World Most Expensive Potato Chips : दुनिया का सबसे महंगा आलू चिप्स, 4 हजार रुपए में सिर्फ 5 Pieces

www.khaskhabar.com | Published : मंगलवार, 13 अगस्त 2019, 2:37 PM (IST)

नई दिल्ली। आज के समय में आलू चिप्स किसे नहीं पसंद, हर कोई इसे खाना पसंद करता है। जब भी हमे भूख लगती है या कहीं सफर करते है तो हम चिप्स खरीदकर खा लेते है। क्योंकि ये खाने में नमकीन, खस्ता और कुरकुरे होती है।

आमतौर पर चिप्स के पैकेटों की कीमत पांच, दस या बीस रुपए होती है, लेकिन आज हम आपको एक ऐसे आलू चिप्स के बारे में बताने जा रहे है जिसे जान आप दंग रह जाएंगे।

दुनिया के सबसे महंगे आलू चिप्स की कीमत कितनी हो सकती है, इसकी कीमत जानकारी शायद आप यकीन नहीं कर पाएंगे।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

स्वीडन की सेंट एरिक्स ब्रुवरी (St. Eriks Brand Manager Marcus Friari) कंपनी है । दुनिया के सबसे महंगे आलू चिप्स बनाने के तौर पर इस कंपनी का नाम आता है। खास बात यह है कि इसके एक पैक में पांच सिर्फ चिप्स रहते हैं।

पूरे पैक की कीमत 56 डॉलर यानी 3,993.64 रुपए है। अगर एक चिप्स का हिसाब लगाए तो हर एक चिप्स की कीमत हुई 784.11 रुपए। अब आप सोच रहे होंगे कि साधारण से दिखने वाले इस चिप्स में ऐसा है क्या कि इसकी कीमत हजारों में है, तो आइए इसके बारे में बताते है।

ये भी पढ़ें - यहां "पवित्र" लडकियों को मिलती है स्कॉलरशिप

दरअसल, खास किस्म के इस आलू चिप्स को बनाने वाली कंपनी के मुताबिक, इसमें जिस सामग्री का इस्तेमाल किया गया है, वो काफी दुर्लभ हैं। चिप्स में जिस प्याज का इस्तेमाल किया गया है, वो एक खास प्रजाति का है, जो सिर्फ लेकसैंड शहर में ही पैदा होती है।

ये चिप्स मैत्स्कुट मशरूम (matsutsake mushrooms), ट्रफल्ड सीवीड ( truffle seaweed), इंडिया पेल एले वोर्ट ( India Pale Ale), क्राउन डिल (crown dill), लेक्सैंड प्याज (Leksand onions ), जैसे पांच फ्लेवर्स में उपलब्ध है। सेंट एरिक की आधिकारिक वेबसाइट के अनुसार इन चिप्स केर जरिए कमाए गए पैसों की चैरिटी की जाती है।

ये भी पढ़ें - सजा-ए-मौत से बचने के लिए जेल में हुई प्रेग्नेंट

इस चिप्स की पैकिंग ऐसे की गई है, जैसे वो कोई आलू चिप्स नहीं बल्कि महंगी ज्वैलरी हो। यह खास चिप्स पांच जायकों में उपलब्ध है। हालांकि यह ग्राहकों की खास मांग पर ही बनाया जाता है।

साथ ही चिप्स के डिब्बे में कंपनी का एक प्रमाण पत्र भी होता है, ताकि असली और नकली की पहचान हो सके। बता दें, इस चिप्स के केवल सौ बॉक्स ही बनते हैं और अभी फिलहाल स्टॉक से बाहर है।

ये भी पढ़ें - ताबूत के अंदर मिले 3,000 साल पुराने फिंगरप्रिंट