फिल्म रिव्यू:'ओमेर्टा' में राजकुमार ने अपने अभिनय को किया साबित...

www.khaskhabar.com | Published : शुक्रवार, 04 मई 2018, 12:54 PM (IST)

स्टार कास्ट: राजकुमार राव
डायरेक्टर: हंसल मेहता
लेखक: मुकुल देव और हंसल मेहता
रेटिंग: तीन स्टार

निर्देशक हंसल मेहता जब कोई फिल्म लेकर ऑडियंस के सामने आते हैं तो ये तय होता है कि उनकी फिल्म में कुछ तो असामान्य या असाधरण देखने को मिलने वाला है। फिल्म की कहानी एक ऐसे शख्स के जीवन पर आधारित है जो पढ़ा-लिखा है लेकिन जेहाद और धर्म के नाम पर उसका ब्रेन वॉश कर दिया जाता है। निर्देशक हंसल मेहता इस फिल्म पर पिछले करीब 12 साल से काम कर रहे थे और अब जाकर उनका ये प्रोजेक्ट बनकर तैयार हुआ है।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

कहानी

फिल्म का नाम सुनते ही सबसे पहले जेहन में ये खयाल आता है आखिर इसका नाम 'ओमेर्टा' क्यों रखा गया। तो सबसे पहले हम आपको इसका मतलब बताते हैं। ओमेर्टा का मतलब होता है खामोशी। असल में ये एक कोड वर्ड है जिसका इस्तेमाल जुर्म की दुनिया में किया जाता है। इस शब्द का प्रयोग आमतौर पर अपराधियों द्वारा अपने अपराध से जुड़ी जानकारी किसी के साथ साझा न करने को लेकर किया जाता है। फिल्म में आपको भारत सहित विश्व की तीन महत्वपूर्ण घटनाओं के बारे में बताया गया है जो कहीं न कहीं एक ही धागे से बंधी हैं। पहली घटना 1993 मुंबई बम धमाकों की है, दूसरी घटना 1992 भारत-नेपाल प्लेन हाईजैक की है और तीसरी घटना 9/11 के आतंकी हमले की है जो अमेरिका के वर्ल्डट्रेड सेंटर पर किया गया था।

डायरेक्शन

हंसल मेहता ने इस फिल्म का निर्देशन बेहद सच्चाई से किया है। उन्होंने कहीं भी फिल्म को एंटरटेनिंग बनाने के नाम पर कहानी में मनघड़ंत पेंच नहीं जोड़े हैं। हंसल मेहता ने उस दौरा और उमर के जीवन से जुड़ी जितनी भी घटनाएं फिल्म में दिखाई हैं उनपर बेहद अच्छी रिसर्च की है। हालांकि फिल्म में क्रिएटिव लिबर्टी नहीं ली है जिसके कारण ये एक बेहद गंभीर डॉक्यूमेंट्री जैसी लगती है।

एक बार फिर राजकुमार राव ने अपने अभिनय और प्रतिभा को साबित किया है। फिल्म में मुख्य भूमिका में तो राजकुमार राव ही हैं। लेकिन अलग-अलग घटनाओं में कई एक्टर्स नजर आते हैं हालांकि कोई भी बहुत नामी एक्टर फिल्म में नहीं दिखता। लेकिन सभी ने अपने-अपने किरदारों को बखूबी निभाया है। वहीं, अगर राजकुमार राव की बात करें तो फिल्म के दौरान कई पल ऐसे आते हैं जब आपको यूं लगने लगता है मानो ये राजकुमार नहीं बल्कि उमर शेख ही है।