जोधपुर और कोटा में स्पाइस पार्क में आंवटित प्लॉटों का मामला, अभी तक नहीं लगे उद्योग

www.khaskhabar.com | Published : सोमवार, 10 जून 2019, 2:43 PM (IST)

जयपुर। प्रदेश के उद्योग आयुक्त डॉ. कृष्णा कांत पाठक ने कहा है कि स्पाइस बोर्ड जोधपुर और कोटा के स्पाइस पार्क के आंवटित प्लॉटों में से अभी तक उद्यम स्थापित नहीं करने वाले उद्यमों को उद्यम स्थापना का अंतिम अवसर देते हुए तय समय सीमा में उद्यम स्थापित नहीं होने पर उन्हें निरस्त करने के कदम उठाएं।
उद्योग आयुक्त सोमवार को उद्योग भवन में स्पाइस बोर्ड द्वारा राजस्थान के जोधपुर और कोटा के स्पाइस पार्क की सामान्य सुविधाएं राजस्थान सरकार को हस्तातरण के संबंध में आयोजित बैठक को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने बताया कि स्पाइस बोर्ड ठोस प्रस्ताव लेकर सामने आने के साथ ही मोडेलिटिज तय करे जिनके आधार पर राज्य के जोधपुर और कोटा स्पाइस पार्क को हस्तांतरित करने का निर्णय किया जा सके। उन्होंने रीको से भी दोनों पार्कों की सामान्य सुविधाओं को रीको में लेने की संभावनाओं को तलाशने को कहा।
डॉ. पाठक ने बताया कि स्पाइस बोर्ड द्वारा देशभर में सात स्पाइस पार्क स्थापित किए गए हैं जिनमें से दो पार्क राजस्थान के जोधपुर व कोटा में स्थापित किए गए हैं। उन्होंने बताया कि जोधपुर में 60 एक डमें 28 औद्योगिक प्लॉट्स है जिनमें से 25 आंवटित किए जा चुके हैं पर केवल चार उद्यम ही स्थापित हो सके हैं। इसी तरह से कोटा में 30 एकड़ में 17 औद्योगिक प्लॉट्स है जिनमें से 11 आंवटित किए जा चुके हैं पर एक सीएफसी के अतिरिक्त कोई उद्यम स्थापित नहीं हो सका है।
उन्होंने बताया कि स्पाइस बोर्ड निर्णय होने तक खाली प्लॉटों को आंवटित नहीं करने और आवंटित आंवटियों को तत्काल उद्यम लगाने के लिए नोटिस देकर अंतिम निर्णय लेने को कहा है।
डॉ. पाठक ने बताया कि राजस्थान प्रमुख मसाला बीज उत्पादक प्रदेश है और स्पाइस पार्कों का सही व निर्धारित समय सीमा में विकास हो तो इससे प्रदेश के मसाला उत्पादक किसानों को सीधा लाभ मिलेगा और मसालों के निर्यात को भी बढ़ाया जा सकेगा।
रीको के सलाहकार इंफ्रा पुखराज सेन ने कहा कि स्पाइस बोर्ड प्रस्ताव प्रस्तुत करते हुए विस्तार से जानकारी उपलब्ध कराएं ताकि स्पाइस पार्क पर कोई निर्णय लिया जा सके।
संयुक्त निदेशक उद्योग पीआर शर्मा ने बताया कि स्पाइस बोर्ड से समस्त आवश्यक जानकारी प्राप्त कर आगे की कार्यवाही की जा सकेगी। बैठक में स्पाइस बोर्ड के अधिकारी बीएल झा ने बताया कि स्पाइस बोर्ड दोनों पार्कों में आधारभूत सुविधाएं विकसित कर दी है। अब दोनों पार्कों का प्रबंधन राज्य सरकार को देना चाहता है।
बैडक में एसएस उद्योग व राज्य वित निगम की एमडी उर्मिला राजोरिया, संयुक्त निदेशक उद्योग वाईएन माथुर, जोधपुर के महाप्रबंधक जिला उद्योग केन्द्र एसएल पालीवाल, कोटा के महाप्रबंधक जिला उद्योग केन्द्र आरके सेठिया सहित उद्योग विभाग, रीको, स्पाइस गोर्ड के अधिकारी उपस्थित रहे।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे