घुसपैठ रोकेगी ये अदृश्य दीवार, जम्मू में राजनाथ करेंगे दो पायलट प्रोजेक्ट्स लॉन्च

www.khaskhabar.com | Published : शुक्रवार, 14 सितम्बर 2018, 10:28 AM (IST)

नई दिल्ली। पाकिस्तान से घुसपैठ देश की सुरक्षा एजेंसियों के लिए सिरदर्द बनी हुई है। इसे रोकने के लिए भारत ने अब 'इलेक्ट्रॉनिक दीवार' खड़ी कर दी है। अब घुसपैठिए न तो सुरंग खोद कर भारतीय सीमा में प्रवेश कर पाएंगे और न ही हवाई रास्ते से। यहां तक कि नदी के रास्ते भी घुसपैठ पर रोक लगेगी।

भारत ने जम्मू में अंतरराष्ट्रीय सीमा के दो हिस्सों में अपनी तरह का यह पहला हाई-टेक सर्विलांस सिस्टम तैयार किया गया है। इसकी मदद से जमीन, पानी और हवा में एक अदृश्य इलेक्ट्रॉनिक बैरियर होगा, जिससे सीमा सुरक्षा बल (BSF) को घुसपैठियों को पहचानने और मुश्किल इलाकों में घुसपैठ रोकने में मदद मिलेगी।

गृह मंत्री राजनाथ सिंह सोमवार को जम्मू में दो पायलट प्रॉजेक्ट्स को लॉन्च करेंगे। एक प्रोजेक्ट के तहत जम्मू के 5.5 किमी का बॉर्डर कवर होगा। इस प्रणाली को कॉम्प्रिहेन्शिव इंटिग्रेटेड बॉर्डर मैनेजमेंट सिस्टम (CIBMS) नाम दिया गया है। CIBMS के तहत कई आधुनिक सर्विलांस टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया जाएगा। इसमें थर्मल इमेजर, इन्फ्रा-रेड और लेजर बेस्ड इंट्रूडर अलार्म की सुविधा होगी, जिसकी मदद से एक अदृश्य जमीनी बाड़, हवाई निगरानी के लिए एयरशिप, नायाब ग्राउंड सेंसर लगा होगा जो घुसपैठियों की किसी भी हरकत को भांप कर सुरक्षा बलों को सूचित कर देगा।साभार-nbt


ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

भारत में इंटिग्रेटेड बॉर्डर मैनेजमेंट सिस्टम पर आधारित यह वर्चुअल फेंस अपनी तरह का पहला प्रयोग है। CIBMS को ऐसे इलाकों की सुरक्षा के लिए डिजाइन किया गया है जहां फिजिकल सर्विलांस संभव नहीं है, वह चाहे जमीनी इलाके के कारण हो या नदी वाले बॉर्डर। अब तक घुसपैठिए सुरंग खोद कर भी भारत की सीमा में नहीं घुस सकेंगे। सुरंग, रेडार और सोनार सिस्टम्स के जरिए बॉर्डर पर नदी की सीमाओं को सुरक्षित किया जा सकेगा। कमांड और कंट्रोल सिस्टम कुछ इस तरह का होगा जो सभी सर्विलांस डिवाइसेज से डेटा को रियल टाइम में रिसीव करेगा। इसके बाद सुरक्षा बल फौरन कार्रवाई की स्थिति में आ जाएंगे।

सुरक्षा का नया नेटवर्क
- घुसपैठ की पिछली घटनाओं को देखते हुए दो इलाकों को चुना गया है। सोमवार से यहां सुरक्षा का नया नेटवर्क काम करना शुरू कर देगा। अधिकारी ने बताया कि इन्फ्रा-रेड और लेजर बेस्ड इंट्रूजन डिटेक्टर्स जमीन और नदी के आसपास के क्षेत्रों में एक अदृश्य दीवार का काम करेंगे जबकि सोनार सिस्टम नदी के रास्ते घुसपैठ की कोशिशों को पकड़ लेगा। ऐरोस्टेट टेक्नॉलजी आसमान में किसी भी हरकत पर नजर रखेगी। सुरंग के रास्ते घुसपैठ की कोशिशों को नाकाम करने के लिए अंडरग्राउंड सेंसर्स लगातार निगरानी करेंगे। साभार-nbt

ये भी पढ़ें - आपके हाथ में पैसा नहीं रूकता, तो इसे जरूर पढ़े