दोस्ताना मैच : लुइस सुआरेज के दम पर उरुग्वे ने मैक्सिको को दी मात

www.khaskhabar.com | Published : शनिवार, 08 सितम्बर 2018, 6:15 PM (IST)

ह्यूस्टन (अमेरिका)। स्पेनिश फुटबॉल क्लब एफसी बार्सिलोना से खेलने वाले स्टार स्ट्राइकर लुइस सुआरेज के दो गोलों की बदौलत उरुग्वे ने यहां शुक्रवार को खेले गए एक दोस्ताना मुकाबले में मैक्सिको को 4-1 से करारी शिकस्त दी। ईएसपीएन के अनुसार, दोनों टीमों ने इस मैच में रूस में हुए फीफा विश्व कप में भाग लेने वाले दिग्गज खिलाडिय़ों के साथ शुरुआत की।

विश्व कप में जहां मैक्सिको ने राउंड ऑफ 16 तक का सफर तय किया था वहीं उरुग्वे को क्वार्टर फाइनल में फ्रांस के हाथों हार का सामना करना पड़ा था। मैच की शुरुआत में मैक्सिको ने उरुग्वे को काफी परेशान किया लेकिन मैच का पहला गोल उरुग्वे के हिस्से ही आया। 22वें मिनट में मिले कॉर्नर पर जोसे मारिया जिमेनेज ने हेडर के जरिए गोल कर उरुग्वे को 1-0 की बढ़त दिलाई। मैक्सिको ने तीन मिनट बाद जवाबी गोल दागा।

राउल जिमेनेज ने पेनल्टी के जरिए अपनी टीम के लिए बराबरी का गोल दागा। इसके बाद, सुआरेज ने अपना जलवा दिखाया और 32वें मिनट में मिली फ्री-किक को पोस्ट के बॉटम राइट कॉर्नर में पहुंचाकर स्कोर को 2-1 कर दिया। 40वें मिनट में पेनल्टी के जरिए सुआरेज ने मैच का अपना दूसरा गोल किया। दूसरे हाफ में भी उरुग्वे का दबदबा देखने को मिला। 59वें मिनट में गेटसन परेरियो ने गोल करके 4-1 से अपनी टीम की जीत सुनिश्चित कर दी।

‘भविष्य में नए कीर्तिमान बना सकती है इंग्लैंड की फुटबॉल टीम’

ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

म्यूनिख। जर्मनी के महान फुटबॉल खिलाड़ी फिलिप लाम का मानना है कि इंग्लैंड की मौजूदा फुटबॉल टीम में कई युवा खिलाड़ी हैं जो भविष्य में बड़े टूर्नामेंट जीत सकते हैं। लाम ने इंग्लैंड की तुलना 2006 और 2010 फीफा विश्व कप में हिस्सा लेने वाली जर्मनी की टीम से की। जर्मनी ने 2014 में ब्राजील में हुए विश्व कप का खिताब अपने नाम किया था। गोल डॉट कॉम ने लाम के हवाले से बताया कि मैंने पिच पर इंग्लैंड की अच्छी टीम को देखा। मैं समझता हूं कि इंग्लैंड के पास अच्छा मौका है क्योंकि उनके पास युवा खिलाड़ी हैं।

हर कोई एक-दूसरे की मदद करता हैं और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खिताब जीतने के लिए आपके टीम में यह गुण होना चाहिए। लाम ने कहा कि 2006 से 2014 तक की हमारी टीम देखिए, सभी खिलाडिय़ों ने मिलकर इतिहास रचा। हर खिलाड़ी को पता था कि उसका साथी मुश्किल परिस्थिति में कैसा कदम उठाएगा। इस ज्ञान के कारण ही हम अंतरराष्ट्रीय खिताब पर कब्जा कर पाए। इंग्लैंड का सामना यूरोपीय नेशन्स लीग में शनिवार को स्पेन से होगा।

ये भी पढ़ें - शनाका ने गेंदबाजी नहीं बल्लेबाजी में किया कमाल, श्रीलंका जीता