• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 1

अमित शाह की उद्धव से अपील, न तोडें गठबंधन और करें पुनर्विचार

news maharashtra bjp shiv sena gave their respective proposals - India News in Hindi

नई दिल्ली/मुंबई। महाराष्ट्र में शिवसेना और भारतीय जनता पार्टी के बीच सीटों के बंटवारे को लेकर चल रही तनातनी के बीच गठबंधन बचाने के लिए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने सोमवार को उद्धव ठाकरे से फोन पर बात की है। शाह ने उद्धव से अपील की है कि गठबंधन को बचाया जाए और उन 59 सीटों, जिन पर शिवसेना कभी नहीं जीती, उन पर पुनर्विचार किया जाएगा। बहरहाल, दोनों ही दल 25 वर्ष पुराने गठबंधन को बचाने की कोशिशों में लगे हुए हैं। जानकारी के अनुसार, शाह ने सोमवार सुबह शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे से फोन पर बात की।

बताया जा रहा है कि अमित शाह ने उद्धव से गठबंधन को बचाने की अपील की है। साथ ही बीजेपी अध्यक्ष ने उद्धव से सीट बंटवारे पर पुनर्विचार करने की भी अपील की है। शाह ने शिवसेना प्रमुख से लचीला रूख अपनाने की अपील करते हुए कहा कि उद्धव राज्य की 59 विधानसभा सीटों पर फिर से विचार करें। ये 59 सीट शिवसेना ने कभी नहीं जीती हैं। ऎसे में शिवसेना को सीट बंटवारे पर फिर से विचार करना चाहिए। शाह ने यह भी कहा कि भारतीय जनता पार्टी राज्य में हारने वाली 19 सीटों पर फिर से विचार करने के लिए तैयार है।

बता दें कि महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव के लिए उद्धव ठाकरे ने अपनी गठबंधन सहयोगी भाजपा को 119 सीटों पर लडने का आखिरी प्रस्ताव दिया है। भाजपा ने इस प्रस्ताव को सिरे से खारिज कर दिया है। आगे की रणनीति को लेकर दिल्ली में भाजपा की केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक भी हुई, जिसमें खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी शामिल हुए। पार्टी सूत्रों ने बताया कि भाजपा की महाराष्ट्र इकाई के नेता शिवसेना नेतृत्व के साथ बातचीत के नए दौर की उम्मीद के साथ सोमवार को मुंबई जाएंगे। अगले माह होने जा रहे महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा और शिवसेना ने अपने उम्मीदवारों का चयन लगभग कर लिया है लेकिन सूची की घोषणा नहीं की है। उन्हें गठबंधन को बचाने के लिए आखिरी प्रयास के नतीजे का इंतजार है।

भाजपा के महाराष्ट्र मामलों के प्रभारी राजीव प्रताप रूडी ने यहां पार्टी की केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक के बाद कहा कि यह तय किया गया कि सीटों के बंटवारे पर और गठबंधन बनाए रखने के लिए एक सम्मानजनक तथा परिपक्व तालमेल सुनिश्चित करने के लिए प्रयास किए जाने चाहिए। भाजपा विधानसभा चुनाव शिवसेना और गठबंधन के अन्य सहयोगियों के साथ मिल कर लडना चाहती है। समझा जाता है कि केंद्रीय चुनाव समिति ने 180 प्रत्याशियों के नामों पर चर्चा के बाद 120 उम्मीदवारों के नाम चुने हैं।

इसके बाद, भाजपा को 119 सीटें देने की उद्धव ठाकरे की जिद के संदर्भ में रणनीति पर चर्चा के लिए भाजपा संसदीय दल की औपचारिक बैठक हुई। दोनों ही बैठकें 3 घंटे से अधिक चलीं और इनमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, केंद्रीय मंत्री सुषमा स्वराज, नितिन गडकरी, जुआल ओराम के अलावा शाहनवाज हुसैन, संगठन मंत्री रामलाल आदि मौजूद थे। अरूण जेटली, वेंकैया नायडू किसी कारण से बैठक में हिस्सा नहीं ले सके। समझा जाता है कि शाह ने भाजपा की बैठकों के बीच उद्धव से बात की लेकिन इस बारे में आधिकारिक तौर पर कुछ नहीं कहा गया। कुछ भाजपा नेताओं ने स्पष्ट किया कि अगर शिवसेना नहीं मानती तो पार्टी अपने दम पर चुनाव लडने के लिए तैयार है। शिवसेना की ओर से भाजपा को 119 से ज्यादा सीटें दिए जाने से उद्धव के इनकार के कुछ घंटों बाद भाजपा ने अपने गठबंधन सहयोगी से कहा कि आपसी रिश्ते को बनाए रखना दोनों दलों का कर्तव्य है और मीडिया के जरिए अपनी बात रखने के बजाय मुद्दों को सुलझाना चाहिए।

भाजपा का कहना है कि शिवसेना "थोडा त्याग" करे, क्योंकि भाजपा चुनाव जीतने और गठबंधन बचाने के लिए अतीत में "त्याग" करती रही है। इससे पहले, उद्धव ठाकरे की ओर से भाजपा को की गई 119 सीटों की पेशकश केंद्र में सत्ताधारी पार्टी ने ठुकरा दी थी। शिवसेना की इस पेशकश के बाद दिन में भाजपा ने कहा कि इसमें "कुछ भी नया नहीं" है। भाजपा ने उम्मीद जताई कि मामले को आपस में सुलझाया जा सकता है। वहीं, मुंबई में शिवसेना ने साफ कर दिया कि वह भाजपा को अब और कोई रियायत नहीं देगी। उसने कहा कि कुल 288 सीटों में से भाजपा को 119 से ज्यादा सीटें नहीं दी जाएंगी और सीट बंटवारे पर जारी गतिरोध खत्म करने की यह "आखिरी कोशिश" है। मुम्बई में भाजपा नेताओं ने कहा कि वे 135 सीटों की अपनी पहले की मांग से पांच सीटें कम यानी 130 सीटें भी स्वीकार करने के लिए तैयार हैं। शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को यह याद भी दिलाया कि पार्टी के दिवंगत सुप्रीमो बाल ठाकरे ने 2002 के गुजरात दंगों के बाद उनका समर्थन किया था।

यह भी पढ़े

Web Title-news maharashtra bjp shiv sena gave their respective proposals
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: maharashtra bjp, shiv sena, proposals, political parties, political news
Khaskhabar.com Facebook Page:

प्रमुख खबरे

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2023 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved