पद्मावती को लेकर विवाद चरम पर, SC ने ठुकराई रिलीज रोकने की याचिका

www.khaskhabar.com | Published : शुक्रवार, 10 नवम्बर 2017, 1:30 PM (IST)

जयपुर/दिल्ली। संजय लीला भंसाली की आगामी फिल्म पद्मावती की रिलीज को लेकर विवाद बढता ही जा रहा है। फिल्म की शूटिंग से शुरू हुआ विवाद अब अपने चरम पर पहुंच गया है। राजस्थान मेें इस फिल्म को लेकर घमासान मचा हुआ है। राजपूत समाज फिल्म पद्मावती को किसी भी कीमत पर रिलीज नहीं होने देना चाहता। वहीं जयपुर राजपरिवार और मेवाड राजपरिवार ने भी इस फिल्म की रिलीज को लेकर सवाल उठाए हैं।

पूर्व राजघरानों ने फिल्म को बैन करने की मांग की है। राजस्थान के अलग अलग हिस्सों में फिल्म के कंटेंट को लेकर विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। राजस्थान के झुंझनू, जयपुर, जोधपुर सहित कई इलाकों में लोग प्रदर्शन कर रहे हैं। जयपुर के पूर्व राजघराने की राजकुमारी और विधायक दीया कुमारी एक प्रेस कॉन्फ्रेंस भी करने वाली हैं।

संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मवती की रिलीज को रोकने को लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका लगाई गई लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने इस याचिका पर सुनवाई करने से इंकार कर दिया है। ज्ञातव्य है कि सोमेश चंद्र झा ने पद्मावती की रिलीज रोकने की याचिका लगाई थी। याचिका में फिल्म को बैन करने की मांग की गई है। साथ ही इस फिल्म के विवाद में राजनेता भी कूद गए हैं। बीजेपी के वरिष्ठ नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने पद्मावती के फंड पर सवाल उठाया। स्वामी ने कहा कि फिल्म में किसका पैसा लगा है इसकी जांच होनी चाहिए।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

वहीं सेंसर बोर्ड के सदस्य और बीजेपी नेता अर्जुन गुप्ता ने गृहमंत्री राजनाथ सिंह को एक चि_ी लिखकर भंसाली पर देशद्रोह का मामला दर्ज करने की मांग की है। फिल्म पर चल रहे विवाद को देखते हुए मुंबई पुलिस ने संजय लीला भंसाली के जुहू ऑफिस के बाहर सुरक्षा कडी कर दी गई है। भंसाली के ऑफिस के बाहर 16 पुलिसकर्मियों की टीम तैनात की है।

वहीं एक फेसबुक पोस्ट में संजय लीला भंसाली ने इस फिल्म पर सफाई देते हुए लिखा है कि फिल्म में ऐसा कुछ नहीं है जिससे रानी पद्मावती की गरिमा को ठेस पहुंचे। साथ ही उन्होंने लिखा कि फिल्म पद्मावती बहुत ईमानदारी और जिम्मेदारी के साथ बनाई है।

ये भी पढ़ें - शर्त या पागलपंथी!निगली एक फुट लंबी संडासी