नाम रेनबो वैली लेकिन है यह शवों की घाटी

www.khaskhabar.com | Published : शनिवार, 29 नवम्बर 2014, 10:41 AM (IST)

कल्पना कीजिये कि आप माउंट एवेरेस्ट को फतेह करने जा रहे है। आप अपनी चढाई के आखिर दौर में है, शिखर को चूमने के लिए आप बेताब है तभी आप एक ऎसी जगह पहुचतें है जहा का द्रश्य देख कर आप कि रूह काप जाती है जहा आपको कई क्लाइंबर्स के शव फ्रोजन अवस्था में दिखाई देते है, तो समझ लीजिये कि आप रेनबो वैली पहुँच गए है। माउंट एवेरेस्ट को फतेह करना हर क्लाइंबर्स का सपना होता है। लेकिन
[# अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

इसको फतेह कारण इतना आसान नहीं है। पहले जब तकनीक इतनी विकसित नहीं थी तब हर चार में से एक क्लाइंबर्स कि मौत इस प्रयास में होती थी और आज जबकि तकनीक काफी विकसित हो गयी फिर भी हर हजार में से बीस क्लाइंबर्स कि मौत इस प्रयास में होती है। इनमे से अधिकतर कि मौत ऎसी जगह होती है जहा से इनके शवों को निचे लाना लगभग असम्भव होता है। यह जगह कहलाती है रेनबो वैली। रेनबो वैली, माउंट एवेरेस्ट पर उसके शिखर से

कुछ निचे स्थित है। यह नाम सुनने में जितना अच्छा लगता है, यह जगह उतनी ही भयावह है। माउंट एवेरेस्ट का यह हिस्सा क्लाइंबर्स के लिए मौत कि घाटी है। यह पर अब तक सैकडों क्लाइंबर्स कि मौत हो चुकी है। उनमे से अधिकतर के शव भी अभी तक वही पडे है। क्योंकि यहां से शवो को निचे उतारना लगभग नामुमकिन है। हेलिकॉप्टर्स इसकी

आधी ऊँचाई तक ही पहुच पाते है। अत्यधिक ठंड व बर्फ के कारण यहां पडे हुए शव काफी हद तक सुरक्षित बने हुए है। इसलिए इस जगह को खुला कब्रिस्तान कहा जाता है। यहां पर क्लाइंबर्स का सामान भी इधर -उधर बिखरा पडा है जिसमे टेंट, जेकेट, ओक्सिजन सिलेंडर आदि है। अभी तक पहचाना गया सबसे पुराना शवGeorge Mallory  का है जो कि 1924 में तूफान में फंसकर मारे गए थे।