• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 1

अटलांटा से टोक्यो तक कर्नाटक के इस संस्थान ने दिए हैं 7 ओलंपियन

From Atlanta to Tokyo, this Ktaka institute has sent 7. - Sports News in Hindi

बैंगलुरू| कर्नाटक के मंगलुरु जिले के छोटे से शहर मूडबिद्री में एक संस्था ने 1996 अटलांटा और 2020 टोक्यो ओलंपिक के बीच सात खिलाड़ियों को खेलों के महाकुंभ मं भेजने का गौरव हासिल किया है।

मूडबिद्री में अल्वा एजुकेशन फाउंडेशन के दो खिलाड़ी शुभा वेंकटेशन और धनलक्ष्मी शेखर टोक्यो में भारत के एथलेटिक्स दल का हिस्सा हैं और 4 गुणा 400 मीटर मिश्रित रिले स्पर्धा में भाग लेंगे।

200 एकड़ में फैले और तीन परिसरों में फैले इस फाउंडेशन ने अब तक पूरे देश से 5,000 खिलाड़ियों को अपनाया है।

ओलंपिक में देश का प्रतिनिधित्व करने वाले संस्थान के उल्लेखनीय खिलाड़ियों में सतीशा राय (1996, अटलांटा) और एमआर पूवम्मा (2008 बीजिंग और 2016 रियो) शामिल हैं।

भारोत्तोलक राय 16वें स्थान पर रहते हुए ओलंपिक में जगह बनाने वाले संस्था के पहले खिलाड़ी थे। राय ने 1998 के राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण और दो रजत पदक जीते और बाद में उन्हें अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित किया गया। वह वर्तमान में यूनियन बैंक में महाप्रबंधक के रूप में कार्यरत हैं।

भारत अग्रणी धाविका एमआर पूवम्मा को 2008 बीजिंग ओलंपिक के लिए 400 मीटर मिश्रित रिले में चुना गया। इसी इवेंट में उन्हें 2016 के ओलंपिक के लिए भी चुना गया था। पूवम्मा अर्जुन पुरस्कार विजेता हैं और उन्होंने एशियाई चैंपियनशिप का खिताब जीता है। चोट के कारण वह टोक्यो ओलंपिक से चूक गईं।

तमिलनाडु में जन्मे धरुन और मोहन कुमार ने 2016 रियो में क्रमश: 400 मीटर बाधा दौड़ और 400 मीटर रिले स्पर्धा में भाग लिया। एशियाई खेलों में रजत पदक विजेता धरुन के नाम अभी भी अखिल भारतीय विश्वविद्यालय का रिकॉर्ड है। मोहन कुमार ने तीन अंतरराष्ट्रीय चैंपियनशिप जीती हैं।

कॉमनवेल्थ गेम्स चैंपियन अश्विनी अकुंजी ने 2016 रियो में 4 गुणा 400 बाधा दौड़ में हिस्सा लिया था।

वर्तमान में, तमिलनाडु से धनलक्ष्मी शेखर और शुभा वेंकटेशन, दोनों टोक्यो ओलंपिक एथलेटिक्स दल का हिस्सा हैं।

संस्था के संस्थापक डॉ. मोहन अल्वा, जो स्वयं एक खिलाड़ी थे, ने खिलाड़ियों को प्रशिक्षित करने के लिए एक खेल सुविधा के निर्माण का सपना देखा था।

1984 में, उन्होंने एकलव्य स्पोर्ट्स क्लब की शुरूआत की, जिसने खिलाड़ियों को गोद लिया और प्रशिक्षित किया। 1994 में, उन्होंने शिक्षा संस्थानों की शुरूआत की और आज, फाउंडेशन प्राथमिक स्कूली शिक्षा से लेकर स्नातकोत्तर और व्यावसायिक पाठ्यक्रमों तक की शिक्षा प्रदान करता है।

संस्था हर साल अंतरराष्ट्रीय चैंपियनशिप के लिए प्रशिक्षण के लिए देश भर से 600-700 खिलाड़ियों को गोद लेती है। इन बच्चों को कोचिंग, शिक्षा, छात्रावास, भोजन की सुविधा मुफ्त दी जाती है।

डॉ मोहन अल्वा ने आईएएनएस से कहा, खेल का समर्थन करने के लिए मेरे अंदर सिर्फ एक पागल भावना थी जिसने मुझे एक खेल फाउंडेशन की स्थापना करने के लिए प्रेरित किया। चूंकि गोद लिए गए खिलाड़ियों की फीस का भुगतान करना बहुत मुश्किल था, इसलिए हमने अपने स्वयं के शैक्षणिक संस्थान खोले।

चूंकि उस समय कैंपस में रनिंग ट्रैक नहीं थे, इसलिए एथलीटों को अभ्यास के लिए पड़ोसी उडुपी और मंगलुरु शहरों में ले जाना पड़ा। उसे अभी भी याद है कि कैसे वह एक हाई जम्पर के प्रशिक्षण के लिए एक टेंपो वाहन में गद्दों का परिवहन करता था।

लगभग 25 विषयों में छात्रों को प्रशिक्षण दिया जाता है। चयन राष्ट्रीय स्तर के खेल आयोजनों में किया जाता है और खिलाड़ियों को ठहरने और खाने की पेशकश की जाती है।

डॉ अल्वा ने कहा, जब मैंने घोषणा की कि ओलंपियन फाउंडेशन से निकलेंगे, तो कुछ ने तालियां बजाईं और कुछ ने इसे हंसी में उड़ा दिया। अब 20,000 छात्र फाउंडेशन में पढ़ते हैं और 18,000 आवासीय छात्रावास सुविधाओं में रहते हैं।

फाउंडेशन द्वारा अपनाई गई शुभा वेंकटेशन और धनलक्ष्मी, दोनों ही संस्था की प्रशंसा करते हैं। उन्होंने आईएएनएस से कहा, हम अल्वा के साथ जुड़कर बहुत खुश हैं। अध्यक्ष को खेल पसंद हैं और खिलाड़ियों का समर्थन करते हैं। हमारी सभी जरूरतों का ध्यान रखा जाता है। फाउंडेशन हमारा दूसरा घर है।

परिसर एक मिनी-इंडिया की भावना देता है क्योंकि देश भर से खिलाड़ियों का चयन किया जाता है, जिसमें उत्तर कर्नाटक से आने वाले पहलवान, पूर्वोत्तर से भारोत्तोलक, केरल के स्प्रिंटर्स और महाराष्ट्र के सौराष्ट्र से लंबी दूरी के धावक शामिल हैं। इसमें पंजाब और हरियाणा के भी कई खिलाड़ी शामिल हैं।

--आईएएनएस

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-From Atlanta to Tokyo, this Ktaka institute has sent 7.
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: from, atlanta, tokyo, ktaka, institute, sent 7\r\n, sports news in hindi, latest sports news in hindi, sports news
Khaskhabar.com Facebook Page:

खेल

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2022 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved