अब खाने के पैकेट के साथ घर-घर पहुंचेगा स्वच्छता का संदेश

www.khaskhabar.com | Published : बुधवार, 04 दिसम्बर 2019, 5:43 PM (IST)

जयपुर। जयपुर के ज्यादा से ज्यादा नागरिक स्वच्छ सर्वेक्षण 2020 के बारे में जाने और स्वच्छता को अपने जीवन का हिस्सा बनाए। इसके लिए नगर निगम द्वारा एक नवाचार किया गया है। अब खाने के पैकेटों पर स्वच्छ सर्वेक्षण का लोगो एवं स्वच्छता की अपील करने वाला स्लोगन लगाकर भेजा जाएगा। बुधवार को नगर निगम के सभासद भवन में होटल, रेस्टोरेंट, विवाह स्थल एवं अस्पताल संचालकों के लिए आयोजित कार्यशाला में प्रशासक विजयपाल सिंह ने स्वच्छ सर्वेक्षण के प्रचार-प्रसार के लिए 6 स्टीकर लॉन्च किए।
इस तरह पंहुचेगा संदेश- फूड डिलीवरी फर्मों एवं सीधे रेस्टोरेंट/स्वीट शाॅप आदि द्वारा जो खाने का सामान घर-घर तक पहुंचाया जाता है उन डिब्बों पर यह आकर्षक स्टीकर लगाए जाएंगे। जिन पर ’हैरिटेज सिटी का पूरा हुआ सपना, अब स्वछता का खिताब करना है अपना‘, ’खाने के साथ, स्वच्छता भी रखे याद‘, ’क्या आप जानते हैं जयपुर शहर स्वच्छ सर्वेक्षण 2020 मेें भाग ले रहा है’ जैसे स्वच्छता जागरूकता संदेश लिखे हुए। कार्यशाला में आए फूड डिलीवरी फर्मों के प्रतिनिधियों से अपील की गई है कि वे खाने का पैकेट लेते समय, उस पर स्टीकर लगे होने की जांच कर लें यदि स्टीकर नहीं है तो संचालक से स्टीकर लगवाए।
रेस्टोरेंट खुद के स्तर पर भी कर सकते है तैयार- रेस्टोरेंट, होटल, मिष्ठान भण्डार संचालक आदि उक्त स्टीकरों की थीम और स्लोगनों में बदलाव किए बिना स्वयं के प्रतिष्ठान का नाम या लोगो भी इन स्टीकरों में शामिल कर सकते हैं।
स्वच्छ सर्वेक्षण की थीम पर सजाएं- प्रशासक विजयपाल सिंह ने सभी होटल, रेस्टोरेंट संचालकों से अपील की है कि वे अपने प्रतिष्ठानों को स्वच्छ सर्वेक्षण की थीम पर सजाएं ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग इससे जुड़ सकें। इसके लिए स्वच्छ सर्वेक्षण 2020 की थीम पर आधारित टेबल मेन्यू स्टैण्ड, स्टैण्डी, फ्लैक्स बैनर आदि का इस्तेमाल करें। प्रशासक ने कहा कि हजारों लोगों की पहुंच प्रतिदिन रेस्टोरेंट/होटल/मैरिज गार्डन/हाॅस्पिटल तक होती है। इसलिए आमजन में स्वच्छता के प्रति जागरूकता पैदा करने में इन संस्थानों की महत्वपूर्ण भूमिका हो सकती है।
इन बातों पर फोकस करें- सभी रेस्टोरेंट/होटल संचालक गीले एवं सूखे कचरे को अलग-अलग इकट़्ठा करें, अपने प्रतिष्ठानों के बाहर हरा एवं नीला डस्टबिन रखवाए। सिंगल यूज प्लास्टिक का प्रयोग नहीं हो। मैरिज गार्डनों मेें महिला एवं पुरुषों के लिए अलग-अलग शौचालय हो। मैरिज गार्डनों में एकत्रित होने वाले कचरे का सही निस्तारण हों। हाॅस्पिटलों में गीले एवं सूखे कचरे के साथ-साथ बायोमेडिकल वेस्ट को भी अलग से एकत्रित करके उसका निस्तारण किया जाए।
होटल एसोसिएशन ने ली जिम्मेदारी-वर्कशप मे होटल एसोसिएशन के अध्यक्ष ने कहा कि नगर निगम पर्यटक स्थलो पर कोई कार्यक्रम आयोजित करवाता है तो उसमें होटल एसोसियेषन पूरी तरह योगदान करेगा।
इस दौरान अतिरिक्त आयुक्त अरूण गर्ग सहित उपायुक्त, होटल, रेस्टोरेंट, मैरिज गार्डन तथा हाॅस्पिटलों के प्रतिनिधि एवं निगम के अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे