• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 2

एंडरसन ने इसलिए लिया ऑस्ट्रेलिया, भारत और श्रीलंका का नाम

लंदन। दाएं हाथ के दिग्गज अंग्रेज तेज गेंदबाज जेम्स एंडरसन का मानना है कि इंग्लैंड के वर्तमान पिच घरेलू टीम के खिलाडिय़ों के लिए और अधिक मददगार होने चाहिए। इंग्लैंड की टीम करीब दो दशक में पहली बार घर में प्रतिशष्ठित एशेज सीरीज को जीतने में कामयाब नहीं हो पाई। इंग्लैंड को मैनचेस्टर के ओल्ड ट्रैफर्ड मैदान पर हुए चौथे मैच में 185 रनों से करारी हार झेलनी पड़ी जबकि तीसरे मैच में भी मेजबान टीम का प्रदर्शन खराब रहा था।

हालांकि, ऑलराउंडर बेन स्टोक्स के दमदार प्रदर्शन ने इंग्लैंड को सीरीज हारने से बचा लिया। क्रिकइंफो ने एंडरसन के हवाले से बताया कि मैं समझता हूं कि हमारे पिचों ने ऑस्ट्रेलिया की टीम को ज्यादा मदद पहुंचाई। मैं पिचों पर ज्यादा घास देखना चाहता था क्योंकि यहां इसी तरह के पिच होते हैं। लंकाशायर में सारे टिकट बिक रहे हों तो आपको फ्लैट पिच बनाना पड़ता है, लेकिन एक खिलाड़ी के लिए यह बहुत दुखद है।

एंडरसन ने कहा, ऑस्ट्रेलिया में हमें जो पिच देखने को मिलते हैं वो मेजबान टीम के अनुकूल होते हैं। वे यहां आए और उन्हें वैसे ही पिच मिले जैसा कि वे चाहते थे। मुझे यह सही नहीं लगता। पिछले साल भारत के खिलाफ हमें सही पिच मिले। एक देश के रूप में हमें इसका लाभ उठाना चाहिए क्योंकि जब आप ऑस्ट्रेलिया, भारत या श्रीलंका जाते हैं तो वे अपने मुताबिक पिच बनाते हैं। एंडरसन चोट के कारण पहले मैच के बाद ही सीरीज से बाहर हो गए थे। ऑस्ट्रेलिया सीरीज में फिलहाल 2-1 से आगे चल रहा है।

स्ट्रॉस और बायकॉट को मिली नाइटहुड की उपाधि

ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-Ashes Series 2019 : James Anderson not satisfied with england pitches
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: ashes series 2019, james anderson, england pitches, england, australia, england vs australia, fast bowler james anderson, andrew strauss, jeoffrey boycott, sports news in hindi, latest sports news in hindi, sports news
Khaskhabar.com Facebook Page:

खेल

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2019 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved