गजब का टैलेंट, पैरों से पत्थर तराश बना देते हैं मूर्तियां

www.khaskhabar.com | Published : मंगलवार, 24 जनवरी 2017, 8:20 PM (IST)

उदयपुर। संकल्प, स्वाभिमान और कड़े अभ्यास से अभावों और कमियों को भी हराया जा सकता है। इसकी जीवंत मिसाल हैं गुणवंत सिंह देवल।

विद्या भवन उदयपुर में 1981 से 1984 तक होस्टल में रहकर कक्षा नौवीं से ग्यारहवीं तक प्रथम श्रेणी में परीक्षाएं उत्तीर्ण करने वाले, कवि , लेखक, चित्रकार, मूर्तिकार, तैराक, वक्ता कई गुणों के भंडार गुणवंत के जन्म से ही दोनों हाथ नहीं है। अपनी इस शारीरिक कमी को गुणवंत ने पांवों को ही हाथ बनाकर पार कर लिया।

गुणवंत सिंह पांवों से ही अपने समस्त कार्य कर लेते हैं। पैर से क़लम, कूची और छेनी पकड़कर अपने सपनों की दुनियाँ को रचने वाले गुणवन्त सिंह देवल का कहना है कि मन में जज़्बा हो तो सबकुछ सम्भव है। जिनके हाथ हैं वे उनसे भीख भी माँग रहे हैं और हिंसा भी कर रहे हैं, इसलिए हाथ या शरीर का कोई अंग नहीं होने से फ़र्क़ नहीं पड़ता, बल्कि हमारी सोच और प्रयास महत्वपूर्ण हैं।

गुणवन्त मंगलवार दोपहर को विद्या भवन स्कूल आए , जहाँ वे तीन वर्ष पढ़े थे। उन्होंने अरावली हॉस्टल में अपना कमरा देखा। राष्ट्रपति पुरष्कार प्राप्त गुणवंत विधार्थियो से रूबरू हुए। उन्होंने मिनटों में पांव से चित्र बना विद्यार्थियों का उत्साह वर्धन किया। सभी को संकल्पवान और मेहनती बनने की प्रेरणा दी।


[@ कुश्ती का खुद का सपना अधूरा छोड़ बेटियों को बनाया कुश्ती चैंपियन]

गुणवन्त ने कहा कि तीन तरह के लोग होते हैं- वे जिन्हें केवल अपने से मतलब है, दूसरे वे जो मन में तो सहानुभूति रखते हैं, लेकिन किसी के लिए कुछ नहीं करते और तीसरे वे जो त्याग करते हैं। दूसरों की सेवा में जीवन का मज़ा लेना चाहिए। वे स्वयं 32 वसंत बीतने के बाद अपने स्कूल आकर हर्षित हैं और यहाँ मौजूद विद्यार्थियों में देश के नायकों को देखते हैं।


इस अवसर पर विद्या भवन के अध्यक्ष अजय एस मेहता ने कहा कि गुणवंत की उपस्थिति से ही नवीन ऊर्जा और उत्साह का संचार हुआ है। मेहता ने कहा कि विद्या भवन ने हमेशा विशिष्ठ बच्चों को जगह दी है। गुणवन्त ने विपरीत परिस्थितियों में भी ख़ुद को साबित किया है। उन्होंने गुणवन्त को शॉल ओढ़ाकर सम्मानित किया।

[@ माता का चमत्कार: आपस में लड पडे थे पाक सैनिक.... ]

[@ अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे]