गंगा और घाघरा नदी उफान पर, लोग गांव से पलायन को मजबूर

www.khaskhabar.com | Published : सोमवार, 27 अगस्त 2018, 4:04 PM (IST)

वाराणसी। उत्तर प्रदेश के पूर्वांचल में बारिश ने आफत मचा रखी है। एक ओर गंगा तो दूसरी ओर घाघरा नदी में जलस्तर लगातार बढ़ रहा है और इसी के साथ तटवर्ती लोगों में भी चिंता बढ़ने लगी है। गंगा और घाघरा नदी उफान पर चल रही हैं। नदियों का जलस्तर बढ़ने के कारण पूर्वांचल के विभिन्न जिलों में दर्जनभर कच्चे मकान ढह गए। घरों में पानी घुस गया। नदी के वेग से लोगों में दहशत है। इसके साथ लोग गांव से पलायन करने पर मजबूर हैं।

कुछ जिलों में गंगा में नाव के संचालन पर रोक लगा दी गई। मिर्जापुर में तीन सेंटीमीटर, चंदौली में डेढ़ सेमी, वाराणसी, गाजीपुर और भदोही में एक-एक सेमी प्रति घंटे की रफ्तार से गंगा का पानी बढ़ रहा है।वाराणसी में गंगा 24 घंटे में 27 सेंटीमीटर बढ़ी है। नेपाल से घाघरा में छोड़े गए तीन लाख क्यूसेक पानी का असर दिखने लगा है। इसके चलते आजमगढ़ में घाघरा बढ़ाव पर है। नदी डिघिया गेज पर लाल निशान से 106 सेमी और बदरहुंआ गेज पर 52 सेमी ऊपर बह रही है। मऊ घाघरा स्थिर लेकिन खतरा बिंदु से 25 सेमी ऊपर बह रही है।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

मिर्जापुर में प्रशासन ने गंगा में नाव चलाने पर रोक लगा दी है। मिर्जापुर में कच्चा मकान गिरने से एक वृद्ध महिला की मौत हो गई। भदोही में आठ कच्चे मकान ढह गए। इसके मलबे में दबने दो महिलाएं और तीन मवेशी घायल हो गए।
सोनभद्र में जहां पहाड़ी नदियों में उफान से झारखंड को जोड़ने वाली मुख्य सड़क प्रभावित हो रही है वहीं बलिया में घाघरा-गंगा तो मऊ और आजमगढ़ में घाघरा में उफान से तटवर्ती लोगों में चिंता बढ़ गई है।

ये भी पढ़ें - क्या आपकी लव लाइफ से खुशी काफूर हो चुकी है...!