Sawan 2019 : 15 सालों से इस मंदिर में हो रहा चमत्कार, जानिए कारण!

www.khaskhabar.com | Published : मंगलवार, 13 अगस्त 2019, 2:54 PM (IST)

सावन (Sawan 2019) का महीना (Sawan Ka Mahina) भगवान शिव (God Shiva) का प्रिय है। इस पूरे महीने में लोग भगवान शिव की पूजा करते है। सावन के महीने में देवो के देव महादेव कहे जाने वाले भगवान शिव की लीला मंदिरों में देखने को मिलती है। कलयुग में इस धरती पर आज भी भगवान शिव के चमत्कार हजारों मंदिरों में देखने को मिलते है।

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार भगवान शिव को नाग बहुत प्रिय हैं। वे गले में हार के स्थान पर नाग को ही धारण करते हैं। यह बात कितनी सच है यह सलेमाबाद में एक मंदिर में देखने को मिली। कुछ बातों को देखने और सुनने के बाद यह साफ होता है कि विज्ञान और अध्यात्म की इस बारे में अलग राय हो सकती है लेकिन कुछ घटनाएं पुन: इस प्रश्न पर चिंतन के लिए विवश कर देती हैं।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

उत्तरप्रदेश के आगरा के पास स्थित सलेमाबाद एक गांव है। इस गांव में एक प्राचीन शिव मंदिर है। स्थानीय लोगों का कहना है कि यहां पिछले करीब 15 वर्षों से ज्यादा एक नाग रोज आकर भगवान शिव को नमन करता है।

इस मंदिर में दूर-दूर से श्रद्धालु शिवजी की पूजा करने आते हैं लेकिन नाग का इस तरह आना जिज्ञासा का विषय बना हुआ है। यह नाग रोज मंदिर में आता है और करीब 5 घंटे तक यहां रुकता है।

ये भी पढ़ें - गजब! अजगर और मगर के बीच रहता है ये परिवार

नाग सुबह 10 बजे आता है और शाम को 3 बजे वापस लौट जाता है। इस अवधि में यह शिवलिंग के पास ही बैठा रहता है। यहां आसपास के गांवों में भी इस नाग की चर्चा है। इससे श्रद्धालुओं को कोई भय नहीं है और न इसने कभी किसी को नुकसान पहुंचाया।

हालांकि नाग के मंदिर में प्रवेश करने के बाद मंदिर के द्वार बंद कर दिए जाते हैं। इस दौरान कोई और व्यक्ति मंदिर में प्रवेश नहीं करता। करीब 3 बजने के बाद नाग वहां से चला जाता है। उसके बाद ही लोग मंदिर में भगवान भोलेनाथ के दर्शन करने जाते हैं।

ये भी पढ़ें - इस महिला ने की बिल्लियों से शादी, क्यों ...