• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 1

क्या सट्टेबाजी भारत के प्रत्येक राज्य में कानूनी है?

Is betting legal in every state of India? - Sports News in Hindi

सट्टेबाजी इन दिनों भारत में बहुत लोकप्रिय है और बहुत से लोगों ने ऑनलाइन दांव लगाना शुरू कर दिया है।

MyBetting के आंकड़ों के अनुसार, भारत में लगभग 14 करोड़ लोग नियमित रूप से सट्टा लगाते हैं। कुछ साल पहले तेलंगाना, कर्नाटक, महाराष्ट्र जैसे राज्यों में सट्टेबाजी अधिक लोकप्रिय थी। लेकिन क्या सट्टेबाजी भारत के सभी हिस्सों में कानूनी है?

भारत में सट्टेबाजी कानून
भारत में सट्टेबाजी एक बहुत ही गहरा और अस्पष्ट विषय रहा है क्योंकि सरकार द्वारा कोई स्पष्ट नियम या कानून उपलब्ध नहीं हैं। सरकार ने भारत में सट्टेबाजी को विनियमित नहीं किया है।

1867 के सार्वजनिक जुआ अधिनियम के अनुसार, भारत में सार्वजनिक घरों में जुआ खेलना प्रतिबंधित है। जुए का घर रखने वाला कोई भी व्यक्ति सजा और कारावास के लिए उत्तरदायी है।

इस कानून में एक खामी है क्योंकि इसमें ऑनलाइन सट्टेबाजी के बारे में कुछ भी उल्लेख नहीं है। इसलिए लोगों ने भारत में कानूनी रूप से ऑनलाइन दांव लगाने का अपना तरीका खोज लिया है। लेकिन क्या यह नियम देश के हर राज्य के लिए समान है?

सट्टेबाजी पर भारतीय राज्य के कानून
केंद्र सरकार ने राज्य सरकारों को अपने राज्य के लिए सट्टेबाजी कानून तय करने के लिए अधिकृत किया है।

2022 तक, गोवा, दमन और सिक्किम ऐसे तीन राज्य हैं जहां भारत में ऑनलाइन सट्टेबाजी कानूनी है।

अन्य राज्यों के लिए, लोग भारत में ऑनलाइन सट्टेबाजी ऐप(online betting apps in India) का उपयोग करके दांव लगाते हैं जो वैश्विक सट्टेबाजों द्वारा प्रदान किए जाते हैं और भारतीय रुपये स्वीकार करते हैं।

अधिकांश राज्यों ने कौशल आधारित खेलों जैसे घुड़दौड़ या ताश के खेल जैसे अंदर बहार को अनुमति देने का विकल्प चुना है, जिसमें जीतने के लिए खिलाड़ियों के कौशल की आवश्यकता होती है।

जिन खेलों में खिलाड़ियों से किसी कौशल की आवश्यकता नहीं होती है, जैसे कि रूलेट या लॉटरी आदि को भारत में कानूनी नहीं माना जाता है।

भारत में कई अलग-अलग बेटिंग ऐप उपलब्ध हैं जैसे बेटवे ऐप, 22बेट ऐप, पैरिमच ऐप जो बहुत ही अच्छी बेटिंग फंक्शनलिटी प्रदान करता है और भारतीय पंटर्स के लिए प्रक्रिया को आसान बनाता है।

मोबाइल उपकरणों की आसान उपलब्धता, सस्ता इंटरनेट कनेक्शन, हिंदी या भारतीय भाषाओं में बेटिंग ऐप की उपलब्धता, यूपीआई, पेटीएम, गूगल पे आदि जैसे डिजिटल भुगतान वॉलेट ने लोगों के लिए ऑनलाइन दांव लगाना आसान बना दिया है।

भारत में ऑनलाइन सट्टेबाजी का भविष्य
रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में दुनिया की ऑनलाइन मोबाइल गेमिंग आबादी का लगभग 13% हिस्सा है।

यदि सरकार द्वारा इसे विनियमित किया जाता है तो भारतीय बाजार में सट्टेबाजी उद्योग के बढ़ने की बहुत बड़ी संभावना है।

क्रिकेट भारत में सट्टेबाजी के लिए सबसे प्रसिद्ध खेल है और अधिकांश भारतीय आईपीएल और प्रमुख क्रिकेट लीग जैसे आयोजनों पर दांव लगाते हैं।

हाल ही में कांग्रेस के एक नेता ने भारत में ऑनलाइन जुए को नियंत्रित करने के लिए बिल पेश किया था।

इन चरणों को देखते हुए, हम आशा करते हैं कि ऑनलाइन सट्टेबाजी को शायद भारत सरकार द्वारा वैध कर दिया जाएगा।

लेकिन, उपयोगकर्ता सुरक्षा और जुए की लत जैसे नकारात्मक मापदंडों के बारे में अभी भी चिंताएं बनी हुई हैं, जिससे अधिक नुकसान हो सकता है। ऑनलाइन जुआ भी मनी लॉन्ड्रिंग जैसे कपटपूर्ण लेनदेन का एक कारण बन सकता है।

लेकिन यह एक बहुत ही पेचीदा फैसला है और इस समय कोई निष्कर्ष नहीं निकाला जा सकता है।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-Is betting legal in every state of India?
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: is betting legal in every state of india?, sports news in hindi, latest sports news in hindi, sports news
Khaskhabar.com Facebook Page:

खेल

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2022 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved