• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 2

जोकोविक ने कहा, मैं जब तक पिता और पति नहीं बना तब तक...

बेलग्रेड (सर्बिया)। साल के तीसरे ग्रैंडस्लैम टेनिस टूर्नामेंट विंबलडन का खिताब अपने नाम करने वाले सर्बिया के स्टार टेनिस खिलाड़ी नोवाक जोकोविक का कहना है कि वे चोट की समस्याओं के दौरान मानसिक बाधाओं से भी जूझे हैं। बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, विंबलडन फाइनल में जीत हासिल करने के बाद जोकोविक ने अपने दोस्तों और परिजनों को एक भावुक पत्र लिखा।

जोकोविक ने अपनी मानसिक बाधाओं को पार करने में सफल रहने का श्रेय टेनिस, परिवार और प्राथमिकताओं के बीच बनाए संतुलन को दिया। अपने पत्र में 31 वर्षीय टेनिस खिलाड़ी ने लिखा, मैं कहीं और से ही अपनी समस्याओं का समाधान ढूंढने की कोशिश कर रहा था और सारे समाधान मेरे अंदर ही थे।

जोकोविक ने जब विंबलडन के रूप में अपने करियर का 13वां ग्रैंडस्लैम जीता तब उनका तीन साल का बेटा भी कोर्ट पर मौजूद था। इस पर उन्होंने कहा कि मैं जब तक एक पिता और पति नहीं बना तब तक मेरे जीवन का केंद्र टेनिस ही था। उन्होंने कहा, मैंने सोचा और प्रार्थना की थी कि एक दिन मैं अपने बेटे के सामने ग्रैंडस्लैम का खिताब जीतूंगा।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-Novak Djokovic writes an emotional letter to his friends and family members
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: novak djokovic, emotional letter, friends and family members, grand slam, tennis tournament, wimbledon, swiss open, mandy minella, sports news in hindi, latest sports news in hindi, sports news
Khaskhabar.com Facebook Page:

खेल

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2018 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved