• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 1

असांज को आस्ट्रेलिया बुलाना चाहते हैं पिता, सरकार के सामने रखा सुझाव

Want to call Asang to Australia, father, suggestion placed before the government - World News in Hindi

कैनबरा। विकिलीक्स के संस्थापक जुलियन असांज के पिता ने आस्ट्रेलिया की सरकार से अपने बेटे की मदद करने की गुजारिश की है और उन्हें (असांज को) वापस अपने देश आस्ट्रेलिया बुलाने का सुझाव दिया है। रविवार को मीडिया ने इसकी जानकारी दी।

द गार्जियन की रिपोर्ट के अनुसार मेलबर्न में रहने वाले जॉन शिफ्टन ने आस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरीसन से 11 अप्रैल को हुई असांज की गिरफ्तारी के मामले में दखल देने की गुजारिश की है।

47 वर्षीय असांज को लंदन के इक्वाडोर दूतावास से गिरफ्तार करने के बाद ब्रिटिश हिरासत में रखा गया है। आरोप है कि विकिलीक्स के जरिए उन्होंने अमेरिकी सरकार की गुप्त जानकारी लीक कर दी थी और अमेरिका प्रत्यर्पित होने के डर से वह सात वर्षो तक लंदन के इक्वाडोर दूतावास की शरण में रह रहे थे।

शिफ्टन ने दैनिक पत्रिका हेराल्ड सन से रविवार को कहा, "मॉरीसन और विदेश मंत्रालय व व्यापार विभाग (डीएफएटी) को इस मामले पर कुछ करना चाहिए।"

उन्होंने कहा, "इस मामले को बातचीत के जरिए सुलझाया जा सकता है। विदेश व व्यापार विभाग के एक अधिकारी और एक सीनेटर के बीच जुलियन के प्रत्यपर्ण के लिए कुछ बातचीत हुई है।"

शनिवार को युनाइटेड किंगडम के 70 से भी ज्यादा सांसदों ने पत्र पर हस्ताक्षर कर गृह मंत्रालय से असांज के स्वीडन प्रत्यपर्ण को प्राथमिकता देने की मांग की थी।

--आईएएनएस


ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-Want to call Asang to Australia, father, suggestion placed before the government
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: wikileaks julian asang australia australian government father suggestion bratain london जूलियन असांज विकिलीक्स संस्थापक आस्ट्रेलिया केनबरा आस्ट्रेलियन सरकार ब्रिटेन लंदन, hindi news, news in hindi, breaking news in hindi, real time news
Khaskhabar.com Facebook Page:

प्रमुख खबरे

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2019 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved