मंगल दोष से पड़ते हैं कुप्रभाव, निवारण के लिए आजमाएं ये उपाय

www.khaskhabar.com | Published : मंगलवार, 28 अगस्त 2018, 12:49 PM (IST)

किस भी जातक का यदि मंगलवार कमजोर होता है तो न केवल उसके व्यवसाय बल्कि उसके जीवन में भी कई तरह के कुप्रभाव दिखने लगते हैं ऐसे में कुछ खास उपायों के माध्‍यम से मंगल को साधा जा सकता है।

कुंडली के पहले, चौथे, सातवें, आठवें और बारहवें स्थान में मंगल हो तो मंगलदोष का योग बनता है। इस योग में जन्म लेने वाले व्यक्ति को मांगलिक कहते हैं। कुंडली की यह स्थिति विवाह संबंधों के लिए बहुत संवेदनशील मानी जाती है।

मंगलदोष के लिए उपाय
हनुमान जी को रोज चोला चढ़ाने से मंगल दोष से राहत मिल सकती है। मंगल दोष से पीड़ित व्यक्ति को जमीन पर ही सोना चाहिए।
नीचस्थ मंगल के अशुभ योग से बचने के लिए तांबा पहनना शुभ सकता है। इस योग में गुड़ और काली मिर्च खाने से विशेष लाभ होगा।
ज्योतिष में शनि को हवा और मंगल को आग माना जाता है। जिनकी कुंडली में शनि मंगल होता है उन्हें हथियार, हवाई हादसों और बड़ी दुर्घटनाओं से सावधान रहना चाहिए। हालांकि यह योग कभी–कभी बड़ी कामयाबी भी दिलाता है।
शनि मंगल दोष के प्रभाव को कम करने के लिए रोज सुबह माता-पिता के पैर छुएं। हर मंगलवार और शनिवार को सुंदरकांड का पाठ करने से इस योग का प्रभाव कम होगा।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

मंगल के शुभ योग में भाग्य चमक उठता है, लक्ष्मी योग मंगल का पहला शुभ योग है। चंद्रमा और मंगल के संयोग से लक्ष्मी योग बनता है। यह योग इंसान को धनवान बनाता है। जिनकी कुंडली में लक्ष्मी योग है, उन्हें नियमित दान करना चाहिए।
मांस-मदिरा का परित्याग करें, कम से कम मंगलवार को तो इनका सेवन कदापि न करें। केले या पीपल की जड़ों में दूध चढ़ायें।

ये भी पढ़ें - अगर आप पर है किसी उतारे या टोटके का असर, करें ये खास उपाय

मंगल को लड्डू या बूंदी बांटे। सूर्य भगवान को दूध व चीनी मिलाकर जल दें। नीम या बबूल की दातून करें या बाजार में उपलब्ध इनके पेस्ट से दांत साफ करें। अपने भाइयों से प्रेम संबंध से रहें क्योंकि मंगल भाई का भी प्रतिनिधित्व करते हैं। यदि भाई से न बन पाये तो दूरी बना लें, लड़ाई झगड़े से बच कर रहें।

ये भी पढ़ें - लाल किताब : 5 दिन के 5 उपाय बदल देंगे आपकी तकदीर

त्रिफला चूर्ण बूरा मिलाकर सोते समय दूध या पानी से लें। सूखे मेवे, काली मिर्च, गर्म मसाला, बेसन की चीजें, गुड़, शहद आदि स्वयं खायें व दूसरों को भी खिलायें। मंगल का रत्न मूंगा धारण करें, परन्तु उससे पहले किसी अनुभवी ज्योतिषी से अपनी कुंडली की जांच अवश्य करवा लें।
सोना, तांबे का छल्ला, कड़ा, आदि भी धारण कर सकते हैं जो मूंगे का सस्ता विकल्प हो सकते हैं। परन्तु हाई ब्लड प्रेशर रहने वालों को तांबे का व लो ब्लडप्रेशर रहने वाले को लोहे का कडा नहीं पहनना चाहिये।
भगवा रंग के कपड़े में कत्थे का टुकड़ा, लाल मसूर, तांबे का सिक्का, नीम के पत्ते, लाल चन्दन बाँध कर घर में रखें, इससे भी मंगल प्रसन्न रहते हैं। मंगलवार का व्रत रखें व मंगलग्रह के मन्त्र का जाप करें।

ये भी पढ़ें - जन्माष्टमी पर घर लायें ये 5 चींजें, होगी प्रेम-धन की बारिश