हरियाणा में 5000 पुलिस कर्मी होंगे साइबर प्रशिक्षित, इस वर्ष किया 15 हज़ार शिकायतों का निवारण

www.khaskhabar.com | Published : शुक्रवार, 16 सितम्बर 2022, 2:43 PM (IST)

चंडीगढ़ । ओ पी सिंह, जो साइबर अपराध के लिए राज्य नोडल अधिकारी हैं, ने गुरुवार को साइबर अपराध के लिए 29 साइबर पुलिस थाना एसएचओ और सभी जिला नोडल अधिकारियों (डीएसपी और एएसपी) की बैठक की अध्यक्षता की और अधिकारियों से साइबर अपराधों की शिकायतों का अधिक तेजी से निपटान करने का आह्वान किया। सिंह बताते हैं कि इस साल अगस्त तक साइबर क्राइम की 36,996 शिकायतें साइबर क्राइम हेल्पलाइन नंबर 1930, पोर्टल साइबर क्राइम डॉट जीओवी डॉट इन, 309 साइबर-डेस्क और 29 साइबर पुलिस स्टेशनों पर प्राप्त हुई थीं। इनमें से 20,484 प्रक्रियाधीन हैं और 15,057 का निपटारा किया जा चुका है।

राज्य नोडल अधिकारी ओपी सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि इस साल अगस्त तक राज्य में हेल्पलाइन नंबर 1930, साइबर क्राइम पोर्टल, 309 साइबर डेस्क और 29 साइबर पुलिस थानों पर साइबर अपराध से संबंधित 36,996 शिकायतें प्राप्त हुई थीं। उनमें से 20,000 से अधिक पर जांच चल रही है और 15,057 का निपटारा कर दिया गया है।
जानकारी अनुसार, राज्य अपराध शाखा के साइबर पुलिस स्टेशन, पानीपत और सोनीपत, शिकायतों के अधिकतम निपटान करने वाली शीर्ष तीन इकाइयों में शामिल हैं। इसके अलावा, जांच पूरी करने वाले शीर्ष तीन जिलों में करनाल, सिरसा और भिवानी शामिल हैं।
इसके अतिरिक्त जानकारी देते हुए बताया कि मीटिंग में हाई वैल्यू के 88 मामलों पर काम करने पर विशेष जोर दिया, जिसमें धोखाधड़ी की राशि 5 लाख रुपये से अधिक थी। उन्होंने ऐसे आठ मामलों के जांच अधिकारियों की सराहना की जिन्हें सफलतापूर्वक सुलझा लिया गया और 58 जालसाजों को गिरफ्तार किया गया।

एडीजीपी ने उपस्थित अधिकारियों को केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा संचालित साइबर सेफ पोर्टल का अधिक से अधिक उपयोग करने और साइबर अपराध करने के लिए दुरुपयोग किए जाने वाले फोन नंबर अपलोड करने के लिए कहा ताकि इन्हें अवरुद्ध किया जा सके और इसके द्वारा उत्पन्न लेनदेन का डेटा जांच अधिकारियों द्वारा मामलों का पता लगाने के लिए उपयोग किया जा सके।

इस साल अगस्त तक इस तरह के 8,516 नंबर इस पोर्टल पर अपलोड किए जा चुके हैं। गुरुग्राम, फरीदाबाद और रेवाड़ी उन शीर्ष तीन जिलों में शामिल हैं, जिन्होंने साइबर अपराध करने में वाले फ़ोन नंबरों को सबसे अधिक संख्या में पोर्टल पर अपलोड किया किया। उन्होंने साइबर क्राइम हेल्पलाइन नंबर 1930 पर शिकायतों पर तेजी से कार्रवाई करने और अगस्त तक लगभग 13 करोड़ रुपये की वसूली के लिए साइबर इकाइयों की प्रशंसा की।

उन्होंने कहा कि लोगों को 1930 नंबर के बारे में जागरूक किया जाना चाहिए ताकि वे साइबर धोखाधड़ी की शीघ्र रिपोर्ट कर सकें और फर्जी खातों से साइबर अपराधियों द्वारा पैसे निकालने से पहले धोखाधड़ी के पैसे को रोका जा सके।
इसके अतिरिक्त नोडल अधिकारी ने जानकारी दी कि बढ़ते साइबर अपराधों के बीच, हरियाणा पुलिस की राज्य अपराध शाखा ने राष्ट्रीय साइबर अपराध प्रशिक्षण केंद्र (साइट्रेन) के पोर्टल पर साइबर अपराध जांच में 5,000 से अधिक इच्छुक पुलिसकर्मियों और अधिकारियों के ऑनलाइन प्रशिक्षण में तेजी लाने का निर्णय लिया है, जिसे केंद्र सरकार द्वारा विकसित किया गया है।

यह कदम इसलिए शुरू किया गया है ताकि पुलिस नेटवर्क वाले उपकरणों के उपयोगकर्ताओं की बढ़ती संख्या का सामना कर सके, जिससे साइबर अपराध अधिक संख्या में हो सकते हैं। साइबर अपराधों पर अपराध शाखा की जागरूकता गतिविधियों के बाद, राज्य में पिछले कुछ महीनों में शिकायतों की रिपोर्टिंग में 136 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।


ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे