राजस्थान के विकास में युवाओं की सहभागिता बढ़े : डॉ. ज्योति किरण

www.khaskhabar.com | Published : बुधवार, 18 जुलाई 2018, 7:43 PM (IST)

जयपुर। आर्थिक एवं सांख्यिकी विभाग राजस्थान द्वारा संचालित एवं राज्य वित्त आयोग राजस्थान द्वारा निर्देशित ‘युवा विकास प्रेरक’ इंटर्नशिप कार्यक्रम के छठवें बैच की प्रशिक्षण कार्यशाला का उद्घाटन 18 जुलाई को राजस्थान इंस्टीट्यूट ऑफ कॉपरेटिव एज्यूकेशन एंड मैनेजमेंट जयपुर (राइसेम) में हुआ। राज्य वित्त आयोग की अध्यक्ष डॉ. ज्योति किरण ने दीप प्रज्वलन कर प्रशिक्षण कार्यक्रम की शुरुआत की।

प्रशिक्षण कार्यक्रम में डॉ. ज्योति किरण ने सभी प्रशिक्षु युवा विकास प्रेरकों से कहा कि प्रेरक राजस्थान में सरकार एवं जनता के बीच एक महत्वपूर्ण कड़ी का कार्य करते हुए जमीन से जुड़ा फीडबैक सरकार को मिलना सुनिश्चित करते हैं। मुख्यमंत्री की संकल्पना पर आधारित युवा केन्द्रित यह कार्यक्रम सहभागी विकास की अवधारणा पर आधारित है।



ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य है कि राजस्थान के विकास में युवाओं की सहभागिता बढ़े और अंतिम छोर पर बैठे व्यक्ति को सरकार की योजनाओं का लाभ मिले।

ये भी पढ़ें - राजस्थान के इस पुल पर पैदल जाओगे तो पकड लेगी पुलिस!

आर्थिक एवं सांख्यिकी विभाग के निदेशक डॉ. ओपी बैरवा ने कार्यक्रम की प्रगति एवं युवा विकास प्रेरकों की उपलब्धियों पर प्रकाश डालते हुए बताया कि वर्ष 2016-17 से संचालित यह कार्यक्रम सफलता के नए कीर्तिमान स्थापित कर रहा है।


ये भी पढ़ें - यहां महाभारत के भीम आज भी करते हैं शहर की रक्षा

प्रेरक समाज के प्रत्येक क्षेत्र में आमजन को सरकारी योजनाओं एवं कार्यक्रमों की जानकारी के साथ ही लाभ भी दिलवाया जाना सुनिश्चित कर रहे हैं।

ये भी पढ़ें - यहां पकौडे और चटनी के नाम रामायण के किरदारों पर

इस अवसर पर राइसेम निदेशक सुधीर कुमार बंसल, राज्य वित्त आयोग के सदस्य सचिव एससी देराश्री, संयुक्त शासन सचिव राजेश गुप्ता, संयुक्त निदेशक आकाश पाठक एवं सहायक रजिस्ट्रार रणवीर परिहार के साथ समस्त नवचयनित युवा विकास प्रेरक उपस्थित थे।

ये भी पढ़ें - इस गांव में अचानक लग जाती है आग, दहशत में लोग