आपका मूलांक बताएगा कि कैसी होगी आपकी जीवनसंगीनी

www.khaskhabar.com | Published : शनिवार, 19 अगस्त 2017, 11:34 AM (IST)

अंग्रेजी के प्रत्येक अक्षर को एक अंक दिया गया है, वर व कन्या दोनों के नाम लिखकर पहले उनका नामांक जाना जाता है फिर उन अंकों की प्रकृति के अनुरूप उनका मिलान किया जाता है। अंकशास्त्र के अनुसार वर-वधू दोनों के नामांक ज्ञात कर निम्नानुसार गुण मिलान का परिणाम बताया जा सकता है-

1. अंक वाले वर के साथ : 1 अंक वाली समान नामांक होने के कारण आपसी कलह व विवाद रहेगा, यदि कन्या का नामांक दो है तो किसी कारणवश दोनों में आपसी तनाव बना रहेगा, तीन अंक वाली कन्या के साथ विवाह उत्तम व सुखमय होगा, कन्या का नामांक चार होने पर दोनों के मध्य अकारण ही विवाद होते रहेंगे, पांच नामांक वाली कन्या के साथ गृहस्थ जीवन सुखमय रहेगा, सात व नौ अंक वाली कन्या के साथ सुखमय व आनन्दमय दांपत्य जीवन रहेगा व आठ अंक वाली कन्या के साथ साधारण सुख प्राप्त होंगे।

2. अंक वाले वर के साथ: यह अंक चंद्रमा का है व अधिकांश ग्रहों से इनकी मित्रता है। अत: दो अंक वाले वर के साथ एक व सात अंक वाली कन्याओं के अलावा सभी अंक वाली कन्याओं के साथ सुखद दांपत्य जीवन रहेगा।

3. अंक वाले वर के साथ: तीन अंक वाले वर के साथ एक, दो, छह, आठ व नौ अंक वाली कन्याओं के साथ विवाह सफल व सुखद रहता है, तीन चार व पांच अंक वाली कन्याओं के साथ विवाह जीवन में बाधाएं व तालमेल का अभाव रहता है व सात अंक वाली कन्याओं के साथ सामान्य स्तर का वैवाहिक जीवन रहता है।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

4. अंक वाले वर के साथ: इस अंक वाले वर के साथ एक, तीन, छह, सात व नौ अंक वाली कन्याओं के साथ वैवाहिक जीवन सुखमय नहीं रहता है जबकि आठ अंक वाली कन्याओं के साथ सामान्य व दो, चार व पांच अंक वाली कन्याओं के साथ सुखद व उल्लासमय वैवाहिक जीवन रहता है।

5. अंक वाले वर के साथ: एक, दो, पांच, छह व आठ अंक वाले कन्याओं के साथ वैवाहिक जीवक सुखद व आनंदमय रहता है, तीन व नौ अंक वाले कन्याओं को वैवाहिक जीवन में संघर्ष व चार तथा सात नामांक वाली कन्याओं के पांच अंक वाले वर के साथ वैवाहिक जीवन सामान्य स्तर का होता है।

ये भी पढ़ें - बच्‍चों को नजर से बचाने के लिए करें ये 5 उपाय

6. अंक वाले वर के साथ: एक अंक की कन्या का उत्तम, दो अंकवाली कन्या का असामान्य, तीन, पांच, सात आठ व नौ अंक वाली कन्याओं के विवाह प्रसंग सफल व चार अंक वाली कन्या के साथ संघर्षमय व छह अंक वाली कन्या के साथ सुखद दांपत्य रहता है।

7. अंक वाले वर के साथ: सात अंक वाले वर के साथ एक, तीन व छह अंक वाली कन्याओं के वैवाहिक संबंध मधुर होते हैं। दो व चार अंक वाली कन्याओ के साथ मधुरता का अभाव रहता है व पांच आठ और नौ अंकों वाली कन्याओं के साथ कुछ कठिनाइयां होती है परंतु आपसी तालमेल से नैया पार करने में सफल होते हैं।

ये भी पढ़ें - इन मंत्रों के जाप से नौकरी खिंची चली आएगी, बनेंगे सरकारी नौकरी के योग

8. अंक वाले वर के साथ: एक, चार, आठ व नौ अंक वाली कन्याओं के साथ विवाह उचित नहीं है, दो व तीन अंक वाली कन्याओं के साथ सामान्य तथा पांच, छह व सात अंक वाली कन्याओं के साथ आठ अंक वाले वर का विवाह सफल व उत्तम रहता है।

9. अंक वाले वर के साथ: इस अंक वाले वर के साथ एक, दो, तीन, छह व नौ अंक वाली कन्याओं के विवाह प्रसंग सफल व सुखमय होते हैं, चार व आठ अंक वाली कन्याओं के विवाह नहीं करने चाहिए क्योंकि मंगल के प्रभाव के कारण इस प्रकार के विवाहों में अलगाव की स्थितियां भी उत्पन्न हो सकती है, जबकि चार व सात अंक वाली कन्याओं के साथ सामान्य स्तर का वैवाहिक जीवन रहता है।

ये भी पढ़ें - हनुमानजी के इन 12 नामों को जपने से होगा आपका सर्वस्व कल्याण