• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 1

श्रीलंका में सड़कों पर उतरे लोग, सरकार को कुर्सी छोड़ने का दिया अल्टीमेटम

People took to the streets in Sri Lanka, gave an ultimatum to the government to give up the chair - World News in Hindi

कोलंबो । संकटग्रस्त श्रीलंका गुरुवार को लगभग पूरी तरह से ठप रहा, क्योंकि परिवहन से लेकर बैंकिंग तक लगभग सभी क्षेत्रों का प्रतिनिधित्व करने वाली 1,000 से अधिक सरकारी और निजी क्षेत्र की ट्रेड यूनियनों ने सरकार से इस्तीफा देने की मांग को लेकर हड़ताल की।

सरकार को 7 दिन का अल्टीमेटम जारी करते हुए, विदेशी निवेशित कपड़ा इंडस्ट्री सहित ट्रेड यूनियनों के समूह के सदस्य काम से दूर रहे और सरकार के इस्तीफे की मांग को लेकर सड़कों पर उतर आए।

कोई ट्रेन नहीं चलने और निजी बस मालिकों ने अपने वाहनों को सड़क से दूर रखने से परिवहन पूरी तरह से ठप रहा।

ट्रेड यूनियन के सदस्य, जिन्होंने अपने कार्यस्थलों के सामने विरोध शुरू किया, फिर राष्ट्रपति कार्यालय तक मार्च किया, जहां 20 दिनों से लगातार विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है।

बैंकों, रेलवे, शिक्षा, बंदरगाह, बिजली, डाक, कपड़ा इंडस्ट्री और चाय बागान श्रमिकों का प्रतिनिधित्व करने वाले ट्रेड यूनियनों ने विरोध प्रदर्शन में हिस्सा लिया, जबकि डॉक्टर और चिकित्सा क्षेत्र भी ड्यूटी के दौरान ट्रेड यूनियन की कार्रवाई में शामिल हुए।

कलेक्टिव ऑफ ट्रेड यूनियन्स एंड मास ऑर्गनाइजेशन के रवि कुमुदेश ने कहा, "हमने सरकार को इस्तीफा देने के लिए 6 मई तक का समय दिया है और अगर सरकार ने लोगों की नहीं सुनी, तो हमें 6 मई को हड़ताल करना होगा।"

सीलोन टीचर्स यूनियन के महासचिव जोसेफ स्टालिन ने कहा, "अगर सरकार कुर्सी छोड़ने को तैयार नहीं है, तो हमें उन्हें बाहर करना होगा। लोग राजपक्षे को घर जाने के लिए कह रहे हैं और उनके पास अब कोई जनादेश नहीं है। ट्रेड यूनियनों ने मांग की है कि अगर सरकार पद नहीं छोड़ने का फैसला करती है, तो ट्रेड यूनियन कार्रवाई का विस्तार किया जाएगा।"

चूंकि द्वीप राष्ट्र स्वतंत्रता के बाद के इतिहास में अपने सबसे खराब आर्थिक संकट का सामना कर रहा है। डॉलर की कमी और मुद्रास्फीति के कारण आवश्यक वस्तुओं की बड़ी कीमतों में बढ़ोतरी के साथ, लोग राजपक्षे सरकार को पद छोड़ने की मांग को लेकर सड़कों पर उतर आए हैं।

सार्वजनिक विरोध, आर्थिक संकट और धार्मिक नेताओं की मांग के दबाव में, राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे अपने बड़े भाई महिंदा राजपक्षे की अध्यक्षता वाली कैबिनेट को रद्द करने के बाद एक सर्वदलीय सरकार बनाने के लिए सहमत हो गए हैं।

बुधवार को, उन्होंने सर्वदलीय सरकार पर चर्चा शुरू करने के लिए सभी राजनीतिक दलों को शुक्रवार को उनसे मिलने के लिए आमंत्रित किया, लेकिन उन्हें अभी तक सकारात्मक प्रतिक्रिया नहीं मिली है।

हालांकि, महिंदा राजपक्षे सत्ता में बने रहने पर जोर दे रहे हैं और उन्होंने कहा है कि वह बनने वाली किसी भी नई सरकार के मुखिया होंगे।

--आईएएनएस

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-People took to the streets in Sri Lanka, gave an ultimatum to the government to give up the chair
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: people took to the streets in sri lanka, gave an ultimatum to the government to give up the chair, sri lanka, ultimatum, sri lanka government, hindi news, news in hindi, breaking news in hindi, real time news
Khaskhabar.com Facebook Page:

प्रमुख खबरे

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2022 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved