नशा तस्करी में शामिल बड़ी मछली पंजाब पुलिस की पकड़ में, हवाला से होता था भुगतान

www.khaskhabar.com | Published : रविवार, 12 अगस्त 2018, 9:55 PM (IST)

जलंधर / चंडीगढ़। नशीले पदार्थों की तस्करी में शामिल पंजाब के कुख्यात तस्करों के एक गैंग को पुलिस ने पकड़ने में सफलता प्राप्त की है। काउंटर इंटेलीजेंस विंग जालंधर द्वारा मोगा पुलिस के साथ 72 क्विंटल भुक्की के साथ भरी 180 बोरियां लिया रहे एक बड़े अंतरराज्यीय रैकेट का पर्दाफाश करने के 6 दिन बाद रविवार को श्री आनंदपुर साहिब पुलिस के साथ मिलकर इस गिरोह के प्रमुख जगदेव सिंह उर्फ देबन पुत्र सूरत सिंह वासी दौलेवाल को साथियों सहित गिरफ्तार किया है।

एआईजी काऊंटर इंटेलीजेंस हरकमलप्रीत सिंह ने बताया कि उनकी टीम इन फरार ड्रग तस्करों की गतिविधियों पर लगातार नजर रख रही थी और आज उनको इनके बारे गुप्त सुचना मिली कि यह तस्कर जो पिछले दिनों से पुलिस से छुप गये थे, आज श्री आनंदपुर साहिब में है, जिसको उन्होंने तुरंत एसएसपी रूपनगर स्वपन शर्मा के साथ सांझा किया । इन तस्करों द्वारा कुछ दिनों से लगातार ठिकानों को बदलने के बाद अब पंजाब में श्री आनंदपुर साहिब शहर में होने का शक है।

उन्होंने कहा कि इस सूचना के बाद आनंदपुर साहिब पुलिस की विभिन्न टीमों को अर्लट किया गया और एक पुलिस पार्टी ने एक सफेद स्कॉर्पियो कार को रोका और चार व्यक्तियों जगदेव सिंह पुत्र सूरत सिंह और उनके साथी गुरदेव सिंह पुत्र भगवंत सिंह कोट इसे खां, मोगा जिले के दौलेवाला गांव से गुरविंदर सिंह उर्फ जींदू पुत्र अजीत सिंह, लखविंदर सिंह उर्फ काकु पुत्र टहल सिंह को गिरफ्तार किया।

एआईजी यह भी खुलासा किया कि जगदेव सिंह 25 ग्राम से नशीला पदार्थ बरामद किया गया है और थाना श्री आनंदपुर साहिब जिला रूपनगर में एनडीपीएस एक्ट की धारा 22, 61, 85 के तहत उसके खिलाफ एक मामला दर्ज किया गया है।

उन्होंने कहा कि प्रारंभिक जांच के दौरान यह पता चला है कि जगदेव पंजाब में भुक्की तस्करी व्यापार में बड़ी मछली था और यह साल 1990 से ड्रग व्यापार में शामिल था । इसके खिलाफ एनडीपीएस एक्ट और आईपीसी के अन्य धाराओं अधीन 10 केस पंजाब के विभिन्न पुलिस स्टेशनों में दर्ज किए गए थे। उन्होंने कहा कि जगदेव सिंह को 14 सालों के लिए नशीने पदार्थोँ से संबंधित कत्ल केसों मेें भी दोषी करार दिया गया था ओर वह 1999-2013 से जेल में रहा है।


ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

उन्होंने खुलासा किया कि दोषियों की पुछताछ के दौरान एक नई बात सामने आई है कि वह राजस्थान तस्करों को पंजाब के हवाला कारोबार के द्वारा नशीले पदार्थों का भुगतान कर रहे थे और केस की जांच के दौरान इस लिंक की भी जांच की जाएगी क्योंकि यह बहुत खतरनाक है। उन्होंने बताया कि हवाल रैकेट और इनके अन्य साथियों संबंधी और जांच करने के लिए उन सभी को पुलिस रिमांड पर लिया जाएगा।

यह उल्लेखनीय है 6 अगस्त को जलंधर के काऊंटर इंटेलिजेंस और मोगा पुलिस ने इस गिरोह के दो व्यक्यिों को गिरफ्तार किया था, जो राजस्थान से पंजाब को भुक्की के तस्कर थे। पुलिस ने भुक्की के 180 बैगों से भरा एक ट्रक भी जब्त कर लिया था। दोनों अपराधियों की पहचान धर्मजीत सिंह पुत्र सुरजीत सिंह वासी गांव लंडेके जिला मोगा और गुरबीर सिंह पुत्र गुरजंट सिंह वासी गांव रातीया जिला मोगा के तौर पर हुई है।

ये भी पढ़ें - इस लडकी का हर कोई हुआ दीवाना, जानें...