गहलोत सरकार दिल्ली में-किसान रोड़ पर - डाॅ. पूनिया

www.khaskhabar.com | Published : शनिवार, 14 दिसम्बर 2019, 6:24 PM (IST)

जयपुर । भारतीय जनता पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष डाॅ. सतीश पूनिया ने गहलोत सरकार पर अन्नदाता किसान की आवाज को अनसुनी करने का आरोप लगाते हुए कहा कि जहाँ राजस्थान का किसान बेहाल है, वहीं मुख्यमंत्री अपने मंत्रीमण्डल के साथ रामलीला मैदान, दिल्ली में राहुल गाँधी की हाजिरी लगाने में व्यस्त है और गहलोत सरकार किसानों की अनदेखी कर दिल्ली दरबार में अपने नम्बर बढ़ाने में मस्त है।

डाॅ. पूनिया ने कहा कि यूरिया की कालाबाजारी के कारण हाडौती क्षेत्र सहित पूरे राजस्थान का अन्नदाता किसान बेहद त्रस्त है। सरकार यूरिया उपलब्ध कराने की बजाय हाडौती क्षेत्र में खाद विक्रेताओं द्वारा अटैचमेंट के नाम पर किसानों को डीएपी लेने के लिये बाध्य करके करोड़ों रूपये की कालाबाजारी का खेल खेला जा रहा है, वहीं सरकार के द्वारा आँखे मूंदकर अन्नदाता की इस समस्या को अनदेखा किया जा रहा है।

उन्होंने अन्नदाता किसानों के पक्ष में आवाज उठाते हुए कहा कि प्रदेश में हालात इस कदर नियंत्रण के बाहर हो चुके है कि खाद विक्रेताओं के यहाँ किसानों की भीड़ उमड़ रही है, लेकिन कालाबाजारी के चलते अन्नदाता को यूरिया उपलब्ध नहीं करवाया जा रहा है। कल ही झालावाड़ जिले में एक किशोरी जो घण्टों से यूरिया लेने के लिए लाईन में खड़ी थी, वो हैरान और परेशान होकर बेहोश हो गई। लेकिन प्रशासन को कोई फर्क नहीं पड़ा।

डाॅ. पूनिया ने कहा कि इस कड़ाके की ठण्ड में करीब 10-12 डिग्री सेंटीग्रेड तापमान में किसानों को सुबह 4.00 बजे उठकर ही खाद विक्रेताओं के यहाँ लाईन में लगना पड़ रहा है। लेकिन घण्टों लाईन में लगे होने के बावजूद भी गरीब अन्नदाता को एक कट्टा यूरिया भी उपलब्ध नहीं हो पा रहा है।

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष ने अन्नदाता किसानों की राजस्थान सरकार द्वारा की जा रही अनदेखी पर करारा प्रहार करते हुए कहा कि प्रदेश में यूरिया की कालाबाजारी चरम पर है। एक ओर जहाँ गरीब किसानों का मददगार बनने का झूठा प्रचार करने वाली राजस्थान सरकार के मुख्यमंत्री व उपमुख्यमंत्री दोनों के ही बीच दिल्ली दरबार में नम्बर बढ़ाने की प्रतियोगिता चल रही है। वहीं इस जनविरोधी सरकार के द्वारा की जा रही उपेक्षा के कारण अन्नदाता किसान अपने आपको ठगा-सा महसूस कर रहा है।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे