गजब! रेप पीडि़ता ने अपना केस खुद लड़ा, जज ने सुनाया ये फैसला...

www.khaskhabar.com | Published : बुधवार, 18 जुलाई 2018, 5:41 PM (IST)

नई दिल्ली। अक्सर देखा जाता है कि महिलाएं अपने ऊपर होने वाले अत्याचार को बहुत बार छुपा लेती है और कई बार ऐसा होता है कि कोर्ट के बाहर ही मामला निपट जाता है। लेकिन केरल में 30 साल की रेप पीडि़ता ने साहस की अनोखी मिसाल पेश की है। पीडि़ता ने अपना केस खुद लडऩे का फैसला किया और कोर्ट ने भी उसके पक्ष में फैसला सुनाया। केरल हाईकोर्ट ने महिला के खिलाफ दायर केस को खारिज कर दिया है।

बता दें कि महिला के साथ बलात्कार के आरोपी शख्स ने कथित रूप से एक व्यक्ति को पैसे देखर फर्जी केस कराया था, जिससे महिला रेप केस की सुनवाई में न पहुंच पाए। बता दें कि पीडि़ता खुद ही अपने मामले की पैरवी कर रही थी। 34 वर्ष के राजेश बाबू पीएन ने रेप पीडि़ता के खिलाफ थप्पड़ मारने और अपशब्द कहने का केस दर्ज कराया था। व्यक्ति का कहना था कि महिला ने उसे पार्किंग को लेकर थप्पड़ मारा था। वहीं दूसरी ओर महिला का कहा था कि शिकायतकर्ता महिला को केस की सुनवाई में जाने से रोक रहा था।

मीडिया रिपोट्र्स के मुताबिक यह घटना कथित रूप से पुलिसकर्मियों की मौजूदगी में हुई थी। महिला डॉक्टर का कहना था कि राजेश और अन्य लोगों के खिलाफ पुलिस ने एक केस दर्ज किया था। जिसकी सुनवाई में जाने से रोकने के लिए महिला डॉक्टर के खिलाफ फर्जी केस किया गया था। महिला ने ये भी बताया कि जिस व्यक्ति ने उसके खिलाफ केस दर्ज किया था, उसने महिला से कोर्ट के बाहर मामले को हल करने के लिए संपर्क किया था। व्यक्ति ने महिला से रेप केस को हल करने के लिए संपर्क किया था।

टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में महिला ने कहा, ‘डॉक्यूमेंट से जुड़े तथ्य अनुभव करने वाले से ज्यादा बेहतर तरीके से कोई और नहीं पेश कर सकता है।’ महिला ने मीडिया से कहा राज्य सरकार ने उसके मामले में मदद के लिए कोई कोशिश नहीं की।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे