इस लडक़े को बिजली से खेलकर आता है मजा, करंट छू भी नहीं पाता-देखें फोटो

www.khaskhabar.com | Published : रविवार, 12 अगस्त 2018, 2:31 PM (IST)

सोनीपत। बिजली का नाम सुनते ही शरीर में अजीब सी हलचल पैदा हो जाती है। अगर गलती से किसी को बिजली का झटका लग जाए तो वह कुछ देर के लिए सन्न रह जाते हैं। लेकिन अगर आपसे कहे कि एक युवक को बिजली का कोई भी असर नहीं होता है।

जी हां, हरियाणा के सोनीपत में रहने वाले 19 साल के दीपक जांगडा को बिजली से बिल्कुल डर नहीं लगता हैं। बल्कि उसे ऐसा करने में मजा आता है। शायद भगवान ने उसे कोई ऐसी ताकत दी है जिससे वो बिजली की सप्लाई के दौरान किसी तरह का विद्युत तार पकड़ लेता है। ले

किन उसे किसी तरह का कोई करंट नहीं लगता हैं। उसके कारनामे देखकर लोग अपनी आंखों पर यकीन नहीं कर पाते हैं।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

खबरों के मुताबिक, दीपक पर बिजली के हजार वोल्ट का भी कोई असर नहीं होता हैं। बिजली के तारों को दीपक बिना की सावधानी के पकड़ लेता है। बता दें कि दीपक के बदन पर कई एक्सपेरिमेंट हो चुके हैं।

दीपक की मानें तो वो यह देखना चाहता है कि कितनी वोल्ट के करंट के बाद उन्हें वाकई करंट महसूस होगा। दीपक कहता है कि तीन साल पहले वह हीटर ठीक कर रहा था और नंगे हाथों से उसने वह ठीक कर दिया यानी उसे करंट नहीं लगा।

ये भी पढ़ें - जब बंदर ने फहराया सरकारी स्कूल में तिरंगा, देखें वीडियो

दीपक के मुताबिक, एक दिन उसने खुले तार को गलती से छू लिया था, लेकिन उस पर इसका असर ही नहीं हुआ। तब उसे पता चला कि बिजली के झटके का उसके शरीर पर कोई असर नहीं होता। दीपक 11 हजार वोल्ट बिजली का झटका भी आसानी से सहन कर जाता है।

ये भी पढ़ें - ऎसे बर्तनों में खाने से मर्द बन सकते हैं नपुंसक

दीपक अपने इस अनोखे हुनर के बारे में कहते हैं कि, ‘यह हुनर भगवान का दिया गया एक तोहफा है, मैं खुद को बहुत भाग्यशाली समझता हूं क्योंकि मैं वह कर सकता हूं जो कि कोई नहीं कर सकता है। मैं अपनी इस पावर को खोना नहीं चाहता हूं।’

ये भी पढ़ें - ...तो इसलिए रोजाना शेव करती है यह हसीना!

दीपक को बिजली का करंट ना लगने से हर कोई हैरान है। डॉक्टर ने भी दीपक के कुछ टेस्ट किए लेकिन उसका कोई परिणाम नहीं निकला और वह हर टेस्ट में नॉर्मल पाया गया।

ये भी पढ़ें - गौर से देखिए इन तस्वीरों को, नजर आएंगे अजीब चेहरे!

हिन्दू धर्म में सबसे ज्यादा पवित्र नगरों में से एक उत्तर प्रदेश का वाराणसी शहर है। इसे बनारस और काशी के नाम से भी जाना जाता है। वाराणसी हमेशा से ज्ञान, शिक्षा और संस्कृति का केन्द्र रहा है। कहा जाता है कि इसकी स्थापना स्वयं भगवान शिव ने की थी।

यहां पर बहुत से धार्मिक स्थल है। आज हम आपको उन्हीं मेें से एक ऐसी ही जगह के बारे में बताने जा रहे है। उत्तरप्रदेश के वाराणसी शहर में यहां के नवापुरा नामक एक स्थान पर एक कुआं है, जिसके बारे में लोगों की मान्यता है कि इसकी अथाह गहराई पाताल और नागलोक तक जाती है।

कारकोटक नाग तीर्थ के नाम से प्रसिद्ध इस कुएं की गहराई कितनी है इस बात की जानकारी किसी को भी नहीं। धर्मशास्त्रों के अनुसार इस कूप के दर्शन मात्र से ही नागदंश के भय से मुक्ति मिल जाती है।

यह भी पढ़े : रोंगटे खडे कर देगा ये वीडियो, कमजोर दिलवाले ना देखें


महर्षि पाणिनी के महाभाष्य की यहीं हुई रचना...
करकोटक नाग तीर्थ के नाम से विख्यात इसी पवित्र स्थान पर शेषावतार (नागवंश) के महर्षि पतंजलि ने व्याकरणाचार्य पाणिनी के महाभाष्य की रचना की थी। मान्यता यह भी है की इस कूप का रास्ता सीधे नाग लोक को जाता है।

यह भी पढ़े : जिगर और दिल चाहिए यहाँ जाने के लिए


कूए में स्नान मात्र से नाग दोष से मुक्ति...
इस कूंए की सबसे बड़ी मान्यता ये हैं की इस कूए में स्नान व पूजा मात्र से ही सारे पापों का नाश हो जाता है। कूए में स्नान मात्र से ही नाग दोष से मुक्ति मिल जाती है, ऐसी मान्यता है। पूरे विश्व में काल सर्प दोष की सिर्फ तीन जगह ही पूजा होती हैं उसमे से ये कुंड प्रधान कुंड हैं।

यह भी पढ़े : सांपों से मुहब्बत करता है मुन्ना भाई सांप वाला, बचाता है लोगों की जिंदगियां


छोटे गुरू और बड़े गुरू के पीछे की कहानी...
काशी के ज्योतिषाचार्य पवन त्रिपाठी बताते हैं, ‘वैसे तो नागपंचमी के दिन छोटे गुरू और बड़े गुरू के लिए जो शब्द प्रयोग किया जाता है उससे तात्पर्य यह है कि हम बड़े व छोटे दोनों ही नागों का सम्मान करते हैं और दोनों की ही विधिविधानपूर्वक पूजन अर्चन करते हैं। क्योकि, महादेव के श्रृंगार के रूप में उनके गले में सजे बड़े नागदेव हैं तो वहीं उनके पैरों के समीप छोटे-छोटे नाग भी हैं और वो भी हमारी आस्था से गहरे जुड़े हुए हैं।’

व्याकरण की दृष्टि से अगर देखे तो पतंजलि ऋषि को बड़े गुरू और पाणिनी ऋषि को छोटे गुरू की संज्ञा दी जाती है। यह गुरू शब्द का प्रयोग एकमात्र काशी की ही परंपरा से जुड़ी हुई है क्योकि इन दोनों ही ऋषियों ने व्याकरण को विस्तारित रूप देने का काम किया है।

यह भी पढ़े : ऎसे बर्तनों में खाने से मर्द बन सकते हैं नपुंसक


कंबोडिया। आपने अभी तक दुनिया में बने हुए बहुत से ब्रिज देखे होंगे। लेकिन इन दिनों कंबोडिया का एक पुल दुनिया के लिए आकर्षण का केंद्र बन गया है। जी हां, यह पुल समुद्र पर बने रामसेतु की याद दिलाता है। इस पुल को पत्थरों नहीं बांसों की मदद से बनाया गया है।

बताया गया है कि इस 3,300 फीट लंबे पुल को 50 हजार बांसों की मदद से पानी में खड़ा किया गया है, जो दिखने में बेहद अद्भुत लगता है। हालांकि यह पुल फ्री नहीं है। इससे गुजरने के लिए स्थानीय लोगों को करीब 2 रुपए देने पड़ते हैं। जबकि विदेशी पर्यटकों से इसका 40 गुना लिया जाता है।

हर साल बनाया जाता है इसे...

यह भी पढ़े : दिमाग घुमा देंगी दुनिया की ये अजीबो गरीब बिल्डिंग्स की तस्वीरें


हर साल बनाया जाता है इसे...
एक मीडिया रिपोर्ट में बताया गया है कि बारिश के मौसम से ठीक पहले, स्थानीय लोग इस पुल को तोड़ देते हैं। ताकि नदी में आने वाली बाढ़ इसमें लगे बांसों को बहा ना ले जाए। यह काम समय पर कर लिया जाता है और सभी बांसों को संभाल कर रखा जाता है। जैसे ही मौसम सही होता है इसे दोबारा बना दिया जाता है।

यह भी पढ़े : अब गुब्बारे से अंतरिक्ष पर जाइए, कंपनी ने किया ये खास इंतजाम


ऐसा हर साल किया जाता है। अब आप यह सोच रहे होंगे कि बांस का पुल कितना मजबूत होगा।

यह भी पढ़े : ...तो इसलिए रोजाना शेव करती है यह हसीना!


लेकिन हम आपको बता दें कि इससे साइकल, बाइक, कार तक निकल सकती हैं। यह पुल मेकांग नदी पर बना है।

यह भी पढ़े : जिगर और दिल चाहिए यहाँ जाने के लिए


नई दिल्ली। आपने कुत्ते की कई प्रकार की नस्ल देखी होगी। कई लोग अपने घर में कुत्ता पालने को शौक रहते है। ये लोग नस्ल देखकर ही कुत्ता पालते है। आमतौर पर घर में पालने वाले कुत्ते छोटे होते है या सामन्य कुत्तों की तरह नजर आते है। लेकिन आपको दुनिया के सबसे बड़े कुत्ते के बारे में बताने जा रहे है। यदि यह विशाल आकार का कुत्ता एकाक सामने आ जाए तो अच्छे अच्छे की हालत पतली जाएगी।

जी हां, हम बात कर रहे है दुनिया के सबसे बड़े कुत्ते ‘डेन फ्रैडी’ की। इस कुत्ते का नाम गिनीज वर्ल्र्ड रिकॉर्ड में दर्ज है। जिसके बाद इसने दुनिया का सबसे लंबा कुत्ता होने का रिकॉर्ड अपने नाम दर्ज किया। इसको देखकर कई बार लोग हैरत में पड़ जाते हैं कि क्या कोई कुत्ता इतना लंबा भी हो सकता है। इस कुत्ते को इंग्लैंड की मॉडल क्लैरी स्टोनमैन अपने घर पालने के लिए लाई थीं। जब वह इस पपी को लेकर आईं तो शायद ही उन्हें इस बात का अंदाजा होगा कि इसकी हाइट आगे जाकर इतनी बढ़ जाएगी कि ये दुनिया का सबसे लंबा कुत्ता कहलाने लगेगा।

यह भी पढ़े : इन तस्वीरों को देख हो जाएं लोट-पोट


पहले ये भी आम कुत्तों की तरह ही था लेकिन अचानक ही इसकी हाइट एकदम से इतनी बढ़ गई कि क्लैरी के साथ-साथ आस-पास के लोग भी हैरान रह गए। आपको बता दें कि इस कुत्ते की उम्र 5 साल है।

यह भी पढ़े : जिगर और दिल चाहिए यहाँ जाने के लिए


फ्रैडी अब 1.035 मीटर का है जिसकी उचाईं लगभग 3.3 फीट है। जबकि ये 7 फीट 5.5 इंच लंबा है। यह कुत्ता एक बार में इतना खाना खा लेता है जितना कोई आम कुत्ता दो दिन में खाता होगा। कई मुर्गे एक साथ खा जाता है।

यह भी पढ़े : तस्वीरें ऎसी जिन्हें देख आखों पर नही कर पाएंगे विश्वास


इस कुत्ते के खाने पर साल भर में लगभग 10,000 यूरो खर्च किया जाता है करीब 8 लाख के आस-पास। क्लैरी के मुताबिक वह अपने घर में इसके साथ एक और कुत्ते को पालती हैं।

यह भी पढ़े : यहां रहते हैं जिंदा भूत, इनके छूने से हो जाती है इंसान की मौत!


क्लैरी का कहना है कि उन्हें कुत्तों से बेहद लगाव है। वो कहती हैं ये कुत्ते अभी तक उनके घर के 26 सॉफे बरबाद कर चुके हैं। लेकिन इस बात से उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता। इनके घर अक्सर लोग इन कुत्तों से मिलने आया करते हैं।

यह भी पढ़े : किंग कोबरा को नचाता है अपने इशारों पर, 3000 बार काट चुके हैं सांप


यह भी पढ़े : ये है दुनिया की सबसे महंगी गाय, कीमत जान रह जाएंगे दंग