• Aapki Saheli
  • Astro Sathi
  • Business Khaskhabar
  • ifairer
  • iautoindia
1 of 1

जिस कोऑपरेटिव बैंक के डॉयरेक्ट हैं अमित शाह, नोटबंदी के समय जमा हुए 745 करोड़ : RTI

RTI: Bank With Amit Shah as Director Collected Highest Amount of Banned Notes Among Coop Banks - India News in Hindi

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह पर बेहद गंभीर आरोप लगाए जा रहे हैं। एक आरटीआई के हवाले से आरोप है कि नोटबंदी के दौरान गुजरात के 370 कोऑपरेटिव बैंकों में से एक बैंक में 745 करोड़ रुपये जमा कराया गया। अहमदाबाद जिला सहकारी बैंक में सबसे ज्यादा 745 करोड़ जमा कराया गया। इस बैंक के डायरेक्टर अमित शाह और उनके दो सहयोगी थे।

कांग्रेस अध्यक्ष का बीजेपी अध्यक्ष पर करारा हमला...

नोटबंदी के दौरान के इस मामले पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह पर हमलावर ट्वीट किया है। उन्होंने लिखा है, ‘अहमदाबाद जिला कोऑपरेटिव बैंक के डायरेक्टर, अमित शाह जी बधाई हो। आपके बैंक ने (नोटबंदी के बाद) पुराने नोटों को बदलकर नया करने में बाजी मार ली है। पांच दिनों में 750 करोड़।’ उन्होंने आगे लिखा है कि उन लाखों भारतीयों का आपको सलाम जिनकी ज़िंदगी नोटबंदी की वजह से बर्बाद हो गई।

कांग्रेस ने भी खड़े किए कई सवाल...

कांग्रेस के मुताबिक आरटीआई में खुलासा हुआ है कि 10 से 14 नवंबर के बीच अहमादबाद जिला कोऑपरेटिव बैंक में 745 करोड़ रुपए के पुराने नोट जमा कराए गए। वहीं पार्टी ने आगे कहा कि नोटबंदी के दौरान गुजरात के 11 जिला सहकारी बैंकों से 3,118 करोड़ रुपए जमा कराए गए, सभी बैंकों का बीजेपी के बड़े नेताओं से कनेक्शन है। कांग्रेस ने बीजेपी से सवाल पूछा है कि आखिर कोऑपरेटिव बैंक में जमा पैसा किसका काला धन है। कांग्रेस ने अमित शाह से जवाब मांगा है और जांच की मांग की है।

सुरजेवाला ने कहा कि बीजेपी और उनके अध्यक्ष शाह घबराए हुए हैं और पोल खुलने के डर से मीडिया पर दबाव डाल कर एजेंडा बदलने की कोशिश कर रहे हैं। अहमदाबाद जिला कोऑपरेटिव बैंक ने नोटबंदी को नोटबदली का धंधा बना दिया था। नोटबंदी इस देश का सबसे बड़ा घोटाला था। सुरजेवाला ने कहा कि ये बात राहुल गांधी समेत सभी लोगों ने कही थी, लेकिन तब साक्ष्य नहीं थे। अब साक्ष्य आ गया है। इस पूरे मामले की जांच होनी चाहिए।

आपको बता दें कि 7 मई 2018 को आरटीआई के जवाब में ये बत सामने आई है। कांग्रेस ने पूछा है कि ये किसका कालाधन था, इसका जवाब मोदी और अमित शाह को देना होगा। कांग्रेस ने ये भी कहा इससे पहले नोटबंदी से ठीक पहले बीजेपी ने करोड़ो की जमीन खरीदी थी। सुरजेवाला ने कहा कि क्या मोदी, भागवत, शाह सार्वजनिक करेंगे कि अब तक कितनी प्रोपर्टी खरीदी गई. चेक से खरीदा या कैश से!

नाबार्ड ने भी दी है मामले पर सफाई...

मामले पर कोऑपरेटिव बैंकों की निगरानी करने वाली संस्था नाबार्ड का कहना है कि अहमदाबाद जिला सहकारिता बैंक ने आरबीआई गाइडलाइन्स के मुताबिक केवाईसी का पालन किया। नोटबंदी के दौरान बैंक ने नोट बदलने की प्रक्रिया का पालन किया। संस्था ने आगे कहा है कि नोटबंदी के दौरान गुजरात में महाराष्ट्र और केरल की तुलना में कम पैसे जमा हुए।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

यह भी पढ़े

Web Title-RTI: Bank With Amit Shah as Director Collected Highest Amount of Banned Notes Among Coop Banks
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)
Tags: bank, amit shah, director collected, highest amount, banned notes, among, coop banks, rti, cooperative bank, bharatiya janata party, rs 500 and rs 1, 000 notes, adcb, hindi news, news in hindi, breaking news in hindi, real time news
Khaskhabar.com Facebook Page:

प्रमुख खबरे

आपका राज्य

Traffic

जीवन मंत्र

Daily Horoscope

Copyright © 2018 Khaskhabar.com Group, All Rights Reserved