कर्नाटक का नाटक: फिर शुरू हुई रिजॉर्ट पॉलिटिक्स, विधायकों की घेराबंदी तय

www.khaskhabar.com | Published : शुक्रवार, 12 जुलाई 2019, 10:47 PM (IST)

बेंगलुरु। कर्नाटक में चल रहे राजनीतिक 'नाटक' के दौरान 'रिजॉर्ट पॉलिटिक्स' शुरू हो गई है। राजनीतिक संकट का सुलझाने के लिए कांग्रेस और जेडीएस जोर आजमाइश में जुटी है वहीं भारतीय जनता पार्टी भी अपने विधायकों पर पकड़ बनाए हुए है।

कांग्रेस-जेडीएस कर्नाटक में अपनी सत्ता को बचाने के लिए हरसंभव कोशिश कर रही है और विधायकों का पूरा ध्यान रखा जा रहा है। क्योंकि विपक्ष कहीं सत्तापक्ष में फिर से सेंध नहीं लगा दे इसी कारण विधायकों को लग्जरी होटल में ठहराया जा रहा है।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

सीएम कुमारस्वामी ने की है विश्वास मत लाने का ऐलान
कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने अपने बागी विधायकों के इस्तीफे के बावजूद भी विधानसभा में विश्वास मत लाने का ऐलान किया है। इसके बाद से ही बीजेपी ने अपनी पकड़ को मजबूत करना चालू कर दिया है। 16 बागी विधायकों के इस्तीफे अगर स्वीकार हो जाते हैं तो सत्तारूढ़ गठबंधन के लिए परेशानी शुरू हो जाएंगी।

कर्नाटक में कांग्रेस के पास फिलहाल 78 तथा जेडीएस के पास 37 और बसपा के पास 1 विधायक है। इसके अलावा सरकार को समर्थन दे रहे दो निर्दलीय विधायकों ने भी अपना समर्थन वापस लेने का ऐलान कर दिया है।


बीजेपी ने अपने विधायकों को किया रिजॉर्ट में शिफ्ट

राजनीतिक भूचाल के बीच भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने शुक्रवार को अपने सभी विधायकों को बेंगलुरु के नजदीक रामदा रिजॉर्ट में शिफ्ट कर दिया है। 224 सदस्यों वाली विधानसभा में भाजपा के 107 विधायक हैं और बहुमत का आंकड़ा 113 का है। जिन 16 कांग्रेस जेडीएस के बागी विधायकों ने इस्तीफा दिया है, अगर वो मंजूर हो जाते हैं तो बहुमत का आंकड़ा भी घट जाएगा। ऐसे वक्त में बीजेपी कांग्रेस-जेडीएस को कोई भी अवसर नहीं देना चाहती है।


कांग्रेस- जेडीएस ने भी रिजॉर्ट में ठहराए विधायक

सीएम कुमारस्वामी के विश्वास मत प्रस्ताव का ऐलान के बाद कांग्रेस सतर्क हो गई है। पहले से ही बागी विधायकों की चुनौती से जूझ रही कांग्रेस ने अब अपने विधायकों को शिफ्ट करने का निर्णय किया है। सभी विधायकों को बेंगलुरु के पांच सितारा होटल ताज यशवंतपुर में रखा गया है। विधायकों को कोई परेशानी नहीं हो, इसका पूरा ध्यान रखा जा रहा है। वहीं जेडीएस ने भी अपने विधायकों को मशहूर गोल्फशायर होटल में ठहराया है।

SC ने 16 जुलाई तक फैसला रोका

सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को कर्नाटक विधानसभा के अध्यक्ष के आर रमेश कुमार से कहा कि सत्तारूढ़ गठबंधन के 10 बागी विधायकों के इस्तीफों और उनकी अयोग्यता के मामले पर अगले मंगलवार तक कोई भी फैसला नहीं लिया जाये।