अच्छा होता अमित शाह अपनी पीठ थपथपाने के बजाय प्रदेश की दुर्दशा पर माफी मांगते : पायलट

www.khaskhabar.com | Published : बुधवार, 12 सितम्बर 2018, 7:25 PM (IST)

जयपुर। भाजपा सरकार का कार्यकाल पूरा होने को है, परंतु जनता से किए कोई भी वादे पूरे नहीं हुए हैं और सबसे बड़ी विडंबना यह है कि अपनी जवाबदेही सुनिश्चित करने की जगह सरकार विपक्ष को कोस रही है तथा अपनी नाकामी पर पर्दा डालने का असफल प्रयास कर रही है। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कल खुद स्वीकार किया है कि उनकी पार्टी में बूथ इकाइयां कमजोर है, जो इस बात का सूचक है कि भाजपा के कार्यकर्ता खुद भाजपा सरकार की कार्यप्रणाली को सही नहीं मान रहे और जनता के बीच जाने में संकोच कर रहे है। यह बात राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष सचिन पायलट ने बुधवार को नागौर जिले के परबतसर में आयोजित संकल्प रैली में कही।

पायलट ने कहा कि कल भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चुनौती देकर कह रहे थे कि भाजपा के राज में देश तरक्की कर रहा है, परंतु सच्चाई यह है कि भाजपा ने देश में विकास के स्थान पर द्वेषता को बढ़ाने का काम किया है। पायलट ने भाजपा को चुनौती दी है कि वे एक भी कोई ऐसा जनहित का काम बता दें, जिसे रेखांकित किया जा सके। उन्होंने कहा कि गत कांग्रेस शासन के दौरान हम प्रदेश में रोजगार सृजन व आर्थिक स्वावलम्बन की योजना रिफाइनरी लेकर आए, इसके अलावा राजधानी में मेट्रो शुरू की और डूंगरपुर-रतलाम रेल परियोजना शुरू की, परंतु इसे भारतीय जनता पार्टी ने शासन में आते ही ठप कर दिया। उन्होंने कहा कि आधार कार्ड व मनरेगा को राजस्थान से शुरू किया गया और इसके अलावा प्रदेश के सम्पूर्ण आधारभूत संरचना को विकसित कर जनसुविधाओं का विस्तार कर आमजन को राहत प्रदान की।
उन्होंने कहा कि अमित शाह ने प्रदेश की भाजपा सरकार के कार्यकाल की जवाबदेही सुनिश्चित करने के स्थान पर आसाम के एनआरसी मुद्दे को लेकर अनर्गल बयानबाजी की, जो निंदनीय है। उन्होंने कहा कि इस मुद्दे का कदापि राजनीतिकरण नहीं होना चाहिए। कांग्रेस का स्पष्ट मत है कि एक भी विदेशी नागरिक देश की धरती पर नहीं रहना चाहिए और उन्होंने अमित शाह से पूछा है कि उनकी प्रदेश सरकार ने कितने बांग्लादेशियों को अब तक प्रदेश से निकाला है? उन्होंने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह की यूपीए सरकार के दौरान जितने बांग्लादेशियों को देश से विस्थापित किया था, उस अनुपात में भाजपा की उपलब्धि नगण्य है।

पायलट ने कहा कि अच्छा होता कि अमित शाह अपनी पीठ थपथपाने के स्थान पर उनकी सरकार के शासनकाल के दौरान प्रदेश की हुई दुर्दशा पर माफी मांगते। उन्होंने कहा कि नोटबंदी के कारण आमजन को हुई परेशानी के साथ ही किसानों की आत्महत्या एवं महिला उत्पीड़न तथा राजधानी सहित पूरे प्रदेश में तोड़े गए मंदिरों के लिए अपनी जवाबदेही सुनिश्चित करते। पायलट ने कहा कि भाजपा के राष्ट्रीय नेतृत्व के बयानों से साबित हो गया है कि वे अपनी सरकार की नाकामी को छिपाने के लिए उन मुद्दों को तूल देकर जनता का ध्यान भटकाना चाहते हैं, जिनका प्रदेश की जनता से दूर.दूर तक कोई सरोकार नहीं है।
पायलट ने कहा कि आज जिस तादाद में जनता यहां मौजूद है वह इस बात का सूचक है कि प्रदेश में भाजपा सरकार द्वारा फैलाई गई अव्यवस्थाएं, अराजकता व कुशासन से जनता परेशान हो चुकी है और भाजपा से मुक्ति पाने के लिए कांग्रेस की ओर उम्मीद से देख रही है। मुख्यमंत्री, प्रदेश के मंत्री और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जो भी बयानबाजी कर रहे हैं, उसमें उनकी बौखलाहट व खो चुके आधार की चिंता झलकती है, इसीलिए अमित शाह ने भी कार्यकर्ताओं से कहा है कि सिर्फ चुनाव चिह्न का ध्यान रखें और सारी बातें भूल जाएं तथा केन्द्र की योजनाओं को जनता के बीच में ले जाएं, जिसका सीधा मतलब है कि प्रदेश भाजपा में ना तो आपसी समन्वय है और ना ही प्रदेश की सरकार के पास ऐसी कोई उपलब्धि है, जिसे उनके राष्ट्रीय अध्यक्ष जनता के बीच ले जाने लायक समझते हों।

