बिहार भी है वायु प्रदूषण का शिकार! जागी नीतीश सरकार, 15 साल पुराने वाहन बैन

www.khaskhabar.com | Published : सोमवार, 04 नवम्बर 2019, 8:59 PM (IST)

पटना। लगता है दिल्ली में वायु प्रदूषण को लेकर मच रहा शोर बिहार भी पहुंच गया है। जिस तरह दिल्ली सरकार ने प्रदूषण के असर को कम करने के लिए आज से ऑड-ईवन स्कीम लागू कर दी, कुछ उसी तर्ज पर बिहार की नीतीश कुमार सरकार ने भी लोगों को राहत देने के मद्देनजर कदम उठाए हैं। दरअसल बिहार में सरकार ने 15 साल से ज्यादा पुराने व्यावसायिक वाहनों के परिचालन पर रोक लगा दी है।

ऐसे वाहन सडक़ों से हटा लिए जाएंगे। साथ ही निजी वाहनों को हर हाल में प्रदूषण जांच करानी होगी। यानी उन्हें नए सिरे से प्रदूषण नियंत्रण का प्रमाण पत्र लेना पड़ेगा। सरकार ने प्रदूषण पर काबू पाने के लिए कुछ और भी फैसले किए। ये सभी फैसले गुरुवार (7 नवंबर) से लागू हो जाएंगे।

सोमवार को प्रदूषण नियंत्रण को लेकर नीतीश कुमार की अध्यक्षता में उच्च स्तरीय बैठक आयोजित की गई। बैठक में नगर निगम की कचरा गाड़ी को भी ढककर चलाने का फैसला किया गया। साथ ही सभी निर्माण कार्यों भी ढकना होगा। पुआल जलाने पर रोक लगाई जाएगी।


ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

उल्लेखनीय है कि देश में सर्वाधिक वायु प्रदूषण वाले 10 शहरों में बिहार की राजधानी पटना भी शामिल हो गई है। राज्य के मुजफ्फरपुर और गया शहरों में भी हालात सही नहीं हैं। बैठक के बाद मुख्य सचिव दीपक कुमार ने बताया कि पटना और आस-पास के जिलों में प्रदूषण के हालात खराब हैं। सरकारी गाडिय़ों पर रोक लगाई जा रही है, चाहे वह परिवहन निगम की ही गाड़ी क्यों ना हों। 15 साल से पुराने व्यावसायिक वाहनों पर पटना में प्रतिबंध रहेगा। बैठक में उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी और प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अध्यक्ष के साथ कई विभागों के अधिकारी मौजूद थे।