नए सिरे से रोजगार के अवसर विकसित करने की जरूरत - अरविंद मायाराम

www.khaskhabar.com | Published : बुधवार, 27 फ़रवरी 2019, 6:44 PM (IST)

जयपुर। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के आर्थिक सलाहकार अरविन्द मायाराम ने कहा है कि तेजी से औद्योगिक विकास के साथ ही हमें सामाजिक-आर्थिक क्षेत्र में आ रहे बदलावों और प्रभावों को समझना और तदनुरुप बदलाव लाना होगा। उन्होंने कहा कि बदलते औद्योगिक सिनेरियों में रोजगार के अधिक से अधिक अवसरों के लिए सोच का दायरा बढ़ाते हुए विभागों की सीमाओं को अतिक्रमित कर नए सिरे से रोजगार के अवसर विकसित करने होंगे।

मायाराम बुधवार को होटर मेरियट में उद्योग विभाग व ई-लेट के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित 14 वें ई इण्डिया इनोवेशन समिट को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और इंटरनेट आॅफ थिंग्स के चलते उत्पादकता क्षेत्र में तेजी से बदलाव आ रहा है। औद्योगिक प्रतिष्ठानों को तकनीक में आ रहे बदलावों को अपनाना होगा। उन्होंने डिजिटल इण्डिया, मेक इन इण्डिया, स्किल इण्डिया आदि की चर्चा करते हुए कहा कि इनसे समझ और विकास की गति में तेजी आई है।

उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री के सलाहकार गोविन्द शर्मा ने कहा कि राजस्थान एग्रो उत्पादों, खनिजों सीमेंट, सिरेमिक और हस्तशिल्प के क्षेत्र में अग्रणी व आज भी विपुल संभावनाओं वाला प्रदेश है। उन्होंने कहा कि राज्य में हेल्थ केयर क्षेत्र के माध्यम से मेडिकल टूरिज्म के साथ ही एग्रो, सूचना तकनीक आदि क्षेत्र में निवेश लाने के समन्वित प्रयास किए जाने चाहिए।

अतिरिक्त मुख्य सचिव उद्योग डाॅ. सुबोध अग्रवाल ने कहा कि राज्य में नई औद्योगिक नीति, निर्यात नीति और औद्योगिक विवादों के तत्वरित निष्पादन के लिए बनाई जा रही नीति में औद्योगिक संघों सहित सभी संबंधितों के साथ मंथन किया जा रहा है ताकि कारोबार में आसानी, सहज निवेष, सीएसआर में भागीदारी, औद्योगिक विकास में वित्तदायी संस्थाओं और बैंकों की सहभागिता, स्थानीय उद्यमों का सषक्तिकरण, अरबन, रियल एस्टेट, यातायात, आधारभूत संरचनाओं राजकीय उपक्रमों की ग्रोथ और आईटी इनोवेशन आधारित उद्यमों की स्थापना और विकास संभव हो सके। उन्होंने कहा कि हम व्यवस्था में तेजी से बदलाव लाने की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं।

आयुक्त उद्योग डाॅ. कृृष्णाकांत पाठक ने कहा कि प्रदेश में आॅटोमोबाइल, सीमेंट और टैक्सटाइल के क्षेत्र में रोजगार की विपुल संभावनाएं हैं। उन्होंने कहा कि हमे कौशल विकास के साथ ही यह भी देखना है कि वह रोजगार के रुप में परिवर्तित हो। कौशल को रोजगार के रुप में रुपांतरित करके ही हम स्वरोजगार को बढ़ावा दे सकते हैं। डाॅ. पाठक ने कहा कि प्रदेश में नई प्रस्तावित औद्योगिक नीति से औद्योगिक निवेश और रोजगार के लिए अनुकूल वातावरण तैयार होगा।

पर्यटन सचिव श्रेया गुहा ने पर्यटन को नया ग्रोथ इंजन बताया।

ईलेट्स के मुख्य कार्यकारी डाॅ. रवि गुप्ता ने बताया कि संस्था द्वारा समूचे देश में पिछले 14 सालों से ई इण्डिया समिट का आयोजन कर साझा मंच उपलब्ध कराया जा रहा है।

समिट में जयपुर मैट्रो के एमडी सुबीर कुमार, कौशल विकास सचिव नवीन जैन, महिन्द्रा वर्ल्ड सिटी के अनुज बिंदल, अंबुजा सीमेंट के बीसी पाण्डे सहित विशेषज्ञों ने सहभागिता दी।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे