Kisan March : अपनी मांगों को लेकर दिल्ली-यूपी बॉर्डर पर हजारों किसान, जाम में लोग परेशान

www.khaskhabar.com | Published : शनिवार, 21 सितम्बर 2019, 08:53 AM (IST)

नई दिल्लीध/नोएडा। हजारों किसानों ने नोएडा के सेक्टर-69 स्थित ट्रांसपोर्ट नगर से दिल्ली की ओर कूच कर दिया है। अनपी मांगों को लेकर किसान दिल्ली की ओर बढ़ रहे हैं। किसानों के कूच करने से दिल्ली में जाम लग गया है। हजारों की संख्या ये किसान अपनी मांगों को लेकर मोदी सरकार के सामने रखने के लिए सहारनपुर से पैदल यात्रा करते हुए आ रहे हैं। सहारनपुर से दिल्ली के लिए निकली 'किसान-मजदूर यात्रा' में हजारों किसान शामिल हैं। सहारनपुर से दिल्ली के किसान घाट तक पैदल यात्रा कर रहे हैं।

नोएडा से दिल्ली की ओर कूच रहे किसान अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन करने की तैयारी में है। हालांकि उसके पहले ही दिल्ली पुलिस ने पूरी तैयारी शुरू कर रखा है कि वह किसानों को दिल्ली जाने से रोक सकें। दिल्ली मेरठ एक्सप्रेसवे पर दिल्ली पुलिस ने अपने जवानों को तैनात कर दिए हैं। सीआरपीएफ के जवानों को भी यहां लगाया गया है। फ्लाई ओवर के ऊपर और नीचे सीआरपीएफ और दिल्ली पुलिस के जवान पूरी मुस्तैदी के साथ तैनात कर दिए गए हैं।

'किसान-मजदूर यात्रा' में आए किसानों ने कहा, मौजूदा समय में किसानों की हालत दयनीय है और किसान आर्थिक संकट से जूझ रहा है, लेकिन सरकार हाथ पर हाथ रखे सो रही है।

उन्होंने कहा कि समय से किसानों को गन्ना मूल्य का भुगतान नहीं हो रहा। योगी सरकार बिजली की दर बढ़ाकर किसान की कमर तोड़ रही है और कर्ज के चलते किसान आत्महत्या करने को मजबूर हो रहे हैं। इसी के चलते देश के किसान को दिल्ली पैदल आने के लिए मजबूर होना पड़ा है। जब तक किसानों की मागों के बारे में सरकार कोई ठोस आश्वासन नहीं देती तब तक किसान दिल्ली छोड़ने वाले नहीं हैं। भले ही हमें जितने दिनों तक दिल्ली में पड़ाव करना पड़े।

किसान संगठनों की ये हैं प्रमुख मांगें...

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

किसान संगठनों की ये हैं प्रमुख मांगें...
1. भारत के सभी किसानों के कर्जे पूरी तरह माफ हों।
2. किसानों को सिंचाई के लिए बिजली मुफ्त मिले।
3. किसान व मजदूरों की शिक्षा एवं स्वास्थ्य मुफ्त।
4. किसान-मजदूरों को 60 वर्ष की आयु के बाद 5,000 रुपये महीना पेंशन मिले।
5. फसलों के दाम किसान प्रतिनिधियों की मौजूदगी में तय किए जाएं।
6. खेती कर रहे किसानों की दुर्घटना में मृत्यु होने पर शहीद का दर्जा दिया जाए।
7. पश्चिमी उत्तर प्रदेश में हाईकोर्ट और एम्स की स्थापना हो।8. किसान के साथ-साथ परिवार को दुर्घटना बीमा योजना का लाभ मिले।
9. आवारा गोवंश पर प्रति गोवंश गोपालक को 300 रुपये प्रतिदिन मिलें।
10. किसानों का गन्ना मूल्य भुगतान ब्याज समेत जल्द किया जाए।