उन्होंने कहा कि सरकार का पूरा कार्यकाल अपने हित साधने में बीता है, इसलिए समाज के हर वर्ग में सरकार के प्रति गहरी नाराजगी है। उन्होंने कहा कि भाजपा समाज में आपसी मतभेद बढ़ाने व विघटन को थोपने में विश्वास रखती है और गैर जरूरी मुद्दों को हवा देकर जनता के वास्तविक सवालों का जवाब देने से बचना चाहती है। भाजपा को प्रदेश की जनता को भ्रमित करना बंद कर देना चाहिए, क्योंकि कैग की हर विभाग की रिपोर्ट से साबित हो गया है कि भाजपा की कथनी और करनी में भारी अंतर है और भाजपा की कार्यशैली ने भ्रष्टाचार को संस्थागत करने का काम किया है। उन्होंने कहा कि रैली में भारी संख्या में नागौर की जनता की मौजूदगी भाजपा की प्रदेश से विदाई का जीता-जागता संकेत है।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

इस अवसर पर एआईसीसी के महासचिव व पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि प्रदेश की भाजपा सरकार ने द्वेषता के चलते पूर्व कांग्रेस सरकार की सभी लोक कल्याणकारी योजनाओं को ठप कर जनता के साथ विश्वासघात किया है। उन्होंने कहा कि आज जनता खाद्य सामग्री, दवाइयां आदि मूलभूत आवश्यकताओं की चीजों को प्राप्त करने के लिए परेशान हो रही है और बढ़ती महंगाई व भ्रष्टाचार से त्रस्त है।

एआईसीसी महासचिव एवं राजस्थान प्रभारी अविनाश पाण्डे ने कहा कि एक तरफ कांग्रेस की सभाओं में उमड़ता जन सैलाब है और दूसरी ओर भाजपा सरकार सरकारी तंत्र का उपयोग करने के बावजूद भीड़ नहीं जुटा पा रही है, जो सत्ता परिवर्तन के संकेत हैं। उन्होंने कहा कि इस बात में कोई संदेह नहीं है कि प्रदेश की जनता ने भाजपा सरकार के कुशासन को उखाड़ फेंकने का मन बना लिया है और हमें संकल्प लेना है कि हम जनता को इस जनविरोधी भाजपा सरकार से मुक्ति दिलाकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के नेतृत्व में एक बेहतर सरकार का विकल्प देकर कांग्रेस को मजबूत करेंगे।


यह भी पढ़े : अजब- गजबः बंद आंखों से केवल सूंघकर देख लेते हैं ये बच्चे


कांग्रेस के वरिष्ठ नेता डॉ. सीपी जोशी ने इस अवसर पर कहा कि भाजपा सरकार को प्रदेश की जनता ने सेवा का सुनहरा अवसर दिया था, लेकिन यह सरकार जनता की उम्मीदों पर खरा नहीं उतर पाई। उन्होंने कहा कि भाजपा ने जनता से जो वादे किए थे, उनमें से आज तक एक भी वादा पूरा नहीं किया है और इसलिए जनता को एहसास हो गया है कि भाजपा को चुनकर उन्होंने बहुत बड़ी गलती की है।


यह भी पढ़े : यहां कब्र से आती है आवाज, ‘जिंदा हूं बाहर निकालो’


रैली को कांग्रेस कार्यसमिति सदस्य रघुवीर मीणा, एआईसीसी सचिव व सह प्रभारी काजी मोहम्मद निजामुद्दीन, नेता प्रतिपक्ष रामेश्वर डूडी, पूर्व केन्द्रीय मंत्री भंवर जितेन्द्र सिंह, एआईसीसी के पूर्व महासचिव मोहन प्रकाश, सांसद डॉ. कर्णसिंह, डॉ. रघु शर्मा ने भी संबोधित किया।

पायलट का हुआ स्वागत

रैली में नागौर विधानसभा क्षेत्र निवासी पूर्व डीजीपी डॉ. के राम बागड़िया के साथ क्षेत्र के गणमान्य नागरिकों और कार्यकर्ताओं ने भाग लिया। इस अवसर पर बीआर मिर्धा कॉलेज, तरनाऊ, होटल शारदा पैलेस, कुचामन सिटी, मंगलाना तिराहा और परबतसर बाईपास पर जोरदार स्वागत हुआ।

यह भी पढ़े : यहां कब्र से आती है आवाज, ‘जिंदा हूं बाहर निकालो’