ईडी अधिकारी बन दिल्ली के व्यापारी से लूटे 85 लाख रूपये

www.khaskhabar.com | Published : बुधवार, 21 दिसम्बर 2016, 09:18 AM (IST)

आगरा। ट्रैफिक पुलिस के दो सिपाहियों ने प्रर्वतन निदेशालय (ईडी) के अधिकारी बनकर दिल्ली के बिल्ड र से 85 लाख रुपए लूट लिए। कुछ दिन बाद बिल्डलर को पता चला कि लुटेरे सिपाही थे, तो वह सिपाहयों के पास पहुंच गया। उसने मुकदमा करने की धमकी दी, तब सिपाही ने 62 लाख रुपए वापस भी कर दिए। बाकी रकम न मिली तो उसने पुलिस को शिकायत कर दी।
अब सोमवार की रात को एसएसपी प्रीतिंदर सिंह ने इस मामले में राघवेंद्र सिंह और भरत मिश्र को निलंबित कर दिया है। लूट की यह वारदात फिरोजाबाद के सिरसागंज में एक दिसंबर को हुई थी। दिल्लीर का बिल्डसर पोलो कार से 85 लाख रुपए लेकर जा रहा था। उसी दौरान नीली बत्तीउ लगी कार ने रोका। दो सिपाहियों ने सादी वर्दी में खुद को ईडी का अफसर बताया और कार की तलाशी शुरू कर दी। कार में रुपए मिले।
सिपाहियों ने बिल्डरर से 85 लाख रुपए का स्रोत पूछा। जब बिल्ड र घबराया तो सिपाहियों ने जेल भेजने की धमकी दी और रुपए से भरा बैग ले लिया। वे इसे अपने कार में रखकर वहां से भा गए। इसके बाद बिल्ड्र ने पुलिस को सूचना नहीं दी और घर लौट गया। बाद में बिल्डीर ने ईडी ऑफिस में पूछा कि उसके 85 लाख रुपए बरामद हुए हैं, तो अधिकारियों ने इससे अनभिज्ञयता जाहिर की।
[@ अब नोट जमा कराए तो पूछेंगे,कहां थे अब तक]

इसके बाद बिल्डर ने अपने ड्राइवर से पूछताछ की, तब पता चला कि यह सब आगरा की ट्रैफिक पुलिस के सिपाही राघवेंद्र सिंह और भरत मिश्र ने लूट की है। बाद में बिल्‍डर ने ड्राइवर के सहारे सिपाहियों से संपर्क किया। जब उसने मुकदमा करने की धमकी दी, तब सिपाहियों ने 62 लाख रुपए लौटा दिए। इसके बाद बची हुई रकम वापस करने से सिपाहियों ने इनकार कर दिया। तब बिल्‍डर आगरा के एसएसपी प्रीतिंदर सिंह के पास पहुंचा। उसने सारी जानकारी दी। एसएसपी ने बताया कि इस मामले में दोनों सिपाहियों को निलंबित कर दिया गया है। बिल्‍डर से लूट का मुकदमा दर्ज करवाने को कहा गया है। जांच करके आगे की कार्रवाई की जाएगी।

[@ ड्रग तस्करों से मिली जाली करेंसी, जानिए कहां से आ रहें है नकली नोट]