• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 1

न हैं शाह और न ही शाही, सिर्फ और सिर्फ उम्मीदवार

Special Reports about Pathardewa constituency BJP candidate Surya Pratap Shahi - Lucknow News in Hindi

लखनऊ से अभिषेक मिश्रा की स्पेशल रिपोर्ट। राजनीति इसे ही कहते हैं, कभी सीएम पद के दावेदार माने जाने वाले सू्र्य प्रताप शाही। जो कभी भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष हुआ करते थे और अब हैं उम्मीदवार। कभी थे स्टार सूर्यप्रताप शाही। एक दशक पहले शाही की गणना बीजेपी के दूसरी पंक्ति के बड़े नेताओं में की जाती थी।

उत्तर प्रदेश की राजनीति में एक वक्त ऐसा भी आया था जब उनके नाम की चर्चा मुख्यमंत्री के कुर्सी की दावेदारी तक जा पहुंची थी। उनके चाचा रविन्द्र किशोर शाही जनसंघ के घटक से आपातकाल के बाद तत्कालीन जनता पार्टी सरकार में मंत्री तक रहे।

सूर्य प्रताप शाही खुद पिछले दो दशकों में प्रदेश की भाजपा सरकार में न केवल कैबिनेट मंत्री रहे, बल्कि उनके पास गृह मंत्रालय, आबकारी व स्वास्थ्य जैसे महत्वपूर्ण महकमे भी रहे। देवरिया संसदीय क्षेत्र में आने वाले कसया विधानसभा क्षेत्र से शाही 1985 में पहली बार विधायक चुने गये। यह विधानसभा सीट परिसीमन के बाद कुशीनगर के नाम पर हो गयी है।

शाही वर्ष 1991 व 1996 में कल्याण सिंह के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार में रसूखदार कैबिनेट मंत्रियों में शुमार थे। यह वही दौर था जब उत्तर प्रदेश की राजनीति में शराब सिंडीकेट के बदौलत धन बल के सहारे जायसवाल बिरादरी के लोग सूबे की राजनीति को प्रभावित करने लगे थे। ऐसे लोगों को एक झटके में प्रदेश की आबकारी नीति बदलकर मालिक से सेल्समैन बना देने वाला महत्वपूर्ण फैसला जब सुबाई सरकार ने लिया था। उस समय शाही प्रदेश के आबकारी मंत्री थे। इस बदलाव में उनकी भी अहम भूमिका बतायी जाती है। उस वक्त जब शाही का काफिला इन इलाकों के सरकारी डाक बंगलों में ठहरता था तो कमिश्नर व कलेक्टर जैसे ओहदेदार आम जनता की भीड़ का हिस्सा हुआ करते थे।

एक ओर पिछले एक दशक से प्रदेश से बीजेपी की सत्ता गयी तो दूसरी ओर शाही की चमक भी फिकी पड़ने लगी। वे बीच के दिनों में भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष भी रहे। पूर्वाचल के कुछ उभरते नेताओं को शाही ने कोई खास तवज्जो नहीं दी। ऐसी ताकतें उनके खिलाफ गठजोड़ कर मुखर हो उठी। ऐसे में उनके विरोधियों का ऐसा ध्रुवीकरण हुआ कि समय के साथ शाही उनकी साजिश का शिकार होने से खुद को बचा नहीं सके। अपनी परम्परागत कसया विधानसभा सीट से शाही पिछला दो विधानसभा चुनाव हार बैठे।

पिछला विधानसभा चुनाव उन्होंने नवसृजित पथरदेवा विधानसभा सीट से लड़ा तो अपने गृह विकास खंड वाले क्षेत्र में भी उन्हें पराजय का मुंह देखना पड़ा। इस पराजय के बाद उनकी बची खुची राजनीतिक आभा भी कम होने लगी।

हालात यहां तक जा पहुंचे कि जिस मोदी लहर पर सवार होकर पिछले लोकसभा चुनाव में वे लोग भी सांसद बन बैठे जिन्होंने सपने में भी वहां तक पहुंचने की कल्पना नहीं की थी। उस दौर में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष रहे इस सख्स को कुशीनगर व देवरिया किसी संसदीय क्षेत्र से उन्हें पार्टी का टिकट नहीं मिल सका, जबकि शाही ने अपनी ओर से इसके लिए पूरा जोर लगा दिया था। इस लहर में आखिरी वक्त पर उनका टिकट कटना बड़ी राजनीतिक घटना के रूप में देखा जाने लगा। उठापटक की इन राजनीतिक घटनाओं के बीच प्रदेश की राजनीति में भी शाही हासिये पर आ गये।

इस बार के विधानसभा चुनाव में भी वे पथरदेवा सीट से भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार हैं। जहां से पूर्व मंत्री व सपा के उम्मीदवार शाकिर अली व बसपा प्रत्याशी नीरज वर्मा से होना है। एक बार फिर जब गोरखपुर- बस्ती मंडल के कई सीटों पर तमाम नये चेहरे भाजपा के चुनाव चिह्न पर मैदान में हैं तो उन्हीं के बीच श्री शाही भी भले ही शामिल नजर आ रहे हैं लेकिन सच यही है कि भाजपा का यह स्टार प्रचारक आज महज सामान्य उम्मीदवार के तौर पर चुनावी समर में घिरा दिख रहा है।

[# ये हैं लोगों से 20 करोड़ से ज्यादा ठगने वाले बाप-बेटे ]

[# अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे]

यह भी पढ़े

Web Title-Special Reports about Pathardewa constituency BJP candidate Surya Pratap Shahi
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: special, reports, pathardewa, constituency, bjp, candidate , surya , pratap, shahi, among, high profile, cabinet ministers, , hindi news, news in hindi, breaking news in hindi, lucknow news, lucknow news in hindi, real time lucknow city news, real time news, lucknow news khas khabar, lucknow news in hindi
Khaskhabar UP Facebook Page:
स्थानीय ख़बरें

उत्तर प्रदेश से

प्रमुख खबरे

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2022 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved