इस शहर की आधी आबादी करती है भूत-प्रेतों से बातें!

www.khaskhabar.com | Published : रविवार, 01 अक्टूबर 2017, 5:09 PM (IST)

नई दिल्ली। भूत-प्रेतों से बात करने का दावा करने वाले तो आम तौर पर मिल जाते हैं, मगर आपने न तो ऐसा सुना होगा और न ही देखा होगा कि किसी शहर की आधी से ज्यादा आबादी भूत-प्रेतों से रूबरू होती हों। हम आपको बताते हैं कि अमेरिका में एक ऐसा शहर मौजूद है जो दुनिया भर में ‘साइकिक कैपिटल’ के नाम से जाना जाता है। अमेरिका के फ्लोरिडा में स्थित कासाडागा टाउन के बारे में कहा जाता है कि यहां की आधी से ज्यादा आबादी भूतों से बातें करती है। इस शहर को 140 साल पहले वर्ष 1875 में न्यूयॉर्क के आध्यात्मिक गुरु जॉर्ज कॉल्बी ने बसाया था।
तो पहले इस शहर के बारे में जान लें

[@ इस महिला ने की एक गलती, सांपों ने किया जीना मुहाल]

कासाडागा को दुनयिाभर में ‘साइकिक कैपिटल’ के नाम से जाना जाता है। यहां के लोगों का दावा है कि इस शहर के ज्यादातर लोग मनोविज्ञान के जानकार हैं और मृत आत्माओं से साक्षात्कार करने की क्षमता रखते हैं। 1875 में इस टाउन को न्यूयॉर्क के आध्यात्मिक गुरु जॉर्ज कॉल्बी ने बसाया था जो खुद को परामनोवैज्ञानिक या स्प्रिचुअल हीलर्स कहते थे। धीरे-धीरे यहां लोग बसने लगे, जो खुद स्प्रिचुअल हीलर्स बन गए। एक दावे के मुताबिक, कासाडागा में 100 से अधिक स्प्रिचुअल हीलर्स हैं, जो मृत आत्माओं से संपर्क होने का दावा करते हैं। हर साल यहां सैकड़ों लोग दूर-दूर से बुरी आत्माओं से मुक्ति पाने के लिए आते हैं। यहां ईसाई धर्म, दर्शन और विज्ञान के मिले-जुले आधार पर केंद्रित अध्यात्म का एक अनूठा रूप देखने को मिलता है।

[@ इस फोन नंबर को जिसने भी खरीदा, मौत उसे लेने आ गई! ]

इस शहर में रहने वाले ज्यादातर लोग खुद के बारे में दावा करते हैं कि वे परामनोविज्ञान की जानकारी रखते हैं। परामनोवैज्ञानिक मानते हैं कि मृत्यु के बाद भी व्यक्ति का कुछ अस्तित्व बचा रहता है। अगर प्रयास किया जाए तो मृत व्यक्ति से संपर्क किया जा सकता है। इसी आधार पर यहां की आधी आबादी इस बात का दावा करती है कि उनमें ऐसी शक्ति मौजूद है, जिसको माध्यम बनाकर या अन्य तरीको से वे परलोक गए व्यक्ति की आत्मा से संपर्क कर सकते हैं। यहां के स्प्रिचुअल हीलर्स टैरो काड्र्स और हस्तरेखाओं को पढक़र भी आत्माओं से संपर्क करने का दावा करते हैं। अनुमान के मुताबिक यहां हर साल करीब 15,000 लोग आते हैं, और यही कासाडागा की अर्थव्यवस्था का आधार भी है।
इंडियन हिप्नोसिस एकेडमी के प्रमुख डा. जेपी मल्लिक बताते हैं कि किसी व्यक्ति को हिप्नोटाइज करके पूर्वजन्म में हुई घटनाओं को देखा जा सकता है। इतना ही नहीं, अगर व्यक्ति चाहे तो वह हिप्नोसिस के माध्यम से किसी मृत आत्मा से संपर्क कर सकते हैं।

[@ मरने के बाद दोबारा जिंदा होगी यह लडकी! जानिए कैसे]

यानी मध्यम के द्वारा आत्माओं से संपर्क किया जा सकता है। चेतन मन में आत्माओं से संपर्क करना मुश्किल होता है, लेकिन अचेतन मन को आत्माओं से जोड़ा जा सकता है। आत्माओं से संपर्क होने के बाद व्यक्ति उनसे अपने प्रश्न पूछ सकता है। इनका कहना है कि यह काम व्यक्ति खुद भी कर सकता है लेकिन किसी एक्सपर्ट की सलाह से करे तो बेहतर रहता है, क्योंकि कई बार व्यक्ति बहुत डर जाता है। ऐसे समय में व्यक्ति को संभालने के लिए एक एक्सपर्ट की जरूरत होती है।
इन्होंने यह भी बताया कि आत्माएं जो बुलाने पर आ जाती हैं वह अपनी मर्जी से खुद ही चली जाती हैं इसलिए हिप्नोटिज्म के द्वारा आत्माओं से संपर्क करने पर यह डर नहीं रहता कि आत्मा आ गई तो लौट कर जाएगी या नहीं। ऐसे में यह अविश्वसनीय नहीं कहा जा सकता है कि लोग आत्माओं से संपर्क कर सकते हैं।

[@ दहेज में मिलेंगे 1200 करोड, फिर भी शादी से डर रहे लडके!]