• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
2 of 2

मस्जिद में सिर्फ महिलाए पढती हैं नमाज,ऎसा क्यों

यहां तक की इस मस्जिद में होने वाली नमाज में भी पुरूष हिस्सा नहीं ले सकते हैं। आमतौर पर देखा जाता है कि किसी भी मस्जिद में पुरूष इमाम होते हैं, किसी भी तरह की घोषणा करते भी पुरूष ही करते हैं और अजान भी पुरूष देते हैं। लेकिन डेनमार्क की राजधानी कोपेनहेगन में बनी इस मस्जिद में यह सभी काम महिलाएं करेंगी।

टेलीग्राफ की एक खबर के मुताबिक इस मस्जिद की शुरूआत शेरीन खानकन नाम की महिला ने की है। शेरीन के पिता सीरियाई मुस्लिम हैं और मां इसाई हैं। शेरीन ने इस मस्जिद को मरियम नाम दिया है। यूं तो हर रोज महिलाएं और पुरूष मस्जिद की हर गतिविधि में एक साथ हिस्सा ले सकते है, लेकिन उन्हें शुक्रवार को जुमे की नमाज पढने का अधिकार नहीं है।

बताया जा रहा है कि इस मस्जिद में चार इमाम होंगे और ये चारों महिलाएं ही होंगी। शेरीन खुद भी इमाम की भूमिका अदा करेंगी। शेरीन डेनमार्क में जानी-मानी लेखिका हैं। शेरीन का मानना है कि इस्लाम ही नहीं बल्कि यहूदी, इसाई और अन्य धमोंü के संस्थानों में भी पितृसत्तात्मकता मौजूद है। इसे दूर करने के लिए ऎसे कदम उठाना जरूरी है।

यह भी पढ़े

Web Title-The men kept out of the mosque, reading the prayers only women But why
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: men, kept, mosque, reading, prayers, only women, denmark
Khaskhabar.com Facebook Page:

अजब - गजब

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2022 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved