सपनों सा एक गाँव, जहां नहीं है सडके, केवल है नहरे

www.khaskhabar.com | Published : गुरुवार, 27 नवम्बर 2014, 10:43 AM (IST)

गिएथूर्न, नीदरलैंड (हॉलैंड) का एक प्रसिद्ध पर्यटक स्थल है जो की "दक्षिण का वेनिस" या "नीदरलैंड का वेनिस" के नाम से भी जाना जाता है। यहाँ पर साल भर पर्यटकों का तांता लगा रहता है क्योंकि यह एक सपनो का गाँव है, एक ऎसा गाँव जहाँ की खूबसूरती और सादगी देख कर वही बस जाने का मन करता हैं। इस गाँव की सबसे बडी खासियत यह है की यह पूरा गाँव नहरों से घिरा है। इस गाँव में एक भी गाडी या बाइक नहीं है क्योकि यहाँ पर इनको चलाने लायक एक भी रोड नहीं हैं। जिस किसी को भी कहीं जाना हो वह बोट के सहारे ही जा सकता है। यहां के नहरों में इलेक्ट्रिक मोटर से नाव चलती हैं, जिसके जरिए लोग कहीं आते जाते हैं। इन नावों से बहुत कम शोर होता है और लोगों को इनसे कोई शिकायत नहीं रहती। वहीं, कुछ लोगों ने एक से दूसरी जगह जाने के लिए गांव के बीच से गुजरने वाली नहर पर लकडी के पुल बना लिए हैं।
1230 में बना था ये गांव :
[# अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

इस गाँव में इतना पानी 1170 की एक भयंकर बाढ में आया था लेकिन इस गाँव की स्थापना 1230 में हुई थी। जब लोग यहां पर रहने आये तो उन्हें यहां पर बहुत सारे जंगली बकरियों के सिंग मिले जो की सम्भवतया 1170 की बाढ में यहां बह कर आई होगी। इसलिए इस जगह का शुरूआती नाम पडा "गेटेनहोर्न" (Geytenhorn), जिसका मतलब होता है "बकरियों के सिंग"। बाद में इसका नाम गिएथूर्न ( (Giethroon) हो गया।
कैसे बनी नहरे :

इन नहरों के बनने के पीछे की कहानी भी बडी दिलचस्प है, यहां पर इन नहरों का निर्माण अनजाने में ही हुआ। हुआ यूं की जब लोग यह पर रहने आये तो उन्होंने देखा की 1170 की बाढ़ के कारण यहां पर जगह जगह प्रचुर मात्रा में पिट इकnी ही गई है। पिट एक तरह की दलदली मिटटी और वनस्पतियों का मिश्रण होता है जो की ईंधन के रूप में काम में लिया जाता है। उन लोगो ने इस पिट को काम में लेने के लिए जगह जगह उसकी खुदाई करी। इस तरह खुदाई करते करते कई सालों में यहां पर नहरों का निर्माण हो गया। तब, शायद किसी को यह अंदाजा नहीं होगा कि पीट निकालने से बनी नहरों के कारण यह जगह दुनिया के नक्शे पर खूबसूरत पर्यटक स्थल के रूप में छा जाएगी। इस गांव से कुल 7.5 किलो मीटर लम्बी नहरें निकलती है।
एक फिल्म से हुआ फेमस :

वर्ष 1958 में बर्ट हांस्त्रा की डच कॉमेडी फिल्म फेनफेयर (Fanfare) की शूटिंग यहां होने के कारण गिएथूर्न विशव स्तर पर प्रसिद्ध हो गया।