‘हम ऐसे ही समारोह में भाग लेंगे क्योंकि हमारे पास विकल्प नहीं है’

www.khaskhabar.com | Published : मंगलवार, 04 सितम्बर 2018, 12:07 PM (IST)

कोलकाता। एशियाई खेलों के 18वें संस्करण में ब्रिज में स्वर्ण जीतने वाले प्रणब बर्धन और शिवनाथ सरकार की जोड़ी को नई दिल्ली में बुधवार को पदक विजेताओं के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा आयोजित समारोह में हिस्सा लेने के लिए भारतीय ओलम्पिक समिति (आईओ) ने आधिकारिक ब्लेजर नहीं दिए हैं।

भारत के गैर-खिलाड़ी कप्तान और कोच देवाशीष रे ने यहां कलकत्ता स्पोट्र्स जर्नलिस्ट क्लब में आयोजित एक सम्मान समारोह के दौरान कहा, हमें प्रधानमंत्री द्वारा आयोजित समारोह में भाग लेने के लिए भारत के चिह्न वाले ब्लेजर तक नहीं दिए गए। मुझे तो आमंत्रित भी नहीं किया गया। उन्होंने कहा कि पदक जीतने वाले सदस्य अपने पुराने ब्लेजर पर आईओए के चिन्ह लगाने की योजना बना रहे हैं ताकि वे आधिकारिक रूप से फोटो खिंचा पाएं।

रे ने कहा कि हम अपने खुद के ब्लेजर पर आईओए का चिन्ह लगाने की योजना बना रहे हैं। हम ऐसे ही समारोह में भाग लेंगे क्योंकि हमारे पास कोई अन्य विकल्प नहीं है। रे ने बताया कि आईओए भारतीय दल को इन खेलों में भाग लेने के लिए भी नहीं भेजना चाहता था लेकिन एचसीएल प्रमुख शिव नादर ने इसमें हस्तक्षेप किया और हमें जकार्ता जाने की अनुमति मिली।

इस दिग्गज ने कहा, स्वप्ना की पुरस्कार राशि बढ़ाए बंगाल सरकार

ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

नई दिल्ली। भारत के स्टार मुक्केबाज विजेंदर सिंह ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से जकार्ता में हुए 18वें एशियाई खेलों में हेप्टाथलान में स्वर्ण पदक जीतने वालीं स्वप्ना बर्मन के लिए घोषित 10 लाख की इनामी राशि को बढ़ाने की मांग की है। स्वप्ना एशियाई खेलों में हेप्टाथलान में स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय खिलाड़ी हैं।

विजेंदर ने ट्वीट किया कि प्रिय ममता दीदी, आपसे विनती है कि स्वप्ना बर्मन को दी जाने वाली इनामी राशी को बढ़ाया जाए। इस राशि के अलावा पश्चिम बंगाल की सरकार ने स्वप्ना को नौकरी देने का भी वादा किया है। जलपाईगुड़ी की रहने वालीं स्वप्ना ने 6026 अंकों का बेस्ट स्कोर अर्जित करते हुए सात स्पर्धाओं वाले खेल हेप्टाथलान में स्वर्ण जीता।

ये भी पढ़ें - टेस्ट सीरीज से बाहर हुए कमिंस व हैजलवुड, ये ले सकते हैं जगह