अपना समर्थन साझा किया।


ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-An initiative for the preservation and protection of the historical heritage of Rajasthan,
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: heritage of rajasthan, jaipur news, jaipur hindi news, hindi news, news in hindi, breaking news in hindi, jaipur news, jaipur news in hindi, real time jaipur city news, real time news, jaipur news khas khabar, jaipur news in hindi
Khaskhabar Rajasthan Facebook Page:
स्थानीय ख़बरें

राजस्थान से

प्रमुख खबरे

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2021 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved