करोड़ों रुपए की ठगी के 23 आरोपी गिरफ्तार, फर्जी अंतरराष्ट्रीय ऑनलाइन कॉल सेंटर से फोन कर लोगों को बनाते थे शिकार

www.khaskhabar.com | Published : बुधवार, 26 फ़रवरी 2020, 2:20 PM (IST)

जयपुर। कमिश्ररनेट की स्पेशल टीम (सीएसटी) और साउथ जिला पुलिस की टीम ने संयुक्त ने सोमवार देर रात को विदेशी लोगों से करोड़ों रुपये की ठगी करने वाले फर्जी अंतरराष्ट्रीय ऑनलाइन कॉल सेंटर का खुलासा करते हुए 23 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस टीम ने आरोपियों से जगुआर कार, 25 कंप्यूटर, तीन लैपटॉप एलईडी, वारदात में प्रयुक्त सरवर राउटर समेत दो दर्जन मोबाइल बरामद किए गए है। फिलहाल आरोपियों से पूछताछ की जा रही है।
अतिरिक्त पुलिस आयुक्त प्रथम अशोक कुमार गुप्ता ने बताया कि मुखबिर से काफी दिनों से सूचना मिल रही थी कि शहर में कई स्थानो फर्जी इन्टरनेशनल काॅल संचालित किये जा रहे हैं जो काॅल सेन्टर के संचालकों के द्वारा विदेशी नागरिकों को निजी डाटा प्राप्त कर फर्जी तरिके से विदेशी नागरिकों को लोन स्वीकृत कराने के नाम पर बीट काइन के रूप में एवं चेक जमा होने पर दलालो के माध्यम से ठगी की जा रही है। इस पर कमिश्ररनेट की स्पेशल टीम (सीएसटी) सहित श्याम नगर व शिप्रापथ थाना पुलिस ने पृथक-पृथक विशेष टीमें गठित की गई।

जिस पर पुलिस ने पहली कार्रवाई श्यामनगर में की। जहां पुलिस ने दस इन्फोटेक आईटी समाधान के नाम से रानी सतीनगर के एक मकान में बेसमेन्ट में संचालित फर्जी काॅल सेन्टर पर देर रात्रि तक दबिश देकर 16 व्यक्ति और दूसरी कार्रवाई शिप्रापथ में स्काईवे आई-नेट सॉल्यूशंस प्राइवेट लिमिटेड नाम से संचालित फर्जी काॅल सेन्टर सात व्यक्तियों को गिरफ्तार कर फर्जी काॅल सेन्टर का गिरोह का भंडाफोड़ किया गया।

पुलिस उपायुक्त (अपराध) योगेश यादव ने बताया कि श्यामनगर इलाके से करण सिंह शेखावत कुनाल शर्मा, मोहम्मद सोयेब पटेल, अल्पेश नांढा, धीरज गुप्ता, मोहम्मद साजीद, लालरामहलुना, मीत भटट, लोकेन्द्र सिंह, राहुल खान, खुशवन्त सोनी, हिमांशु सोनी, नरेन्द्र पुरोहित, रविन्द्र द्विवेदी, सुभांशु प्रतापसिह, अनुप यादव को गिरफ्तार किया गया है।
गिरोह के सरगना करण सिंह शेखावत व कुनाल शर्मा द्वारा फर्जी काॅल सेन्टर चला कर विदेशी नागरिकों का डाटा आनलाईन लेकर ठगी की जा रही थी।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

वहीं शिप्रापथ इलाके से शाहनवाज, जितेन्द्र मिश्रा, अनु कुंजुमोन, पुलकित भाटिया, आशीष उप्रेती, मौहम्म्द हैदर सिद्धिकी सहित मुख्तार अंसारी को गिरफ्तार किया गया है। गिरोह का मुखिया महमूद खान व रमजान खान नागौर निवासी है जो इस फर्जी काॅल सेन्टर के डायरेक्टर हैं और राशिद खान कम्पनी का आईटी हैड है। दोनों फर्जी काॅल सेन्टर से पकड़े गए आरोपी अहमदाबाद, राजस्थान, जयपुर के रहने वाले हैं।

गिरफ्तार आरोपी शहनवाज उर्फ डेविड के द्वारा स्काईवे आई-नेट सॉल्यूशंस प्राइवेट लिमिटेड नाम से फर्जी काॅल सेन्टर संचालित किया जाकर अमरिकी लोगो से करोड़ों रूपये की ठगी की जाकर स्वयं के द्वारा सुपर लग्जरी कार जगुआर खरीदकर उपयोग में ली जा रही है।

आरोपियों द्वारा विदेशी नागरिकों का ऑनलाइन डाटा प्राप्त कर कम्प्यूटर सिस्टम में आई बीम साॅफ्टवेयर अपलोड कर इलेक्ट्रानिक उपकरणों का उपयोग कर आई बीम साॅफ्टवेयर के माध्यम से विदेशी नागरिकों को लोन उपलब्ध करवाने का झांसा देकर विदेशी नागरिकों के मोबाइल नम्बरों पर कम्पनी के सर्वर के माध्यम से वाॅइस मैसेज छोड़कर, विदेशी नागरिकों द्वारा ऑनलाइन रिकाॅल करने पर लोन की ब्याज दर कम बताकर पहली किस्त (डाॅलर), वॉलमार्ट, गुगल प्ले व स्टीम आदि गिफ्ट कार्ड के माध्यम से प्राप्त कर विदेशी नागरिकों के साथ ऑनलाइन धोखाधड़ी करते हैं।

ये भी पढ़ें - शर्मनाक! पत्नी से गैंगरेप और पति को पीट-पीटकर मार डाला