PMने किया छत्तीसगढ राज्योत्सव का शुभारंभ

www.khaskhabar.com | Published : मंगलवार, 01 नवम्बर 2016, 6:08 PM (IST)

रायपुर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को छत्तीसगढ़ राज्योत्सव में शामिल होने नया रायपुर पहुंचे। यहां उन्होंने पांच दिवसीय राज्योत्सव का शुभारंभ किया। साथ ही सौर सुजला योजना की शुरूआत की और जंगल सफारी, बस रैपिड ट्रांजिट सिस्टम, एकात्म पथ का लोकार्पण और पंडित दीनदयाल उपाध्याय की प्रतिमा का अनावरण किया।
जंगल सफारी के लोकार्पण अवसर पर मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने प्रधानमंत्री मोदी को स्मृति चिन्ह के रूप में भगवान गणेश की काष्ठ निर्मित प्रतिमा भेंटकर शुभकामनाएं दी। मोदी ने जंगल सफारी में पौधरोपण भी किया। प्रधानमंत्री के हाथों राज्य को कई सौगातें मिलीं।

जंगल सफारी का विकास...
जंगल सफारी का विकास 320 हेक्टेयर में किया गया है। इसका निर्माण अक्टूबर 2012 में शुरू हुआ था। इसमें टाइगर, बीयर, हर्बीवोर और लॉयन सफारी शामिल हैं। जंगल सफारी के बीच 131 एकड से अधिक क्षेत्र में खंडवा जलाशय है। जलाशय के बीच नेस्टिंग आइलैंड का विकास किया जाएगा। यह नया रायपुर के लिए एक ऑक्सीजोन है। सफारी का निर्माण लगभग 200 करोड रूपये की लागत से इस किया गया है। इसमें 50 एकड के रकबे में टाइगर सफारी और 50 एकड में भालुओं के लिए बीयर सफारी बनाया गया है। इसके अलावा 125 एकड में चिडियाघर और 50 एकड में लायन सफारी का भी प्रावधान है। रंग-बिरंगी तितलियों के लिए बटरफ्लाई जोन का निर्माण भी किया गया है। जंगल सफारी में पशु-पक्षियों के लिए करीब 52 एकड में जलस्त्रोत भी विकसित किए गए हैं।

यह भी पढ़े :धन की तमन्ना में हजारों कछुओं की चढ़ेगी बलि

यह भी पढ़े :25 लाख की लूट का ख़ुलासा, कैसे दिया वारदात को अंजाम आप भी पढ़ें

नया रायपुर के लिए सार्वजनिक परिवहन...
मोदी ने रायपुर और नया रायपुर के बीच सार्वजनिक परिवहन की शुरूआत भी की। प्रथम चरण में 30 बसों का संचालन किया जा रहा है। इन बसों में ऑटोमेटेड टिकटिंग कंट्रोल सिस्टम भी है। सीबीडी रेलवे स्टेशन तथा राजधानी परिसर के बीच 2.25 किलोमीटर लंबाई और 200 मीटर की चौडाई में 30 करोड रूपये की लागत से एकात्म पथ का निर्माण किया गया है। सडक के मध्य 100 मीटर चौडे तथा 2.10 किलोमीटर लंबे क्षेत्र में आकर्षक उद्यान भी बनाया गया है। करीब 50 एकड के इस उद्यान में विभिन्न प्रजातियों के 6 हजार से अधिक वृक्ष समेत 23 हजार पौधों का रोपण।

एकात्म पथ पर गुलाब, सेवंती, जासवंत, मेहंदी, चम्पा, चांदनी, सदाबहार, नीम, पीपल, कचनार, कामिनी, कुसुम, बादाम, बसंत रानी, पारिजातक समेत 65 विभिन्न प्रजातियों के पौधे रोपे गए हैं। उद्यान में 1 लाख 13 हजार वर्ग मीटर घास लगाई गई हैं। उद्यान में 11 विभिन्न फव्वारे हैं। पैदल पथ तथा 4 किलोमीटर साइकिल ट्रैक है। इस पथ के बीच रोटरी ऑब्जर्वेशन टॉवर भी प्रस्तावित है। दीनदयाल उपाध्याय की 15 फीट और 14 टन की यह प्रतिमा संगमरमर एकात्म पथ में खैरागढ के चित्रकारों द्वारा मधुबनी, वरली, संथाल, गोंड, बांग्ला तथा बस्तर शैली में जीवन के विभिन्न अवसरों को चित्रों के माध्यम से उकेरा गया है।

यह भी पढ़े :धन की तमन्ना में हजारों कछुओं की चढ़ेगी बलि

यह भी पढ़े :राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्तर से जुड़े हैं नशीली दवाइयों के तार

एकात्म मानववाद के प्रवर्तक पंडित दीनदयाल उपाध्याय की 15 फीट और 14 टन की यह प्रतिमा संगमरमर निर्मित है। जयपुर (राजस्थान) के शिल्पकार अर्जुन प्रजापति ने इसका निर्माण किया है। यह प्रतिमा 150 मीटर व्यास के वृत्त वाली सडक के बीच स्थापित की गई है। पंडित दीनदयाल वृत्त प्रदेश के प्रशासिक केंद्र राजधानी परिसर के ठीक सामने है। यह वृत्त भौगोलिक दृष्टि से शहर का केंद्र है।

सौर सुजला योजना की सौगात...
प्रधानमंत्री मोदी ने छत्तीसगढ़ सहित देशभर के उन किसानों को सौर सुजला योजना की सौगात दी। इस नई योजना में ऎसे किसानों के खेतों में पानी पहुंचाने के लिए उन्हें आकर्षक अनुदान पर सौर ऊर्जा से चलने वाले सिंचाई पम्प दिए जाएंगे।

अनुसूचित जाति और जनजाति वर्ग के किसानों को साढे तीन लाख रूपये की लागत वाले तीन हॉर्सपावर का सिंचाई पम्प सिर्फ सात हजार रूपये के अंशदान पर मिलेगा। पिछडा वर्ग के किसानों को यह पम्प 12 हजार रूपये और सामान्य वर्ग के किसानों को 18 हजार रूपये में मिलेगा। वहीं पांच हॉर्सपावर वाले साढ़े चार लाख रूपये कीमत वाले सिंचाई पम्प अनुसूचित जाति और जनजाति के किसानों को 10 हजार रूपये, अन्य पिछडा वर्ग के किसानों को 15 हजार रूपये और सामान्य वर्ग के किसानों को 20 हजार रूपये में दिया जाएगा। छत्तीसगढ़ सरकार ने राज्य में वित्तीय वर्ष 2019 तक 51 हजार किसानों को इस योजना का लाभ दिलाने का लक्ष्य निर्धारित किया है।
(आईएएनएस)

यह भी पढ़े :25 लाख की लूट का ख़ुलासा, कैसे दिया वारदात को अंजाम आप भी पढ़ें

यह भी पढ़े :राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्तर से जुड़े हैं नशीली दवाइयों के तार