प्रशासनिक सेवा, मानवता की सेवा का माध्यम :राज्यपाल

www.khaskhabar.com | Published : रविवार, 14 जुलाई 2019, 6:18 PM (IST)

शिमला। राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने रविवार को लुधियाना में संकल्प संस्था द्वारा आयोजित प्रशासनिक सेवा परीक्षा में चयनित प्रतिभागियों के अभिन्नदन समारोह की अध्यक्षता करते हुए कहा कि दृढ इच्छाशक्ति और संकल्प के साथ साधा गया लक्ष्य सदा सफलता का मार्ग प्रशस्त करता है।

उन्होंने कहा कि भारत में अनेक महापुरूष अपने मनोबल और दृढ संकल्प से कठिन परिस्थितियों के बावजूद सफलता के शिखर पर पहुंचे जिनमें पूर्व राष्ट्रपति डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम और पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री आज भी सभी के लिए प्रेरणा का स्त्रोत है।

उन्होंने भारतीय प्रशासनिक सेवा के संकल्प संस्था के सफल युवा अधिकारियों से कहा कि सदा ज्ञान और पुस्तकों से जुड़े रहें। कभी आलसी न बने और सच्चाई के मार्ग पर चल कर राष्ट्र की सेवा करें। उन्होंने कहा कि गरीबों, कमज़ोर वर्गों के लोगों की सेवा ही मानवता की सेवा है।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

केन्द्रीय वाणिज्य और उद्योग राज्य मंत्री सोम प्रकाश ने कहा कि यदि प्रशासनिक अधिकारी सेवा की भावना से कार्य करते हैं तो वे सरकारी सेवा में भी सफल रहते हैं और देश के विकास में भी अपनी अह्म भूमिका निभाते हैं। उन्होंने कहा कि सरकारी स्कूलों में भी शिक्षा के स्तर को बेहतर करने की आश्यकता है ताकि समाज के सभी वर्गों को प्रशासनिक सेवा में समुचित प्रतिनिधित्व मिल सके। उन्होंने कहा कि जो अधिकारी सेवा की भावना से कार्य करते हैं, लोग उनके कार्यों को सदैव याद रखते हैं।

संकल्प संस्था के संस्थापक सन्तोष तनेजा ने इस अवसर पर कहा कि प्रशासनिक सेवा परीक्षा में हिन्दी भाषा के माध्यम से विद्यार्थी अच्छा परिणाम प्राप्त कर सकते हैं, जिसके लिए उन्हें अच्छी कोचिंग की आवश्यकता रहती है। इस अवसर पर संकल्प संस्था के प्रधान नरेन्द्र मित्तल ने मुख्यातिथि का स्वागत किया और संस्था के सफल हुए प्रतिभागियों के बारे में भी जानकारी दी।