• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 2

‘खराब स्तर, अनुभव की कमी के कारण पीछे हैं भारतीय रेफरी’

कोलकाता। खराब स्तर और अनुभव हासिल करने के लिए मिले अवसरों की कमी के कारण भारत में रेफरियों का स्तर नीचे है और इसी कारण देश के रेफरी विश्व कप में जगह नहीं बना पा रहे हैं। यह कहना है कोमालेश्वरम शंकर का, जिन्होंने 2002 विश्व कप में खेले गए तीन मैचों में सहायक रेफरी का काम किया था।

शंकर ने आईएएनएस को फोन पर दिए बयान में कहा कि हमारे पास अच्छे रेफरी हैं और देश में रेफरिंग सही दिशा में जा रही है। हालांकि, आधुनिक समय में रेफरिंग अधिक वैज्ञानिक हो गई है और इसमें आपके पास अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंटों का अनुभव होना जरूरी है। इसके बिना आप विश्व कप के मैचों में आधिकारिक रेफरी का अवसर हासिल नहीं कर सकते।

उन्होंने कहा, हमें भारतीय रेफरियों को अंतरराष्ट्रीय स्तर का अनुभव हासिल करने के लिए अधिक अवसर देने की जरूरत है। उन्हें नियमित रूप से उच्च स्तरीय कोंटिनेंटल मैचों का कार्यभार देना चाहिए। मेरा मानना है कि हम उस स्तर पर जल्द ही पहुंच सकते हैं। हमारे पास बस अनुभव हासिल करने के लिए मिले अवसरों की कमी है।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-Komaleswaran Sankar says, Poor standards, lack of exposure keep Indian football refereeing down
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: komaleswaran sankar, poor standards, lack of exposure, indian football refereeing, 2002 world cup, fifa world cup 2018, chennai, sports news in hindi, latest sports news in hindi, sports news
Khaskhabar.com Facebook Page:

खेल

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2018 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved