• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 2

ISL में बरकरार है दक्षिण भारतीय क्लबों की बादशाहत

बेंगलुरू। इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) के 2014 में अस्तित्व में आने के बाद से भारतीय फुटबॉल ने एक नई राह पकड़ी है और सकारात्मक बदलाव की ओर कदम बढ़ाया है। इसने ना सिर्फ घरेलू फुटबॉल की दशा को सुधारा है बल्कि इसके आने से दक्षिण भारत में भी फुटबॉल को एक नया जीवन मिला है। दक्षिण से भारतीय टीम आईएम विजयन, टी. अब्दुल रहमान और पीटर थंगराज जैसे दिग्गज खिलाड़ी निकले हैं लेकिन 21वीं सदी में इस क्षेत्र में फुटबॉल की लोकप्रियता में गिराव देखने को मिला जिसके कारण कई क्लब बंद हो गए।

आईएसएल ने दक्षिण भारत के फुटबॉल प्रशंसकों में नई जान फूंकी और इस क्षेत्र की टीमों ने लीग में भी दमदार प्रदर्शन किया है। दक्षिण भारत से एक टीम पिछले चार संस्करणों के फाइनल में पहुंची है और चेन्नईयन एफसी दो बार खिताब जीतने में भी कामयाब रहा है। चेन्नईयन ने 2015 और 2017-18 सीजन में खिताब अपने नाम किया जबकि केरला ब्लास्टर्स को 2014 और 2016 के फाइनल में हार का सामना करना पड़ा।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-South Indian football clubs dominates in ISL
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: south indian football clubs, isl, indian super league, im vijayan, coach john gregory, chennaiyin fc, kerala blasters, sports news in hindi, latest sports news in hindi, sports news
Khaskhabar.com Facebook Page:

खेल

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2018 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved