• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 1

ट्रंप के खिलाफ महाभियोग खतरे को इतिहासकारों ने वाटरगेट से भी बुरा बताया

Donald Trumps emergency appeal after court rules he must turn over eight years of personal and corporate taxes to Manhattan DA - World News in Hindi

न्यूयॉर्क। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के व्हाइट हाउस में महाभियोग की घंटी घनघनाने लगी है और एक दूसरा व्हिसलब्लोअर सामने आया है, जिसके जरिए यूक्रेन के साथ ट्रंप की सौदेबाजी और उनके राजनीतिक विरोधी जो बिडेन के खिलाफ कीचड़ उछालने का उनकी तरफ से आग्रह करने की बात सामने आई है। ऐसे में अमेरिका के शीर्ष कानूनी दिमागों ने बड़े सवालों की जांच-पड़ताल शुरू कर दी है, जो वाशिंगटन डी.सी. में तैर रहे हैं।

क्या ट्रंप द्वारा किसी दूसरे देश से कीचड़ उछालने के लिए कहा जाना महाभियोग चलाने लायक अपराध है? क्या सदन के पास ट्रंप के खिलाफ महाभियोग चलाने के लिए पर्याप्त सबूत हैं? अमेरिका के इतिहास में इस क्षण का क्या अर्थ है? क्या यह वह कारण है, जिसके लिए महाभियोग चलाया जाना चाहिए?

पुलित्जर पुरस्कार विजेता और न्यूयॉर्क टाइम्स के बेस्टसेलिंग प्रेसीडेंशियल इतिहासकार और पत्रकार, जॉन मीचैम ने रविवार रात एमएसएनबीसी से कहा, "मुझे लगता है कि यह 'वाटरगेट' मामले की तरह या उससे बड़ा मामला है।"

रविवार को अमेरिकी मीडिया में कानूनी विशेषज्ञों और इतिहासकारों की ओर से आई कुछ टिप्पणियों को हम यहां दे रहे हैं।

जॉन मीचैम (प्रेसीडेंशियल इतिहासकार) : "यह कोई भावनात्मक विषय नहीं है। यह विचार के बारे में नहीं है। यह तथ्य के बारे में है, हमें देश में एक प्रश्न का उत्तर ढूढ़ना है, और क्या हम इस तथ्य को स्वीकारने को तैयार हैं? मैं कहूंगा कि यह एंड्रू जॉन्सन से अधिक गंभीर है। एंड्र जॉन्सन के खिलाफ महाभियोग के इर्द-गिर्द के मुद्दा अस्तित्व से संबंधित थे। यह श्वेत वर्चस्व के बारे में था, गृहयुद्ध के फैसले के बारे में था। मुझे लगता है कि यह वाटरगेट के जैसा या उससे बड़ा मामला है।"

यूजीनी रॉबिन्सन (वाशिंगटन पोस्ट के स्तंभकार) : "यह व्यवस्था का परीक्षण करने का एक मौका मुहैया कराता है, क्योंकि यहां एक ऐसा व्यक्ति (ट्रंप) है, जो हमेशा झूठ बोलता है और कभी-कभी महत्वपूर्ण सच्चाई उगल देता है। और इसलिए सदन पूरी प्रक्रिया को कितनी गंभीरता से लेता है, यह देखना होगा? मेरा अनुमान है कि हम इस कथ्य का परीक्षण करेंगे कि क्या हम राष्ट्रपति की बातों को गंभीरता से ले सकते हैं, जो कि अमेरिका के लिए यह सवाल पूछना एक हास्यास्पद बात है। यदि कोई व्यक्ति जो शब्द बोल रहा है उसपर आपको भरोसा नहीं है, तो आप उसे गंभीरता से नहीं ले सकते।"

माया विली (न्यूयॉर्क के मेयर की पूर्व वकील) : "यह एक स्वीकारोक्ति है कि दोनों चीजें हैं, एक तो चीजें घट रही हैं और वह भी बुरी। उनकी (ट्रंप) स्थिति आज वैसी नहीं है, जो 10 दिन पहले थी।"

मेलिसा मुरे (कानून की प्रोफेसर, न्यूयॉर्क यूनिवर्सिटी) : "संविधान इस बारे में कुछ नहीं कहता कि (सीनेट में) मतदान कैसे होना चाहिए। लेकिन इस तरह की चीजें होती हैं और उसे वायस फॉर रोल काल वोट कहते हैं, जिसमें आप सीनेटरों के नाम लेते हैं, और उसके बाद आप अपना वोट करते हैं। सीनेट के नियम में गुप्त मतदान का प्रावधान नहीं है।"

जॉन फ्लैनरी (पूर्व संघीय अभियोजक) : "यह विदेशी नीति का मुद्दा नहीं है। यह उनके निर्वाचन को लेकर है। यह कीचड़ उछालने के बारे में है, जो आम चुनाव में उनके एक प्रमुख विषय के रूप में सामने आया था। नीति के बारे में बात करने और ऐसी चीजों के बारे में बात करने में एक बड़ा अंतर है, जो उनके व किसी चुनाव के अनुकूल हो। हमारे में पास सबूत है, जिसके कारण यह सब शुरू हुआ और वह व्हिसलब्लोअर है। यह एक ऐसा मामला है, जिसे पूरा देश जानता है।"

(आईएएनएस)

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-Donald Trumps emergency appeal after court rules he must turn over eight years of personal and corporate taxes to Manhattan DA
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: donald trump, donald trump emergency appeal after court rules, manhattan da, world news, world news in hindi, hindi news, news in hindi, breaking news in hindi, real time news
Khaskhabar.com Facebook Page:

प्रमुख खबरे

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2019 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved