फिल्म रिव्यू: आलिया ने फिल्म राजी में दिखाई अपनी दमदार एकटिंग...

www.khaskhabar.com | Published : शुक्रवार, 11 मई 2018, 4:11 PM (IST)

फिल्म: राजी कलाकार:आलिया भट्ट,विकी कौशल,रजित कपूर,शिशिर शर्मा,जयदीप अहलावत,सोनी राजदान निर्देशक: मेघना गुलजार मूवी टाइप :थ्रिलर अवधि : 2 घंटा 20 मिनट जंगली पिक्चर्स और धर्मा प्रोडक्शन के बैनर तले बनी 'राजी' फिल्म 11 मई को रिलीज हुई। हाइवे के बाद एक बार फिर राजी के जरिए आलिया भट्ट का जोरदार अभ‍िनय फिल्म में देखने को मिलेगा। फिल्म को मेघना गुलजार ने निर्देशित किया है। इसकी कहानी एक कश्मीरी महिला जासूस पर आधारित है जो एक पाकिस्तान के एक आर्मी अफसर से शादी कर देश के लिए जरूरी सूचनाएं निकालती है। फिल्म की कहानी एक सच्ची घटना से प्रेरित है। आइए आपको बताते हैं आलिया की कहानी किस लड़की से प्रेरित है।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

कहानी फिल्म की कहानी है 1971 के दौरान भारत-पाक के बीच तनावपूर्ण माहौल को दिखाती है, जो बाद युद्ध में तब्दील होता है। कहानी शुरू होती है पाकिस्तान से जब पाकिस्तान भारत को तबाह करने के मंसूबों को लेकर युद्ध की तैयारी और इसका तान-बाने बुन रह होता है। इसकी भनक एक कश्मीरी बिज़नसमैन हिदायत खान (रजित कपूर) को लग जाती है। हिदायत व्यापार के सिलसिले में अक्सर भारत से पाकिस्तान आया-जाया करता है और उसकी पाकिस्तानी आर्मी में ब्रिगेडियर परवेज सैय्यद (शिशिर शर्मा) से अच्छी दोस्ती है।
हिदायत इसी दोस्ती का सहारा लेकर अपने वतन की रक्षा के लिए एक बड़ा फैसला लेता है। वह अपनी बेटी सहमत (आलिया भट्ट) के लिए ब्रिगेडियर से उनके बेटे इकबाल (विकी कौशल) का हाथ मांगता है, जो एक आर्मी ऑफिसर है। सहमत बेहद नाजुक सी एक कश्मीरी लड़की है, जिसे पता तक नहीं कि उसके पिता उसका भविष्य पाकिस्तान में लिख आए हैं। हालांकि वतन के लिए परेशान पिता को देखकर सहमत इस रिश्ते के लिए हां कहने में देर नहीं लगाती है। सहमत अब अपने पिता और वतन के खातिर पाकिस्तान में भारत की आंख और कान बनकर रहने को तैयार है। इससे पहले सहमत खुद को एक जांबाज जासूस बनने की तैयारी में झोंक देती है और उसे पाकिस्तान से इस लड़ाई के लिए तैयार करते हैं रॉ एजेंट खालिद मीर (जयदीप अहलावत)। इकबाल से सहमत की शादी होती है और वह एक बेटी से बहू बनकर भारत की दहलीज पार करती है।
एक दुश्मन देश में मौजूद अपने ससुराल और अपने शौहर के दिल में जगह बनाती हुई सहमत इसी के साथ-साथ पाकिस्तान आर्मी में चल रहे षड्यंत्रों की जानकारी भारत तक पहुंचाने में कामयाब होती है। एक आर्मी परिवार के बीच रहकर यह सब कर पाना सहमत के लिए मुश्किल साबित होता है। इस दौरान उसे कई ऐसे फैसले भी लेने पड़ते हैं, जिसके बारे में उसने कभी सोचा तक नहीं था। इस पूरी कहानी के बीच एक छोटी से प्रेम-कहानी भी पनपती है, जो सहमत और इकबाल की है। फिल्म में कमी की बात करें तो कहानी काफी तेज रफ्तार से आगे बढ़ती है। फिल्म के साथ-साथ आपको इसकी आगे की कहानी का भी अंदाज़ा आसानी से लगने लगता है।

ये भी पढ़ें - कैसे शुरू किया था मशहूर सिंगर सोनू ने अपना सफर

क्यों देखें: कॉलेज में पढ़ने वाली लड़की से लेकर पाकिस्तान में रहकर भारत की जासूसी करने वाली एक लड़की की यह कहानी, उन सभी अनजाने-अपरिचित चेहरों की कहानी कहती है जिन्होंने देश की सेवा अपना सबकुछ निसार तो किया लेकिन उनका कहीं कोई जिक्र नहीं हो पाया। ऐसे हीरोज़ की अनकही कहानी कहती यह फिल्म आपको निराश नहीं करती।

ये भी पढ़ें - ये एक्ट्रेस है दुनिया की सबसे परफेक्ट फिगर वाली महिला!