• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 2

‘रोहिंग्या मुसलमान न आतंकवादी और न ही भारत की सुरक्षा के लिए खतरा’

कुआलालंपुर। बांग्लादेश के कॉक्स बाजार इलाके में एक शरणार्थी शिविर में पले-बढ़े 23 वर्षीय रोहिंग्या मोहम्मद इमरान ने कहा कि भारत रोहिंग्या मुसलमानों को राष्ट्रीय सुरक्षा के खतरे के तौर पर देख रहा है जो दिल को दुखाने जैसा है। इमरान के परिवार ने म्यांमार में होने वाले जुल्म से बचने के लिए बांग्लादेश में शरण ली हुई है। एक बेहतर जीवन की तलाश में दो महीने पहले बांग्लादेश से मलेशिया पहुंचे इमरान ने कहा, मैंने अखबारों में पढ़ा है। भारत सरकार उन लोगों को वहां वापस भेजना चाह रही है, जहां वे मारे जा सकते हैं। इमरान समुद्र के रास्ते से मलेशिया पहुंचे। इसके लिए उन्हें एक एजेंट को दो हजार डालर देने पड़े। हाल ही में, भारत सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से कहा कि देश में लगभग 40,000 रोहिंग्या मुस्लिम रह रहे हैं, जिनसे राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरा है और उन्हें निर्वासित किया जाएगा।

भारत के रुख ने कई रोहिंग्या को आश्चर्यचकित किया, जिन्हें नई दिल्ली से समर्थन की उम्मीद थी। इमरान ने कहा, यह समय भारत के लिए क्षेत्र में एक बड़ी भूमिका निभाने का है। उसे रोहिंग्या मुसलमानों के लिए अपना समर्थन दिखाना चाहिए।उन्होंने कहा, भारत को रोहिंग्या मुसलमानों को निर्वासित नहीं करना चाहिए। रोहिंग्या लोग असहाय हैं, जिनके पास घर कहलाने के लिए कोई जगह नहीं है। वे आतंकवादी नहीं हैं, वे सिर्फ शांति से रहना चाहते हैं। मैं हमेशा भारत की यात्रा करना चाहता था। हम भारत को अपना दोस्त मानते हैं, लेकिन संकट पर सरकार का मौजूदा रवैया निराश करने वाला है।

इमरान ने कहा कि उनकी दो विवाहिता बहनें हैं, जो कॉक्स बाजार के शिविर में अपने ससुराल वालों के साथ रहती हैं। वह जब दो साल के थे, तभी उनके माता-पिता को म्यांमार के राखिने राज्य में अपने घर से भागने के लिए मजबूर किया गया था। तब से उनका परिवार कॉक्स बाजार के कुतोप्लोंग शरणार्थी शिविर में रह रहा है, जहां की जिंदगी दुखदायी है। इमरान ने कहा, हम एक खुली जेल में रह रहे हैं। हमारे पास अपनी कोई पहचान नहीं है। हम केवल शरणार्थी हैं, जिनके पास न तो घर है और न ही देश। इमरान ने म्यांमार में रोहिंग्या, काचीन और अन्य जातीय अल्पसंख्यक समूहों के खिलाफ कथित अत्याचारों और अपराधों के मुद्दे पर मलेशिया में परमानेंट पीपुल्स ट्राइब्यूनल (पीपीटी) की कार्रवाई में शिरकत की। पीपीटी म्यांमार में हिंसा की समाप्ति के लिए अपनी जानकारियों को अंतर्राष्ट्रीय संस्थाओं, खासकर संयुक्त राष्ट्र के साथ साझा करेगा।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-Rohingyas Muslims are not terrorists, nor a threat to India security
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: mohammad imran, rohingya, refugee camp in bangladesh, cox bazar, rohingya muslims, india security, terrorists, hindi news, news in hindi, breaking news in hindi, real time news
Khaskhabar.com Facebook Page:

प्रमुख खबरे

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2021 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved