प्रदेश में तीन चरण में होंगे सहकारी संस्थाओं के चुनाव

www.khaskhabar.com | Published : बुधवार, 04 दिसम्बर 2019, 6:46 PM (IST)

जयपुर। प्रदेश के सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना ने बुधवार को बताया कि राज्य में निर्वाचन योग्य सहकारी संस्थाओं के चुनाव तीन चरणों में आयोजित किए जाएंगे। उन्होंने बताया कि यह चुनाव दिसम्बर से जून माह तक सम्पन्न किए जाएंगे। उन्होने बताया कि तीन चरणों में लगभग 18 हजार सहकारी समितियों के चुनाव होंगे। जिसके द्वारा सहकारी समितियों के प्रतिनिधि चुने जाएंगे।

आंजना ने बताया कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सहकारी संस्थाओं के चुनाव समय पर कराने के निर्देश दिए थे। उन्होंने बताया कि सहकारी संस्थाओं में चुनाव से लोकतांत्रिक विकेन्द्रीकरण की भावना को और मजबूती मिलेगी। उन्होंने बताया कि प्रथम चरण में दिसम्बर-जनवरी माह में प्राथमिक सहकारी समितियों यथा बुनकर समिति, हाऊसिंग, बचत साख , क्रय विक्रय समितियों की सदस्य समितियां, केन्द्रीय सहकारी बैंकों की सदस्य समितियों, प्राथमिक सहकारी उपभोक्ता भण्डार, नागरिक सहकारी बैंक सहित अन्य प्रकार की लगभग 1500 सहकारी समितियों के चुनाव सम्पन्न कराए जाएंगे।

उन्होंने बताया कि द्वितीय चरण में फरवरी माह से प्रदेश की लगभग 6 हजार ग्राम सेवा सहकारी समितियों एवं क्रय विक्रय सहकारी समितियों के चुनाव प्रारम्भ किए जाएंगे। ग्राम सेवा सहकारी समितियों के चुनाव सम्पन्न होने के बाद केद्रीय सहकारी बैंकों, अपेक्स बैंक एवं राजफैड़ के चुनाव सम्पन्न होंगे। उन्होेंने बताया कि इसी अवधि के दौरान जिला सहकारी हॉलसेल भण्डार के चुनाव भी कराए जाएंगे।

सहकारिता मंत्री ने बताया कि तृतीय चरण में मई माह में 10 हजार से अधिक प्राथमिक दुग्ध सहकारी समितियों के चुनाव सम्पन्न करवाये जाएंगे। इसके बाद जिला दुग्ध उत्पादक संघ एवं आरसीडीएफ के चुनाव भी सम्पन्न होंगे। उन्होंने बताया कि सहकारी निर्वाचन प्राधिकरण को चुनाव की तैयारियों के निर्देश दे दिए गए है।

रजिस्ट्रार, सहकारिता, डॉ. नीरज के. पवन ने बताया कि निर्वाचन से शेष सहकारी संस्थाओं के चुनाव के लिए सभी जिला उप रजिस्ट्रार को इस संबंध में निर्वाचन अभ्यर्थना प्राप्त करने हेतु कहा गया है। उन्होंने बताया कि राज्य में चुनाव से संबंधित कुल पंजीकृत संस्थाओं की संख्या लगभग 25 हजार है।




ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे