बंगाल-ओडिशा में चक्रवात ‘बुलबुल’ का तांडव, 3 लोगाें की मौत, PM मोदी, गृहमंत्री ने फोन पर की ममता बनर्जी से बात

www.khaskhabar.com | Published : रविवार, 10 नवम्बर 2019, 11:20 AM (IST)

नई दिल्ली। प्रचंड चक्रवाती तूफान 'बुलबुल' की वजह से ओडिशा सहित पश्चिम बंगाल में तीन लोगों के मारे जाने की जानकारी सामने आई है। इस चक्रवात ने दोनों राज्यों के तटीय जिलों में भारी तबाही मचाई, जिससे पेड़-पौधों के साथ हजारों घर और सैकड़ों फोन टावर क्षतिग्रस्त हो गए हैं। यह जानकारी केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा रविवार को जारी की गई है। पश्चिम बंगाल और ओडिशा से प्राप्त रिपोर्ट का हवाला देते हुए मंत्रालय ने जानकारी दी कि प्रचंड चक्रवात 'बुलबुल' बांग्लादेश की ओर बढ़ चुका है। हालांकि अभी भी उसके प्रभाव से पश्चिम बंगाल के दक्षिण 24परगना में 80 किलोमीटर की रफ्तार से तेज हवाएं चल रही हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से फोन पर बात कर स्थिति का जायजा लिया। मोदी ने टेलीफोन पर बातचीत के जरिए ममता बनर्जी को केंद्र की ओर से हरसंभव सहायता देने का आश्वासन दिया।उन्होंने ट्वीट किया कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से बुलबुल चक्रवाती तूफान के सिलसिले में बातचीत हुई। मैं सभी की सुरक्षा और कुशलता की प्रार्थना करता हूं। इसके साथ ही प्रधानमंत्री ने चक्रवाती तूफान के कारण भारी बारिश से फसल और संपत्ति को हुए भारी नुकसान का सामना कर रहे पूर्वी भारत की स्थिति की भी समीक्षा की।
केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने रविवार को राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से फोन पर बात की और हालात का जायजा लिया।हगृहमंत्री ने ट्वीट किया, "चक्रवात बुलबुल की चपेट में आने के कारण पूर्वी भारत की स्थिति पर पूरी तरह से निगरानी रखी जा रही है। हम लगातार केंद्रीय और राज्य राहत एजेंसियों के संपर्क में हैं। हमने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को हरसंभव मदद देने को लेकर बातचीत की है। इस प्रतिकूल मौसम का सामना कर रहे मैं उन तमाम लोगों के लिए ईश्वर से प्रार्थना करता हूं।


ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बताया कि तटीय क्षेत्र में किसी तरह के जान-माल की हानि की सूचना नहीं मिली है। चक्रवात का प्रमुख हिस्सा बंगाल से पार हो चुका है। वहीं उन्होंने परिस्थिति के सामान्य होने तक लोगों से घर के बाहर नहीं निकलने की अपील की है।
वहीं बड़े स्तर पर एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीमें राहत और बचाव के काम में जुटी हुई हैं। सैकड़ों लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया गया है। प्रदेश के कई हिस्सों में भारी बारिश हो रही है। पश्चिम बंगला के दक्षिण 24 परगना जिले में लगभग 200 लोगों ने कोलकाता पोर्ट ट्रस्ट के सागर पायलट स्टेशन में शरण ली है।


तूफान से प्रभावित गांवों के ग्रामीणों को कमांडर, पायलट और कर्मचारियों द्वारा भोजन परोसा गया।

यहां देखें फोटो...